Share
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई व शुभकामनाएं दी

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई व शुभकामनाएं दी

देहरादून 20 जून, 2017

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर प्रदेशवासियों को बधाई व शुभकामनाएं दी है। अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस की पूर्व संध्या पर जारी अपने संदेश में मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने प्रदेशवासियों से अपील की है कि वे ’योग’ को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनायें। उन्होंने कहा कि ‘योग’ भारतीय सभ्यता, संस्कृति तथा जीवन शैली का एक अभिन्न अंग है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के सार्थक प्रयासों से योग को अन्तर्राष्ट्रीय स्तर पर मान्यता मिलना देशवासियों के लिए गर्व की बात है। आज समूचा विश्व योग को अपनाने की दिशा में अग्रसर है।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कहा कि ‘योग’ शारीरिक मानसिक और आध्यात्मिक विकास को बढ़ावा देने के साथ ही लोगों को स्वस्थ जीवन हेतु प्रेरित करता है। योग हमारे जीवन में सकारात्मक ऊर्जा का संचार करके सहज जीवन जीने की शक्ति प्रदान करता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि हमें संकल्प लेना होगा कि प्रत्येक दिन योग के लिए समय अवश्य निकाला जाए। एक बेहतर दुनिया के निर्माण में अपनी सहभागिता निभाएं। उन्होंने कहा कि प्रत्येक व्यक्ति के निरोग होने से ही एक स्वस्थ उत्तराखंड और भारत का निर्माण हो सकता है।

राज्यपाल की उपस्थिति में राजभवन में प्रातः 6.30 बजे शुरू होगा ‘अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस’ कार्यक्रम

राजभवन देहरादून 20 जून, 2017

उत्तराखण्ड के राज्यपाल डा0 कृष्ण कांत पाल ने ‘अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस’ की पूर्व संध्या पर अपने संदेश में उत्तराखण्ड के सभी नागरिकों को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस की बधाई एवं शुभकामनाएं दी।

राज्यपाल ने कहा कि ‘योग’ भारतीय सभ्यता, संस्कृति तथा जीवन शैली का अभिन्न अंग है जिसकी वैज्ञानिकता आज पूरा विश्व स्वीकार चुका है। भारत की पहल पर, राष्ट्रसंघ के 190 देशों में से 177 देशों के समर्थन के बाद राष्ट्रसंघ द्वारा 21जून को ‘अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस’ के रूप में मनाये जाने का ऐतिहासिक निर्णय इस बात को प्रमाणित करता है। भारत के ऋषि मुनियों के गहन अध्ययन और शोध से भारत को मिली इस अमूल्य धरोहर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के सार्थक प्रयासों से इसे अन्तर्राष्ट्रीय मान्यता मिलना भारतवासियों के लिए बहुत बड़ी उपलब्धि है। ‘योग‘ एक प्रायोगिक विज्ञान है कोई धार्मिक क्रिया नहीं। ‘योग’ शारीरिक एवं वैचारिक शुद्धता का सबसे सशक्त माध्यम और स्वस्थ्य जीवन जीने की बेहतरीन कला है।

‘योग’ एक पूर्ण चिकित्सा पद्धति है। ‘योग’ से आने वाला चारित्रिक अनुशासन मानसिक भटकाव से बचाने में मदद करता है। इसके अभ्यास से संयम, धैर्य और सहिष्णुता जैसे मानवीय गुणों का विकास होता है। विज्ञान और तकनीकी के इस युग में इंसान कई तरह के मानसिक और शारीरिक दवाबों के बीच जीने को विवश है ऐसे में योग ही एक ऐसा विशुद्ध और निर्विवादित उपाय है जो सकारात्मक ऊर्जा का संचार करके सहज जीवन जीने की शक्ति प्रदान करता है। उत्तराखण्ड की धरती ऋषि-मुनियों की तपस्थली तथा योग का उद्गम स्थली रही है। उत्तराखण्ड को ‘विश्व यौगिक केन्द्र’ के रूप में स्थापित करने के लिए ‘अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस’ एक सुनहरा अवसर है। प्राकृतिक सौंदर्य और संपदा के अपार संसाधनों से संपन्न उत्तराखण्ड में ‘विश्व यौगिक केन्द्र’ के रूप में पूरी दुनिया का नेतृत्व करने की सारी विशेषतायें और क्षमताएं हैं। ‘योग’ जीवन जीने की सर्वश्रेष्ठ शैली है। आइए! आज इस अवसर पर, योग को अपनी दिनचर्या का हिस्सा बनाकर स्वस्थ जीवन जीने की पहल करें और पूरे विश्व को इससे जोड़ने का प्रयास करंे।’’

