Share
मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत को आग्रह किया की हरेला पर्व उत्साह के साथ मनाया जाना चाहिए

मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत को आग्रह किया की हरेला पर्व उत्साह के साथ मनाया जाना चाहिए

हरीश रावत ने हरेला पर्व को मनाते हुए अपने घर में हरेला पर पेड़ लगाया #भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत को आग्रह किया कि हरेला पर्व उत्साह के साथ मनाया जाना चाहिए #कांग्रेस कमेटी कार्यालय देहरादून में कांग्रेसजनों ने हरेला पूजन एवं कन्या पूजन #चमोली NEWS #देहरादून के अन्तर्गत मोटर मार्ग बन्द

देहरादून के अन्तर्गत मोटर मार्ग बन्द

देहरादून 16 जुलाई 2017

जिला आपातकालीन परिचालन केन्द्र देहरादून से प्राप्त सूचना के अनुसार लो.नि.वि प्रा0 खण्ड देहरादून के अन्तर्गत कार्लीगाड सरोना मोटर मार्ग, एल.के.डी मोटर मार्ग, हाथीबड़कला मालसी मोटर मार्ग बन्द हैं। पी.एम.जी.एस.वाई सिंचाई खण्ड देहरादून सहस्त्रधारा चामासारी मोटर मार्ग, मालदेवता मोटर मार्ग अवरूद्ध हैं। मार्ग खोलने का कार्य जे.सी.बी द्वारा गतिमान है।
अधिशासी निदेशक आपदा न्यूनीकरण एवं प्रबन्धन केन्द्र डाॅ पीयूष रौतेला ने अवगत कराया है कि जनपद में 17 जुलाई 2017 देहरादून, उत्तकाशी व चमोली जनपदों के कुछ स्थानों पर भारी वर्षा (64.5-115.6 मिमी) होने की सम्भावना व्यक्त की गयी है।
उन्होने सभी जिलाधिकारियों को आपदा प्रबन्धन सम्बन्धित समस्त सेवाओं को तत्पर रखने जाने के साथ किसी भी आपदा की स्थिति में प्रतिवादन का उच्च स्तर बनाये रखने हेतु सम्बन्धित अधिकारियों को निर्देशित करने को कहा।

देहरादून 16 जुलाई 2017

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने मोहनरी अपने गांव अल्मोड़ा में हरेला पर्व को मनाते हुए अपने घर में हरेला पर पेड़ लगाया व भाजपा सरकार के मुख्यमंत्री त्रिवेन्द्र रावत को उसकी फोटो भेजकर उनसे आग्रह किया कि राज्य में हरेला पर्व उतने ही उत्साह के साथ मनाया जाना चाहिए जितना उनकी सरकार के समय इसके प्रयास किए गए थे। उन्होने कहा कि मैंने मुख्यमंत्री की अपील स्वीकार कर अपने गांव जाकर हरेला में भागीदारी की है।

वित्त मंत्री, श्री प्रकाश पंत के पर आवास पहाड़ी गीतों पर नृत्य/छलिया नृत्य व नाटक

