Share
राज्य में समूह ’ग’ की भर्तियो में पारदर्शिता के लिए एक महत्वपूर्ण एवं अभिनव पहल का शुभारम्भ किया

राज्य में समूह ’ग’ की भर्तियो में पारदर्शिता के लिए एक महत्वपूर्ण एवं अभिनव पहल का शुभारम्भ किया

सीएम का अपने वि0सभा क्षेत्र में जनसुनवाई कार्यक्रम #मुख्य समाचार 17-7-17 :सत्ता के गलियारों से-#राज्य में समूह ’ग’ की भर्तियो में पारदर्शिता के लिए एक महत्वपूर्ण एवं अभिनव पहल का शुभारम्भ # विधान सभा अध्यक्ष एवं कैबीनेट मंत्री ने विभिन्न प्रजातियों के पौधों का रोपण किया #किसानों द्वारा आत्महत्या जैसी दुखद घटनाओं को रोकने के लिए प्रयास करना होगा ;राज्यपाल # मुख्‍य समाचार – चमोली 17 जुलाई,2017

देहरादून 17 जुलाई, 2017

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत द्वारा सोमवार को विधानसभा में राज्य में समूह ’ग’ की भर्तियो में पारदर्शिता के लिए एक महत्वपूर्ण एवं अभिनव पहल का शुभारम्भ किया। उत्तराखण्ड राज्य में समूह ’ग’ की सेवाओं में भर्ती के लिए प्रथम बार यह कदम उठाया गया है। अब भविष्य में अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की सभी परीक्षाओं में परीक्षा परिणाम निकाले जाने के साथ ही सभी अभ्यर्थियों की मूल ओ.एम.आर. शीट की स्कैन प्रति भी आयोग की वेबसाइट पर उपलब्ध होंगी। अभ्यर्थी अपनी जन्मतिथि व अनुक्रमांक डालकर मूल ओ.एम.आर. शीट की स्कैन प्रति देख सकेंगे, जिसके आधार पर संबंधित परीक्षा का परिणाम निकाला गया है।

इसके पहले 21 मई, 2017 से उत्तराखण्ड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग द्वारा प्रथम बार प्रदेश में तीन प्रतियों वाली मूल ओ.एम.आर. शीट का उपयोग प्रारम्भ किया गया था। इनमें प्रथम/मूल ओ.एम.आर. शीट गुलाबी रंग की है। यह परीक्षा परिणाम निकालने के लिए उपयोग में लाई जाती है। द्वितीय प्रति नारंगी रंग की है व यह प्रति परीक्षा केन्द्र से सीधे कोषागार जाती है व कोषागार में ही संबंधित पदों की अंतिम नियुक्ति हो जाने तक रखी जा रही है। तृतीय प्रति हरे रंग की है व इसे अभ्यर्थी परीक्षा के उपरान्त अपने साथ ले जाते है।
राज्य सरकार के इस निर्णय से अभ्यर्थी परीक्षा के दिन ले गई ओ.एम.आर. शीट तथा मूल ओ.एम.आर. शीट का मिलान कर यह सुनिश्चित कर सकेगा कि उसमें कोई परिवर्तन नही हुआ है। साथ ही मूल ओ.एम.आर. शीट व वेबसाइट आंसर-की के मिलान से यह भी स्वतः स्पष्ट हो जायेगा कि अभ्यर्थी को सही अंक मिले है।

अभ्यर्थियों को इस कदम से यह भी स्पष्ट होगा कि उनके द्वारा ओ.एम.आर. शीट पर उत्तर विकल्पों में 2 गोले बनाना, व्हाइटनर लगाया या उसे ब्लेड से खुरचने आदि पर उनके अंक काटे गये है। इससे भविष्य में ओ.एम.आर. शीट को सही ढंग से भरे जाने की प्रवृत्ति बढ़ेगी। स्वच्छ ओ.एम.आर. शीट्स होंगी व अभ्यर्थी को भी धीरे-धीरे इसका लाभ मिलेगा। उल्लेखनीय है कि आयोग द्वारा परीक्षा संचालन नियमों में यह पहले से स्पष्ट कर दिया गया है कि एक उत्तर में एक से अधिक गोले बनाना या 2 चिन्ह् बनाना, व्हाइटनर लगाना, खुरचना या अन्य तरह से ओ.एम.आर. शीट में छेड़छाड करने पर उस प्रश्न के लिए ऋणात्मक अंक दिया जायेगा।