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने राज्य निर्माण आंदोलनकारी श्री रणजीत सिंह विश्वकर्मा के निधन पर गहरा दुःख व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगत की आत्मा की शांति एवं दुःख की इस घड़ी मेें उनके परिजनों को धैर्य प्रदान करने की ईश्वर से कामना की है।

‘योगाभ्यास/योगक्रिया’ सम्बन्धी कार्यक्रम

उत्तराखण्ड के राज्यपाल डा0 कृष्ण कांत पाल की उपस्थिति में, 21जून को प्रातः 6.30 बजे राजभवन के हरित प्रांगण मंे आयोजित ‘योगाभ्यास/योगक्रिया’ सम्बन्धी कार्यक्रम में राजभवन के सभी अधिकारी एवं कर्मचारी प्रतिभाग करेंगे। स्वस्थ जीवन जीने की भारत की इस महान परम्परागत वैज्ञानिक शैली को अपने दैनिक जीवन का हिस्सा बनाने की पहल करके और लोगों को भी इससे जुड़ने के लिए प्रोत्साहित करेंगे।

अंतराष्ट्रीय योगदिवस के अवसर पर उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एवम हरिद्वार के सांसद डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने देश व प्रदेशवासियो को योगदिवस की शुभकामनाएं दी ।

इस अवसर पर डॉ निशंक ने कहा कि वर्तमान समय मे अपनी व्यस्त जीवनशैली के कारण मनुष्य संतोष पाने के लिए योग करते हैं। योग से न केवल व्यक्ति का तनाव दूर होता है बल्कि मन और मस्तिष्क को भी शांति मिलती है।
योग हमारी आत्मा को भी शुद्ध करता है।चूँकि 21 जून को वर्ष का सबसे लंबा दिन होता है। अतः इसी दिन की भांति योग भी मनुष्य को दीर्घ जीवन प्रदान करता है। इसीलिए भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री माननीय नरेंद्र मोदी जी ने भी 21 जून को विश्वभर में योगदिवस की पहल की है। डॉ निशंक जी ने इस अवसर पर रोज नित्यरूप से योग करने की भी सलाह दी है।
ताकि मनुष्य का तन व् मन दोनों स्वस्थ व् शुद्ध रहे एवं भारतवर्ष एक सुद्रिड राष्ट्र की और अग्रसर होकर अपना कीर्तिमान विश्वभर में इस्थापित करे .

राज्यपाल ने नैनी झील के गिरते जल स्तर के कारण और निवारण विषय पर बुलाया सेमिनार
’ विशेषज्ञों ने दिये सुझाव