देहरादून। आज दिनांक 16 जुलाई 2017, हरियाली व सुख समृद्धि के प्रतीक हरेला पर्व के शुभअवसर पर माननीय वित्त मंत्री, श्री प्रकाश पंत जी के शासकीय आवास 17, न्यू कैंट रोड पर ग्रामीण एवं पर्वतीय उत्थान समिति द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम व वृक्षारोपण का आयोजन किया गया। देवभूमि उत्तराखण्ड ने अनादि काल से पूरे देश-दुनिया को संस्कृति के द्वारा पर्यावरण संरक्षण का संदेश दिया है। राज्य भर में मनाया जाने वाला हरेला पर्व इसी बात का सूत्रधार है कि पर्यावरण रहेगा तो ही जीवन रहेगा। कार्यक्रम के दौरान ग्रामीण एवं पर्वतीय उत्थान समिति द्वारा हरेला पर्व की महŸा को समझाने के लिये पहाड़ी गीतों पर नृत्य/छलिया नृत्य व नाटक प्रस्तुत किया गया। नृत्य व नाटकां के माध्यम से समिति ने पर्यावरण को जागरूक करने का संदेश दिया। कार्यक्रम के दौरान मा0 मंत्री जी व उनकी धर्मपत्नी श्रीमती चंद्रा पंत द्वारा समिति के सदस्यों के साथ वृृक्षारोपण किया। मा0 मंत्री जी ने कार्यक्रम में उपस्थित लोगों को सम्बोधित करते हुये कहा, ”पर्यावरण के संरक्षण व पारिस्थितिकीय संकट को देखते हुये हरेला पर्व को एक अभियान के तहत लेकर मनाना होगा। मा0 मंत्री जी ने कहा कि आज हम हरेला के पावन अवसर पर जिस पेड़ को लगा रहे हैं, हम संकल्प लें कि उसके पालन पोषण की भूमिका भी हम स्वयं निभाएं, जिससे वह एक वृक्ष के रूप में स्थापित होकर हमारे पर्यावर्णीय संतुलन को बनाने में सहायक हो सके। हमें याद रखना होगा कि यह पर्व और यह वृक्षा रोपण कार्यक्रम केवल एक औपचारिकता बनकर ही न रह जाये। यह एक अभियान बने और पूरे विश्व को हरियाली और समृद्धि का संदेश दे।“
क्रार्यक्रम के अवसर पर श्री भूपेश पंत, पिथौरागढ़ जिला भाजपा अध्यक्ष श्री विरेन्द वल्दिया, श्री भास्कर नैथानी, पूर्व दायित्वधारी श्री अजेन्द्र अजय, भाजपा किसान मोर्चा के देहरादून महानगर अध्यक्ष श्री पवन चौधरी, श्री राज चौधरी, श्री कैलाश पन्त व ग्रामीण एवं पर्वतीय उत्थान समिति की अध्यक्ष गीता जोशी, सचिव ममता पन्त, व अन्य सदस्य मौजूद रहे।

जिला सूचना अधिकारी हरिद्वार ने आम का वृक्ष लगाया

वृक्षारोपण से सुरक्षित होगा भविश्य 04
हरिद्वार। शासकीय निर्देशांे के क्रम में हरेला पर्व के अवसर पर जिला सूचना कार्यालय हरिद्वार में जिला सूचना अधिकारी अर्चना ने अपने कार्यालय कर्मियों के साथ सूचना कार्यालय परिसर में आम का वृक्ष लगाया। उन्होंने कहा कि हरिद्वार शहर में वृक्ष तथा हरियाली काफी कम हो रही है। आज हमारी युवा पीढ़ी शिक्षित है और मनुष्य और पृथ्वी के लिए वृक्षों के महत्व को समझते हंै। सभी युवा वृक्षों को बढ़ाने के लिए पेड़ अवश्य लगायें। उन्होंने कहा कि अपने कार्यलय के साथ साथ वह व्यक्तिगत रूप् से भी पर भी लोगांे को वृक्षों का महत्व बताने व वृक्षारोपण के प्रति जागरूक करने का कार्य करती हैं। हरिद्वार जैस जल संसाधन से परिपूर्ण जिले में पानी की समस्या होना हमारे लिये चेतावनी है कि सभी प्र्यावरण संरक्षण जल संरक्षण पर तेज गति से काम करें। उन्होंने परिसर में लगाये पेड़ की सुरक्षा के प्रति भी उत्तरदायित्व निर्वहन किये जाने की बात कही। साथ ही अपने अधीनस्थों को भी पेड़ की सुरक्षा के लिए निर्देशित किया।