कार्यक्रम में जानकारी दी गई कि परीक्षा के कलेंडर का समय पर प्रकाशन, परीक्षा के लिए यथा संभव बड़े व प्रतिष्ठित परीक्षा केन्द्रों का चयन, परीक्षा केंद्रो, केंद्र व्यस्थापकों, कक्ष निरीक्षकों, पर्यवेक्षकों व मजिस्ट्रेट के लिए सुस्पष्ट दिशा निर्देशों का गठन, परीक्षा से संबंधित सूचनाएं समाचार पत्रों, विभागीय वेबसाइट तथा एस.एम.एस. के माध्यम से अभ्यर्थियों को देना, प्रत्येक केंद्र पर मुख्य शिक्षा अधिकारी के माध्यम से पर्यवेक्षक की तैनाती व जिलाधिकारी के द्वारा एक मजिस्ट्रेट की तैनाती, चेकिंग व फ्रिस्किंग के लिये पुलिस विभाग के सहयोग से न्यूनतम एक महिला व एक पुरूष कांस्टेबल, होमगार्ड की प्रत्येक केन्द्र पर तैनाती, प्रत्येक केंद्र पर परीक्षा कंट्रोल रूम व यथासंभव परीक्षा कक्ष की वीडियोग्राफी, समयबद्ध आधार पर परीक्षाओं का आयोजन व परीक्षा परिणाम आदि जारी करना, निकट भविष्य में प्रायोगिक तौर पर आॅनलाइन परीक्षाओं को प्रारम्भ किये जाने के लिए कार्यवाही करना, आयोग की परीक्षाओं का प्रश्न पत्र वेबसाइट पर डालना आदि कदम उठाये गये है, ताकि प्रतियोगात्मक परीक्षाओं को पारदर्शी बनाया जा सकें।

इस अवसर पर कैबिनेट मंत्री डाॅ.हरक सिंह रावत, आयोग के अध्यक्ष श्री एस.राजू, सदस्य श्री दिवान सिंह भैसोड़ा, श्री महेश चन्द्र, आयोग के सचिव, परीक्षा नियंत्रक, वित्त नियंत्रक व अनुसचिव सहित आयोग के अधिकारी व कर्मचारी उपस्थित थे।

देहरादून 17 जुलाई, 2017
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने बताया कि रविवार को वसुंधरा वेडिंग प्वाइंट, बालावाला मे आयोजित जनसुनवाई कार्यक्रम में उन्हें जनता से स्थानीय समस्याओं तथा सुझावों से सम्बधित आवेदन प्राप्त हुए। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने बताया कि प्राप्त सभी आवेदनो को मौके पर ही रिकार्ड कर लिया गया है तथा उनके समाधान हेतु सम्बन्धित अधिकारियों को शीघ्र ही निर्देश दिए जायेंगे।

हरेला पर्व पर्यावरण एवं संस्कृति का पर्व; त्रिवेंद्र सिंह रावत

देहरादून 17 जुलाई, 2017(सू.ब्यूरो)

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने सोमवार को जीजीआईसी राजपुर रोड में धाद संस्था द्वारा हरेला पर्व के उपलक्ष्य में छात्र-छात्राओं द्वारा पर्यावरण एवं संस्कृति पर केन्द्रित रैली शुभारम्भ कार्यक्रम में प्रतिभाग किया। धाद संस्था को कार्यक्रम के सफल आयोजन हेतु बधाई देते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने छात्रों से कहा कि हरेला पर्व पर्यावरण एवं संस्कृति का पर्व है। भारत में प्रकृति पूजा की परम्परा रही हैं। यहां वृक्षों, सांपो, जन्तुओ तथा प्रकृति के विभिन्न रूपों की पूजा की जाती है। हमारी परम्पराएं वैज्ञानिक आधार रखती है। क्योंकि सभी प्राणी हमारी ईको सिस्टम का हिस्सा है अतः हमारी प्रकृति पूजा की परम्परा पर्यावरण संरक्षण तथा प्रकृति पे्रम का संदेश देती है। हमें अपनी पर्यावरण हितैषी परम्पराओं को बनाये रखना होगा। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने कहा कि हमारे राज्य में लगभग 12000 वन पंचायते है। हमारी इन वन पंयायतों में राज्य की महिलाओं की सक्रिय सहभागिता है। राज्य में महिलाएं महिला मंगल दलों, अन्य स्वयं सहायता समूहों तथा स्वयं के प्रयासों द्वारा पर्यावरण संरक्षण की दिशा में सक्रिय भागीदारी कर रही है। पर्यावरण संरक्षण में महिलाओं का महत्वपूर्ण योगदान है। हरेला के अन्र्तगत राज्य भर में एक महीने तक वृक्षारोपण किया जाएगा। राज्य में प्रत्येक व्यक्ति को वृक्षारोपण करना चाहिए। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने छात्रों कहा कि टाइम मैनेजमेंट का घ्यान रखे के साथ राष्ट्रीय तथा अन्र्तराष्ट्रीय घटनाओं की अद्यतन जानकारी भी रख। मुख्यमंत्री ने छात्रो से अनौपचारिक बातचीत के दौरान हाल ही के समाचार पत्रों में छपी घटनाओं के बारे में प्रश्न पूछे। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने छा़त्रों से पूछा कि क्या उन्हें पता है कि आज नए राष्ट्रपति का निर्वाचन है। छात्रों ने उत्साहित होकर मुख्यमंत्री के सभी प्रश्नों के उत्तर दिए। कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र ने विद्यालय के परिसर में वृक्षारोपण किया।