राजभवन, देहरादून, दिनांक 20जून, 2017

नैनीताल झील के गिरते जल स्तर पर लगातार चिंता जताने तथा नैनीताल प्रशासन से संज्ञान लेने के बाद झील संरक्षण की दिशा में राज्यपाल डाॅ कृष्ण कांत पाल ने एक और अहम कदम आज उठाया। राज्यपाल ने राजभवन में पर्यावरण विशेषज्ञों व वैज्ञानिकों का एक सेमिनार बुलाया।
राज्यपाल ने नैनीताल झील को पयर्टन व राजस्व का मुख्य स्त्रोत बताते हुए सभी विशेषज्ञों व प्रशासनिक अधिकारियों से इसके जल स्तर को बढ़ाने व नैनीताल में पानी की समस्या का निदान करने के लिए सुझाव आमंत्रित किये।
झील की स्थिति में सुधार लाने के लिए विशेषज्ञों ने कई सुझाव दिये। सभी ने एकमत से स्वीकारा कि मुख्य रूप से नैनीताल झील में जो भूमिगत जल स्त्रोतों से पानी का रिसाव झील में होता है वह स्त्रोत नैनीताल में होने वाले निर्माण कार्याे के कारण दब गये हैं। विशेषज्ञों ने कहा कि इन वाटर सिर्सोसेज को पुनर्जीवित किया जाना होगा। क्षेत्र में निर्माण कार्यो में प्रयोग होने वाले सीमेंट से ये स्त्रोत बंद होते हैं। नैनीताल में ट्रैफिक के दबाव, ग्लोबल वार्मिंग के प्रभाव, सर्दी के मौसम में होने वाली वर्षा की मात्रा में कमी आना, समय समय पर आने वाले भुकम्प व लैण्ड स्लाइड भी झील के प्राकृति स्त्रोतों को बंद कर रहे हैं। जिस कारण झील के जल स्तर में कमी आ रही है। विशेषज्ञों ने कहा कि शहर की आबादी पयर्टकों का दबाव बढ़ने के कारण झील से पहले की अपेक्षा अधिक मात्रा में जल पम्पिंग के जरिये निकाला जा रहा है जबकि उस अनुपात में पानी झील में पहुँच नहीं पा रहा जिस कारण झील का जल स्तर कम हो रहा है।

झील का जल स्तर सुधारने के लिए विशेषज्ञों ने वर्षा जल को नागरिकों द्वारा सीवेज में बहाने के बजाय झील में पहुँचाए जाने की व्यवस्था किये जाने की जरूरत बतायी। राज्यपाल ने वर्षा जल संरक्षण की मुहिम को जन-जन तक पहुँचाने तथा इसके लिए लोगों को उत्साहित किये जाने का काम स्थानीय प्रशासन को सौंपा।

वैज्ञानिकों ने सुझाव देते हुए कहा कि शहर में यातायात को नियंत्रित किया जाये, स्थानीय नागरिकों के लिए प्रति व्यक्ति जल उपभोग की सीमा निर्धारित कर जल की रेशनिंग की जाये, पूरे शहर में किसी भी कारणोें से हो रही पानी लीकेज को तुरंत बंद करने, वर्षा जल को संरक्षण करने तथा इसके लिए लोगों के प्रोत्साहित किये जाने के सुझाव राज्यपाल को दिये। विशेषज्ञों ने झीलों के जल संवर्धन व संरक्षण हेतु राज्य में सरोवर विज्ञान विभाग आवश्यकता सामुहिक रूप से जतायी।

राज्यपाल ने अधिकारियों से कहा कि वर्षा जल संरक्षण करने वाले नागरिकों, होटल संचालकों आदि को पुरस्कृत किए जाने की योजना बनाई जाये ताकि लोग जल संरक्षण के लिए प्रेरित हों। राज्यपाल ने कमिश्नर कुमाऊं मंडल श्री भट्ट की अध्यक्षता में झील निगरानी समिति का गठन किये जाने की भी बात कही।

इस अवसर पर कुमाऊँ कमिश्नर चन्द्रशेखर भट्ट, सचिव राज्यपाल रविनाथ रमन, झील विकास प्राधीकरण के अध्यक्ष इन्दु कुमार पाण्डे, उत्तराखण्ड स्टेट काॅउंसिल फाॅर सांइस एण्ड टैक्नोलाॅजी(न्ब्व्ैज्) के महानिदेशक राजेन्द्र डोभाल, नैनीताल के जिलाधिकारी दीपेन्द्र चैधरी सहित वाडिया इंस्टीट्यूट, नैशनल इंस्टीट्यूट आॅफ इाइड्रोलाॅजी रूड़की, एस.डी.एफ, इण्डियन इंस्टीट्यूट आॅफ वाटर हार्वेस्टिंग एण्ड कंजर्वेशन, इंडियन रिमोट संेंसिंग आदि संस्थानों के वैज्ञानिक तथा नैनीताल के वरिष्ठ पत्रकार राजीव लोचन साह उपस्थित थे।