जिलाधिकारी ने दिये मजिस्ट्रीयल जांच के आदेष

हरिद्वार। जिलाधिकारी दीपक रावत ने 15 जलाई 2017 को सर्वानंद घाट क्षेत्र में गोली चलने से हुई व्यक्ति की मौत की घटना के मजिस्ट्रीयल जांच के आदेश दिये हैं। जिलाधिकारी ने अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व ललित नारायण मिश्रा को जांच आधिकारी नामित करते हुए निष्पक्ष जांच के आदेश दिये हैं। जिलाधिकारी ने निर्देश दिये हैं कि इस घटना के सम्बंध में यदि कोई भी व्यक्ति सूचना, जानकारी या बयान देना चाहता है तो वह किसी भी कार्यदिवस में कलक्ट्रेट रोशनाबाद स्थित अपर जिलाधिकारी ललित नारायण मिश्रा के कार्यालय में उपस्थित होकर जानकारी दे सकता है।

कांग्रेस कमेटी कार्यालय देहरादून में कांग्रेसजनों ने हरेला पूजन एवं कन्या पूजन

दून 16 जुलाई
हरेला उत्सव के उपलक्ष में आज प्रदेष कांग्रेस कमेटी कार्यालय देहरादून में कांग्रेसजनों ने हरेला पूजन एवं कन्या पूजन के साथ ही हरेला धूम-धाम से मनाया। इस अवसर पर कांग्रेसजनों द्वारा वृक्षा रोपण के लिए सभी कांग्रेसजनों से सहभागिता का आह्रवान किया गया।
उपरोक्त जानकारी देते हुए प्रदेष कंांग्रेस कमेटी के मुख्य प्रवक्ता मथुरादत्त जोषी ने बताया कि कांग्रेसजनों द्वारा आज हरेला उत्सव के उपलक्ष में पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के तहत बड़ी संख्या में प्रदेष कांग्रेस कमेटी कार्यालय कांग्रेस भवन में एकत्र होकर महिला कंाग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा कन्याओं का पूजन किया गया। इसके साथ ही कांग्रेसजनों ने सघन वृक्षारोपण का भी आह्रवान किया।
हरेला कार्यक्रम के अवसर पर कन्या पूजन का महत्व बताते हुए कांग्रेसजनों ने कहा कि ‘‘यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते, रमन्ते तत्र देवताः’’ जहां वृक्ष हमारे पर्यावरण की रक्षा करते हैं वहीं कन्या इस जगत की जननी है आज जिस प्रकार पर्यावरण बचाने की आवष्यकता है उसी प्रकार सृश्टि को बचाने के लिए कन्या धन को बचाने की भी आवष्यकता है तभी सृश्टि का संतुलन बना रहेगा। देवभूमि उत्तराखण्ड विषेशकर हिमालयी क्षेत्र का देष एवं पर्यावरण की रक्षा में विषेश योगदान रहा है तथा उत्तराखण्ड ने देष एवं विष्व के पर्यावरण की रक्षा में अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है। जिस प्रकार लगातार हिमालय के ग्लेषियर एवं हरियाली कम होती जा रही है उसकी रक्षा के लिए वृक्षा रोपण कार्यक्रमों का आयोजन आवष्यक हैं। पौराणिक समय से ही हिमालयी राज्य होने के कारण यहां के जनमानस का वृक्षों के प्रति विषेश श्रद्धा एवं आदर का भाव रहा है, परन्तु हमें केवल वृक्षा रोपण तक ही सीमित नहीं रहना है हमें इन पेड़ों की रक्षा भी सुनिष्चित करनी है। उत्तराखण्ड में हरेला पर्व के रूप में वृक्षा रोपण को मनाने की परम्परा सदियों पुरानी रही है इसीलिए विष्व पर्यावरण की रक्षा में देवभूमि उत्तराखण्ड के महत्व को अन्तर्राश्ट्रीय स्तर पर सम्मान दिया जाता रहा है। आज समय की मांग है कि हम सबको मिलकर पर्यावरण की रक्षा के साथ-साथ कन्याधन की रक्षा के लिए भी आगे आना होगा।