सिनेमा फेडरेशन द्वारा वित्त मंत्री से उनके हितों को सुरक्षित करने की मांग

आज दिनांक 17 जुलाई 2017 को मा0 वित्त मंत्री श्री प्रकाश पंत जी ने पैसिफिक होटल, सुभाष रोड, देहरादून में उत्तरांचल सिनेमा फेडरेशन द्वारा आयोजित गोष्ठी में मुख्य अतिथि के रूप में प्रतिभाग किया। गोष्ठी में मुख्य रूप से सिनेमा हॉल के रख रखाव पर होने वाले खर्च के बारे में विस्तार से चर्चा हुई। सिनेमा हॉल के रख-रखाव पर होने वाले अत्यधिक खर्च होने के कारण उत्तरांचल सिनेमा फेडरेशन ने अनुरक्षण शुल्क को सामान्य हॉल में 3ः00 रूपये से बढ़ाकर उत्तर प्रदेश की तर्ज पर 8ः00 रूपये और वातानुकूलित सिनेमा हॉल में 11ः00 रुपये किया जाय। सिनेमा हॉल के मालिकों ने मा0 मंत्री जी के सामने यह मांग रखी।

उत्तराखण्ड का सिनेमा कारोबार लगातार घाटे में चल रहा है और 70 सिनेमा हॉलों में से अब तक 48 सिनेमा हॉल बंद हो चुके हैं और शेष 22 सिनेमा हॉल आज की गला काट प्रतिस्पर्धा में पिछडते जा रहे हैं। सिनेमा हॉल के मालिकों ने अपनी व्यथा मा0 वित्त मंत्री जी के सामने रखते हुए उनके हितों को सुरक्षित करने की मांग की। सिनेमा हॉल के मालिकों ने मा0 मंत्री जी को बताया कि अनुरक्षण शुल्क बढ़ाने से न टिकट के दामों में कोई वृद्धि नहीं होगी और न ही सरकार को दिये जाने वाले राजस्व में कोई कमी आयेगी। उन्होंने बताया कि उक्त धनराशि अभी तक फिल्म वितरकों की जेबों में चली जाती है। इस अवसर पर मा0 मंत्री जी ने कहा कि जीएसटी आने से 17 तरह के विभिन्न टैक्स अब एक ही रूप में आ गये हैं और लगभग सभी तरह की दरों में कमी आई है। इस अवसर पर सिनेमा मालिकों ने मा0 मंत्री जी से मांग की कि जीएसटी आने से पूरे देश के टैक्स एक ही स्लैब में आ गये हैं तो हमसे शो टैक्स क्यों वसूला जा रहा है, शो टैक्स भी बंद होना चाहिए। इस पर मा0 मंत्री जी ने आश्वासन दिया कि इस समस्या को हल किया जायेगा।

गोष्ठी में मुख्य अतिथि श्री प्रकाश पन्त जी, चेयरमैन श्री दीपक नागलिया, सिनेमा फेडरेशन के अध्यक्ष सुशील अग्रवाल, सुयश अग्रवाल, राम मल्होत्रा, अशोक अग्रवाल और सभी सिनेमाघरों के मालिक उपस्थित थे।

विधान सभा अध्यक्ष एवं कैबीनेट मंत्री ने विभिन्न प्रजातियों के पौधों का रोपण किया

देहरादून 17 जुलाई ।
उत्तराखण्ड विधान सभा सचिवालय रक्षक संघ के तत्वावधान में विधान सभा परिसर देहरादून में आज विधान सभा अध्यक्ष श्री प्रेम चन्द अग्रवाल जी एवं कैबीनेट मंत्री यशपाल आर्य ने विभिन्न प्रजातियों के पौधों का रोपण किया।
इस अवसर पर श्री अग्रवाल ने कहा कि पौधारोपण समय की आवश्यकता है और इसे जन आन्दोलन से जोड़ा जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि हमें वृक्षारोपण के लिए अवसर ढूंढने चाहिए।