मा0 मंत्री, पर्यटन, सिंचाई, लघु सिंचाई, तीर्थाटन एवं धार्मिक मेले, संस्कृति, जलागम प्रबन्ध, बाढ़ नियंत्रण एवं भारत-नेपाल उत्तराखण्ड नदी परियोजनाएं, उत्तराखण्ड सरकार श्री सतपाल महाराज बुधवार 21 जून 2017 को प्रातः 07ः00 बजे प्रेमनगर आश्रम हरिद्वार में अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस के अवसर पर आयोजित योग कार्यक्रम में प्रतिभाग करेंगे। उसके पश्चात 11ः00 बजे सी.सी.आर. में जनपद स्तरीय समीक्षा बैठक एवं 04ः00 बजे भाजपा कार्यालय हरिद्वार में कार्यकर्ताओं के साथ भेंट वार्ता करेंगे।

उत्तराखण्ड पाॅवर कार्पोरेशन की समीक्षा

देहरादून 20 जून, 2017

सचिव, ऊर्जा श्रीमती राधिका झा ने मंगलवार को ऊर्जा भवन में आयोजित उत्तराखण्ड पाॅवर कार्पोरेशन की समीक्षा की। समीक्षा बैठक में सचिव, ऊर्जा श्रीमती झा ने विभागीय अधिकारियों को निर्देश दिए कि दिसम्बर, 2017 तक राज्य के सभी गाँवों तक विद्युत आपूर्ति पहुंचाई जाना सुनिश्चित किया जाए। ज्ञातव्य है कि राज्य में 64 गाँव अब भी विद्युतीकरण की जद से बाहर हैं। उन्होंने निर्देश दिए कि राज्य सरकार द्वारा 24×7 विद्युत आपूर्ति बहाल करने की प्रतिबद्धता को दृष्टिगत रखते हुए विद्युत आपूर्ति घण्टो मे बढोत्तरी सुनिश्चित की जाए तथा प्रतिदिन जनपदवार आख्या उपलब्ध कराई जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि ग्राहकों को किफायती दरों पर बेहतर विद्युत आपूर्ति सुनिश्चित हो सकें, इस हेतु विद्युत चोरी रोकने तथा बिलिंग सक्षमता बढाने के लिये प्रभावी कदम उठाये जाए। विद्युत चोरी रोकने के साथ-साथ ग्राहको की समस्याओं/शिकायतों के त्वरित निस्तारण हेतु यू.पी.सी.एल. के हेल्प लाईन नम्बर 1912 का व्यापक प्रचार प्रसार किये जाने के भी निर्देश दिए गए।

सचिव ऊर्जा श्रीमती झा ने विद्युत आपूर्ति घण्टे, राजस्व मे बढोत्तरी, विद्युत चोरी पर लगाम तथा ग्रामीण विद्युतीकरण जैसे मानकों को विभागीय अधिकारियों की परफार्मेसं एवं रेटिंग का आधार बनाने के साथ ही इन मानको पर बेहतर प्रदर्शन करने वाले अन्य राज्यों के माॅडलो का अध्ययन कर उत्तराखण्ड राज्य मे इन्हें लागू किये जाने हेतु कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिये। उन्होंने विभागीय उच्चाधिकारियों को रोस्टर बनाकर नियमित रूप से जनपदों का भ्रमण करने के भी निर्देश दिए।