कार्यक्रम में प्रदेष कांग्रेस कमेटी के मुख्य कार्यक्रम समन्वयक राजेन्द्र षाह, मुख्य प्रवक्ता मथुरादत्त जोषी, प्रदेष प्रवक्ता गरिमा दसौनी, पूर्व महानगर अध्यक्ष लालचन्द षर्मा, सचिव गिरीष पुनेड़ा, भरत षर्मा, डाॅ0 आर.पी. रतूड़ी, प्रणीता बड़ोनी, षांति रावत, महानगर महिला कांग्रेस अध्यक्ष कमलेष रमन, प्रवक्ता पुश्पा पंवार, चन्द्रकला नेगी, ललित मोहन जोषी, विनोद चैहान, दीप बोहरा, नजमा खान, ताहिर अली, नेमचन्द, विजयपाल रावत, विषाल मौर्य, अषोक वर्मा, मीना रावत, जयावती, आषा षर्मा, रीना सिंघल, पायल बहल, अभिनव थापर, टीका राम पाण्डे, मोहन काला, सुधीर सुनेहरा, निर्मला, मंजू त्रिपाठी, रामप्यारी, सरोज षर्मा, निर्मला, मंजीत षाह, षकुन्तला आदि कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने प्रतिभाग किया।

चमोली NEWS;

चमोली 16 जुलाई,2017
विकास खण्ड कर्णप्रयाग की ग्राम पंचायत कालेश्वर को डिजिटल विलेज चुनने की प्रकिया के अन्तर्गत ग्रामवासियों एवं व्यापारियों के साथ एक पे्ररक बैठक कालेश्वर ग्राम पंचायत में आयोजित की गई।

जिलाधिकारी आशीष जोशी के निर्देशों पर शनिवार को ग्राम पंचायत कालेश्वर में महाप्रबन्धक जिला उद्योग डाॅ एमएस सजवाण, जिला विकास अधिकारी आनंद सिंह एवं मुख्य कोषाधिकारी वीरेन्द्र कुमार द्वारा ग्राम व्यापारियों एवं ग्रामवासियों को डिजिटल विलेज के बारे में पे्ररक जानकारी दी गई। टाटा कन्सैलटैन्सी के इंजीनियर इंदुधर सिंह एवं अमित मिश्रा द्वारा एसबीआई मरचेन्ट भीम एप के बारे में तकनीकी तथा एसबीआई शााखा प्रबन्धक द्वारा बैंक एवं आधार लिंक के बारे में जानकारी दी गई।

इस अवसर पर 07 व्यापारियों के इन्टरनेट युक्त स्मार्ट मोबाइल फोन पर एसबीआई मरचेन्ट भीम एप डाउनलोड किया गया और उनका आधार सीडेड एसबीआई बैंक एकाउन्ट का पंजीकरण इस एप में किया गया और उन्हें जिला प्रशासन द्वारा राज्य सरकार से प्राप्त वायोमेट्रिक्स डिवाइस निःशुक्ल उपलब्ध करायी गयी। इसके बाद ग्राहकों द्वारा व्यापारियों से खरीददारी की गई। जिसका भुगतान डिजिटल ट्रांजिक्शन के माध्यम से सीधे व्यापारी के स्मार्ट फोन से लिंक वायोमैट्रिक डिवाइस पर अपने अंगूठे की मदद से व्यापारी के एसबीआई आधार सीडेड खाते में किया गया। ग्राहकों को बताया गया कि इस प्रक्रिया में ग्राहक को केवल अपना 12 अंकों का आधार नम्बर याद रखना होगा। डिजिटल ट्राॅन्जेक्शन के लिए ग्राहक को अपना आधार नम्बर, बैंक का नाम तथा फिंगर प्रिंन्ट देना होगा। व्यापारियों एवं ग्रामीण डिजिटल ट्रांजेक्शन की जानकारी से काफी खुश नजर आ रहे हैं।

डिजिटल ट्राॅन्जेक्शन प्रक्रिया में उपभोक्ता को किसी भी प्रकार के डेबिट कार्ड की आवश्यकता नहीं है और ना ही इंटरनेट कनेक्शन लगाने की आवश्यकता है। यह जरूरी नहीं है कि उपभोक्ता के पास मोबाइल फोन हो। ग्राहक दुकानदार के मोबाइल फोन से भी इस एप्प का प्रयोग कर सकता है। इस अवसर पर हिमाद एवं हिमोत्थान के दिवाकर पुरोहित, उमाशंकर बिष्ट एवं ग्राम प्रधान हरीश चैहान ने भी ग्रामवासियों को भीम एप उपयोग करने को प्रेरित किया गया।