सचिव ऊर्जा श्रीमती झा ने ‘उजाला’ योजना के अंतर्गत एल.ई.डी. बल्ब, ट्यूबलाईट एवं पंखों के प्रभावी वितरण हेतु विभागीय कार्यालयों एवं अन्य सार्वजनिक स्थलों पर कैम्प लगाने, कार्यक्षमता बढाने के लिये सब-स्टेशन स्तर तक तत्काल बायोमैट्रिक उपस्थिति सुनिश्चित करने एवं राज्य मे ऊर्जा(विद्युत) की प्रभावी बचत के लिए उरेडा के सहयोग से सोलर स्ट्रीट लाईट की कार्ययोजना तैयार करने के निर्देश दिए। उन्होंने राज्य सरकार की भ्रष्टाचार पर जीरो टाॅलरेन्स की नीति का उल्लेख करते हुए कहा कि किसी भी स्तर पर भ्रष्टाचार को बर्दास्त नही किया जायेगा साथ ही दोषी के विरूद्ध कठोर कार्यवाही अमल में लायी जायेगी।

अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस की तैयारियों का जायजा

देहरादून 20 जून 2017

जिलाधिकारी एस.ए. मुरूगेशन तथा वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक निवेदिता कुकरेती द्वारा परेड ग्राउण्ड देहरादून में 21 जून को अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस की तैयारियों का जायजा लेते हुए सम्बन्धित अधिकारियों को सभी व्यवस्थायें सुनिश्चित करने के निर्देश दिये।
जिलाधिकारी ने आयुष विभाग तथा लो.नि.वि. के अधिकारियों को बरसात को ध्यान में रखते हुए सभी तैयारियां पूरी करने के निर्देश दिये। उन्होने सिटिगं ऐरेन्जमेन्ट, मंच, डिस्पले बोर्ड, जल निकासी, मैट आदि सभी तरह का प्रबन्ध ठीक से करने के निर्देश दिये। उन्होने पुलिस विभाग को वाहन पार्किग तथा सुरक्षा व्यवस्था सुनिश्चित करने के निर्देश दिये। उन्होने कहा कि योग प्रातः 7 बजे से शुरू प्रारम्भ होगा जिसके लिए उन्होने सभी को अनिवार्य रूप से प्रातः 6.30 बजे तक कार्यक्रम स्थल परेड ग्राउण्ड में अपना स्थान सुनिश्चित करने का आग्रह किया।

देहरादून 20 जून, 2017

अलग-अलग थाना क्षेत्रान्तर्गत छापेमारी और चैकिंग अभियान के दौरान पुलिस के हत्थे चढ़े कीड़ा जड़ी, कच्ची शराब व अवैध अँग्रेजी शराब के तस्कर व बरामद की गयी 01 किलो 238 ग्राम कीड़ा-जड़ी (यारसा गम्भू) अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में कीमत करीब 18 लाख, 144 बोतल अंग्रेजी शराब कीमत करीब 70 हजार व 10 लीटर कच्ची शराब मय 04 भट्टी/उपकरण तथा अनियमितता पाये जानें पर घोड़े-खच्चर, होटलों/ढाबों के चालान किये गये।

पुलिस अधीक्षक चमोली तृप्ति भट्ट के कुशल निर्देशन एवं क्षेत्राधिकारी कर्णप्रयाग श्री मिथलेश कुमार व क्षेत्राधिकारी चमोली श्री हरवंश सिंह के नेतृत्व में जनपद भर में अवैध कार्यों के विरुद्ध समस्त जनपद में दिनांक 19 व 20 जून, 2017 को अभियान चलाया गया। अभियान के तहत छापेमारी और चैकिंग के दौरान अलग-अलग थाना क्षेत्रान्तर्गत भारी मात्रा में कीड़ा जड़ी और अवैध शराब बरामद कर 04 अभियुक्तों को गिरफ्तार किया गया एवं अनियमितता पाये जाने पर 81 पुलिस अधिनियम के तहत कार्यवाही की गयी। थाना गोपेश्वर पुलिस द्वारा 01 किलो 238 ग्राम कीड़ा-जड़ी (यारसा गम्भू) के साथ दो व्यक्तियों को गिरफ्तार किया गया।

मंगलवार दिनांक 20 जून, 2017 को थाना गोपेश्वर पुलिस द्वारा मुखबिर की सूचना पर वेतरणी मार्ग गोपेश्वर से अभियुक्त बिर्ख बुड्डा उर्फ वीर बहादुर पुत्र श्री भोटे बुड्डा निवासी ग्राम सिमतली थाना कालिका खेतु जिला जुमला नेपाल के कब्जे से 738 ग्राम एवं लोग बहादुर शाही पुत्र जोरू शाही निवासी ग्राम जौजी थाना कालिका खेतु जिला जुमला नेपाल के कब्जे से 500 ग्राम कुल 01 किलो 238 ग्राम अवैध कीड़ा-जड़ी (यारसा गम्भू) बरामद की है। दोनों अभियुक्तों के विरूद्ध मुकदमा पंजीकृत कर आवश्यक कार्यवाही की जा रही है। अन्तर्राष्ट्रीय बाजार में बरामद कीड़ा-जड़ी (यारसा गम्भू) की कीमत करीब 18 लाख रूपये है। थाना गैरसैण पुलिस द्वारा हरियाणा से तस्करी कर लाई जा रही 132 बोतल अवैध अंग्रेजी शराब के साथ किया एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया गया है।

मंगलवार 20 जून, 2017 की सुबह को पुलिस क्षेत्राधिकारी चमोली के निर्देशन में थाना जोशीमठ पुलिस द्वारा मुखबिर की सूचना पर कस्बा जोशीमठ झोपडी बाजार से एक महिला सीता देवी, पत्नी किशोर मूल निवासी नेपाल को 10 लीटर कच्ची शराब व शराब की 4 भट्टियां मय बनाने के उपकरणों के साथ गिरफ्तार किया गया है। अभियुक्त सीता देवी के विरुद्ध आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया है।

सोमवार 19 जून, 2017 की रात्रि को थानाध्यक्ष गैरसैंण श्री रवीन्द्र नेगी द्वारा चैकी आदिबद्री क्षेत्र में वाहनों की संघन चैकिंग की जा रही थी। चैकिंग के दौरान कार संख्या डी.एल.4.सी.पी. 5344(सेन्ट्रो) को रोककर चेक किया गया, तो उक्त कार के अन्दर से 132 अवैध अंग्रेजी शराब(फाॅर सेल इन हरियाणा) बरामद हुयी। कार चालक ने अपना नाम विकास पुत्र श्री सत्यदेव सिंह निवासी ग्राम सिवाना थाना बैरी जनपद झज्जर, हरियाणा बताया। अवैध शराब परिवहन करने के जुर्म में कार चालक विकास को गिरफ्तार किया गया। अभियुक्त विकास के विरुद्ध धारा 60/72 आबकारी अधिनियम के अन्तर्गत थाना गैरसैंण में अभियोग पंजीकृत किया गया एवं शराब तस्करी में प्रयुक्त वाहन को सीज किया गया है। थाना जोशीमठ पुलिस ने 10 लीटर अवैध शराब व 4 शराब की भट्टी मय उपकरण के साथ एक महिला को गिरफ्तार किया। थाना थराली पुलिस ने 12 बोतल अवैध अँग्रेजी शराब के साथ एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया है। थाना थराली पुलिस द्वारा मुखबिर की सूचना पर चैकिंग के दौरान कस्बा ग्वालदम से वीरेंद्र शाह पुत्र दरबान सिंह निवासी ग्वालदम थाना थराली, जनपद चमोली 12 बोतल अवैध अंग्रेजी शराब के साथ गिरफ्तार किया गया है। अभियुक्त वीरेंद्र शाह के विरुद्ध आबकारी अधिनियम के तहत मुकदमा पंजीकृत किया गया है। थाना गोविन्दघाट पुलिस द्वारा अनियमितता पाये जाने पर वृहद मात्रा में पुलिस अधिनियम के अन्तर्गत चालान किये गये। गोविन्दघाट/घांगरिया में होटल-ढाबों व हेमकुण्ड साहिब यात्रा मार्ग पर चलने वाले घोड़े-खच्चर, डण्डी-कण्डी वालों का सत्यापन अभियान चलाया गया। अभियान के दौरान 365 घोड़े-खच्चर, डण्डी-कण्डी के सत्यापन किये गये एवं अनियमितता पाये जानें पर होटल-ढाबों, घोड़े-खच्चरों के 81 पुलिस अधिनियम के अन्तर्गत 22 चालान किये गये। सभी को निर्देशित किया गया कि आने वाले श्रद्धालुओ/यात्रियों से निर्धारित किराया/रेट वसूल करेगें। शिकायत पाये जानें पर उचित कानूनी कार्यवाही अमल में लायी जायेगी। अवैध कार्यो के विरूद्ध जनपद भर में लगातार अभियान जारी है।
नोट: पुलिस अधीक्षक, चमोली से प्राप्त सूचना के आधार पर ।