चमोली 16 जुलाई,2017
जिलाधिकारी आशीष जोशी की अध्यक्षता में शुक्रवार को क्लेक्ट्रेट सभागार में राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की समीक्षा बैठक संपन्न हुई। जिसमें राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के तहत संचालित आईडीएसपी, यूआईपी, आरएनटीसीपी, आशा प्रोग्राम, एनसीडी प्रोजेक्ट की समीक्षा की गयी।

जिलाधिकारी ने आईडीएसपी कार्यक्रम की समीक्षा करते हुए थराली एवं घाट में डायरिया के केस अधिक पाये जाने पर समुचित रिर्पोटिग करने के निर्देश दिये। उन्होंने इन दोनों ब्लाकों में फील्ड स्टाॅफ के माध्यम से जागरूकता कार्यक्रम चलाने को कहा तथा साप्ताहिक रिपोर्ट जिला कार्यालय तथा मुख्य विकास अधिकारी को भी उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। उन्होंने जलसंस्थान, जलनिगम एवं स्वजल के अधिकारियों को भी आगामी बैठक में उपस्थित रहने के निर्देश दिये। जिले की कुछ नयी पंचायतों एवं शहरी क्षेत्रों में आशा कार्यकत्री न होने पर स्वास्थ्य निदेशालय से पत्राचार करने के निर्देश दिये। राष्ट्रीय बाल स्वास्थ्य कार्यक्रम की समीक्षा करते हुए निशुल्क उपचार किये गये बच्चो की सूची उपलब्ध कराने के निर्देश दिये। बरसात के मौसम को देखते हुए जिलाधिकारी ने स्वजल के साथ समन्वय बनाकर आशाओं, आगंनबाडी एवं एएनएम के माघ्यम से ग्राम पंचायत स्तर पर जागरूकता कार्यक्रम करने निर्देश दिये। क्षय रोग नियन्त्रण कार्यक्रम ;त्छज्ब्च्द्ध की समीक्षा के दौरान अन्य ब्लाकों की तुलना में पठियालधार एवं कर्णप्रयाग में टी0वी0 के मरीजों की संख्या अधिक होने पर मुख्य चिकित्सा अधिकारी को विश्लेषण कर रिपोर्ट उपलब्ध कराने को कहा।

बैठक में मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 दिनेश चन्द्र सेमवाल ने राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के लक्ष्यों एवं उपलब्धियों पर विस्तार से जानकारी दी। जिला कार्यक्रम प्रबन्धक दीपक खण्डूडी ने बताया कि राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन की शुरूआत राज्य में अक्टूबर 2005 में मिशन की गयी। मिशन का उद्देश्य शिशु मृत्यु दर एवं मातृ मृत्यु दर में कमी लाना है तथा सकल प्रजनन दर को स्थिर करना है। उन्होंने बताया कि जिले में वर्तमान में शिशु मृत्यु दर 27 प्रति हजार है, तथा मातृ मृत्यु दर 155 प्रति लाख है। सकल प्रजनन दर 2.0 है। उन्होंने बताया कि मिशन के तहत अनेक कार्यक्रम जैसे जननी सुरक्षा भोजन, जननी शिशु सुरक्षा कार्यक्रम, ग्राम्य स्वास्थ्य एवं पोषण दिवस चलाये जा रहे हैं। मिशन के तहत आईडीएसपी, यूआईपी, आरएनटीसीपी, एनसीडी प्रोजेक्ट, आशा प्रोग्राम चलाये जा रहे है।

बैठक में सीएमएस डा0 बी0के0शुक्ला, अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा0 मंयक बडोला, मुख्य कोषाधिकारी वीरेन्द्र कुमार, जिला समाज कल्याण अधिकारी सुरेन्द्र लाल, जिला पंचायत राज अधिकारी बीएस दुग्ताल, जिला कार्यक्रम अधिकारी सहित राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के कर्मचारी उपस्थित थे।