किसान के बेटे-बेटी को मिले 25% आरक्षण – किशोर
आज एक निजी होटल में पत्रकार वार्ता करते हुवे कांग्रेस उत्तराखण्ड के पूर्व प्रदेश अध्यक्ष और उत्तर प्रदेश चुनाव प्रभारी PRO किशोर उपाध्याय ने कहा कि किसानों के तुरंत कर्ज माफ़ किये जाने चाहिए, पंजाब में कांग्रेस सरकार ने किसानों के 2 लाख तक के कृषि ऋण माफ़ किये हैं जिससे 10.25 लाख किसानो को लाभ होगा। दूसरी तरफ उत्तराखण्ड की डबल इंजन सरकार के मुखिया त्रिवेन्द्र रावत और सहकारिता मंत्री के बयान दुःखद और चिंताजनक हैं। मुख्यमंत्री उत्तराखण्ड कहते हैं कि मेरे ऊपर भी 11 लाख का कर्ज है, मंत्री धन सिंह रावत कहते हैं कि किसान ने आत्म हत्या पिछले साल की होगी। बड़ा ही दुःखद है किस सोच के लोगों के हाथ में आज उत्तराखण्ड की बागडोर है।

किशोर उपाध्याय ने आगे कहा कि किसानो के कर्ज माफ़ करना ही काफी नहीं होगा वरन् किसानो की एनी समस्याओं पर भी गहन विचार करने की जरुरत है। मैं भी किसान का बेटा हूँ और मैने भी हल-जोता है। पहाड़ी में कहा जाये तो मैं हल्दयू हूँ। और पहाड़ और मैदान के किसानो की सभी समस्याओं के निवारण के लिए हम जल्द ही ओर लोगो से मिलजुल कर आगे क्या कर सकते है उसपर विचार करेंगे।

उपाध्याय ने कहा कि किसान को भी जीने का अधिकार हैल अन्नदाता भूमिपुत्र हमारे लिया अन्न उत्पादन करता है तो हम जीवित हैं। लेकिन बड़े शर्म की बात है कि आज उत्तराखण्ड में किसान आत्महत्या को मजबूर है और सरकारें खामोश हैं। भूमिपुत्र किसंबके बेटे-बेटी को 25% आरक्षण दिया जाना चाहिए। राज्य और देश की सेवा में किसान को आरक्षण दिया जाना चाहिए। साथ ही शिक्षा में भी अन्नदाता के बच्चों को 25% आरक्षण दिया जाने की मैं सरकार से मांग करता हूँ।

साथ ही उत्तराखण्ड की बीजेपी सरकार को चाहिए की जैसे मध्य प्रदेश सरकार ने मृत किसानों के परिवार वालो को 1-1 करोड़ रु0 दिए गए उसी प्रकार उत्तराखण्ड की सरकार भी बेरीनाग के मृत किसान सुरेन्द्र सिंह के परिवार को 1 करोड़ रु0 का मुवावजा दे।
प्रेस वार्ता के दौरान किशोर उपाध्याय के साथ ही प्रदेश महामंत्री सुरेन्द्र रांगढ़, प्रदेश प्रवक्ता संजय भट्ट, प्रदेश सचिव परिणीता बडोनी, शांति रावत, IT अध्यक्ष अमरजीत सिंह उपस्थित थे।

 

Leave a Comment