चमोली 16 जुलाई,2017
प्रकृति के संरक्षण और संवर्धन के लिए जिले में हरेला महोत्सव का शुभ्भारंभ बडे धूमधाम के साथ किया गया। जिलाधिकारी आशीष जोशी के नेतृत्व में गोपेश्वर-घिंघराण मोटर मार्ग स्थित ब्रहंमसैंण के ऊपरी भू-भाग पर वन विभाग, ईको टास्कफोर्स एवं जिला स्तरीय अधिकारियों ने पौधरोपण कर हरेला महोत्सव का शानदार आगाज किया। जिलाधिकारी ने उत्तराखण्ड के लोक पर्व हरेला की शुभकामनाऐं देते हुए कहा कि हरेला पर्व का मुख्य उदेश्य नदियों का जल संरक्षण एवं पुर्नजीवन करना है। उन्होंने सभी जनप्रतिनिधियों, गणमान्य नागिरिकों एवं जनता से एक माह तक चलने वाले वृक्षारोपण कार्यक्रमों में भाग लेकर हरेला महोत्सव को सफल बनाने में अपना सहयोग प्रदान करने की अपील की है।

जिला मुख्यालय स्थित घिंघराण में हरेला महोत्सव का शुभांरभ करते हुए जिलाधिकारी ने वृक्षारोपण किया। इस अवसर पर वन विभाग, ईको टास्कफोर्स एवं जिला स्तरीय अधिकारियों व कर्मचारियों ने भी वृक्षारोपण किया। वही दूसरी ओर पूरे जिले में विभिन्न जगहों पर शिक्षण संस्थाओं, स्वजल, पुलिस, उद्यान, वन, सिंचाई, डेयरी आदि विभागों के माध्यम से अपने कार्यालय परिसर एवं अन्य स्थानों पर वृहद वृक्षारोपण चलाकर 20 हजार से अधिक पौधरोपण किया गया तथा पर्यावरण संरक्षण का संकल्प लिया गया।

जिलाधिकारी ने कहा कि अधिक से अधिक वृक्षारोपण करने से पहाड़ों से हो रहे भूस्खलन को रोका जा सकता है। इसके साथ ही वृक्षरोपण से जल सरंक्षण एवं संवद्र्वन में भी मदद मिलती है। उन्होंने कहा कि अधिक से अधिक वृक्ष लगाकर हम अपने सूखे हुए नौले-धारों, पौण्ड व तालाबों को फिर से जीवित कर सकते है। कहा कि पहाड़ों में पेयजल की समस्या आज एक विकराल रूप लेती जा रही है। जिसका हम वृक्ष लगाकर दीर्घकालीन समाधान कर सकते है। उन्होंने सभी अधिकारी एवं कर्मचारियों को खाली जमीन पर कम से कम एक-एक पौध लगाने तथा उसकी सुरक्षा सुनिश्चित करने को कहा। बताया कि हरेला महोत्सव 16 जुलाई से 15 अगस्त तक मनाया जायेगा। इस दौरान पूरे जिले के विभिन्न भू-भागों में नगर पालिका, नगर पंचायत, पुलिस, ईको टास्कफोर्स, शिक्षण संस्थायें, उद्यान, वन आदि विभागों के माध्यम से 3.5 लाख पौधरोपण का लक्ष्य रखा गया है।

हरेला महोत्सव के शुभारंभ अवसर पर मुख्य विकास अधिकारी विनोद गोस्वामी, उप वन सरंक्षक बद्रीनाथ एनएन पाण्डेय, केदारनाथ नीतू लक्ष्मी एम, अलकनंदा सुरेन्द्र प्रताप सिंह, सीटीओ वीरेन्द्र कुमार, जीएम डीआईसी डा.एमएस सजवाण, मुख्य शिक्षा अधिकारी एलएम चमोला, डीपीआरओ बीएस दुग्ताल सहित अन्य जिलास्तरीय अधिकारी एवं कर्मचारी मौजूद थे।

 

Leave a Comment