हरेला पर्व के उपलक्ष्य पर इस पौधारोपण कार्यक्रम में श्री अग्रवाल ने कहा कि आज उत्तराखण्ड विधान सभा में भारत के राष्ट्रपति के निर्वाचन के लिए विधायकों एवं मंत्रियों ने मतदान किया। उन्होंने कहा कि राष्ट्रपति का यह चुनाव हमारे लिए स्मृति बने रहे इसलिए आज का यह पौधारोपण स्वयं में यादगार सबित होगा।

श्री अग्रवाल ने कहा कि विभिन्न धार्मिक अवसरों पर भी पौधारोपण करना चाहिए साथ ही उसका संरक्षण भी होना चाहिए। इस अवसर पर कैबीनेट मंत्री यशपाल आर्य, विधान सभा उपाध्यक्ष रघुनाथ सिंह चैहान सहित दर्जनों विधायकों ने पौधारोपण कार्यक्रम में भाग लिया। इस अवसर पर कैबीनेट मंत्री यशपाल आर्य ने कहा कि पर्यावरण की रक्षा पौधारोपण से ही सम्भव है।
इस पौधारोपण के मौके पर विधायक राम सिंह कैड़ा, विधायक संजीव आर्य, विधायक यतीश्वरानन्द महाराज, उत्तराखण्ड रक्षक संघ के संरक्षक एवं वृक्षारोहपण कार्यक्रम के आयोजक जीवन सिंह बिष्ट, संघ के अध्यक्ष मकान सिंह खाती, सलाहकार चंडी प्रसाद थपलियाल, विधान सभा के उद्यान निरीक्षक एवं सौन्दर्यकरण इंचार्ज वी0सी0 सेमवाल, सबइंस्पैक्टर केसर सिंह, विजय भट्ट आदि सहित विधान सभा के अधिकारी कर्मचारी मौजूद थे।

::किसानों द्वारा आत्महत्या जैसी दुखद घटनाओं को रोकने के लिए प्रयास करना होगा ;राज्यपाल

* किसानों को ऋण के जाल से निकालने के लिए करने होंगे समन्वित प्रयास। नाबार्ड, बैंक व अन्य संस्थाएं भी निभाएं प्रभावी भूमिका: राज्यपाल
* कृषि अनुसंधान व कृषि शिक्षा के लिए ऋण देने पर विचार करे नाबार्ड।
* पलायन को रोकने के लिए भूमि-उत्पादकता को बढ़ाना जरूरी।
* नाबार्ड के 36 वें स्थापना दिवस पर राज्यपाल डाॅ.कृष्ण कांत पाल ने सम्बोधित किया।

राजभवन देहरादून, 17 जुलाई, 2017

एक स्थानीय होटल में नाबार्ड के 36 वें स्थापना दिवस पर आयोजित कार्यक्रम में बतौर मुख्य अतिथि अपने सम्बोधन में राज्यपाल डाॅ. कृष्ण कांत पाल ने कहा कि किसानों द्वारा आत्महत्या जैसी दुखद घटनाओं को रोकने के लिए नाबार्ड सहित विभिन्न संस्थाओं को समन्वित प्रयास करना होगा। उŸाराखण्ड में पलायन को रोकने के लिए भूमि की उत्पादकता में वृद्धि पर बल देना होगा। नाबार्ड, कृषि शिक्षा व अनुसंधान के लिए ऋण उपलब्ध करवाने पर विचार करे।

राज्यपाल ने कहा कि हाल ही में देश के कई स्थानों से कर्जग्रस्त किसानों द्वारा आत्महत्या की घटनाएं सामने आई हैं। किसानों को गरीबी के जंजाल से निकालने के लिए भारत सरकार ने खाद्य सुरक्षा से आगे बढ़कर किसानों की आय सुरक्षा की महत्वपूर्ण पहल की है। प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा वर्ष 2022 तक किसानों की आय को दोगुना करने का लक्ष्य रखा गया है। इसमें नाबार्ड व अन्य संस्थाओं को भी सक्रिय भूमिका निभानी होगी। किसानों के कल्याण पर फोकस किए जाने की आवश्यकता है। कृषि की उत्पादकता को बढ़ाने के लिए कृषि शिक्षा पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए। कृषि व गैर कृषि आय के अंतर को कम करना होगा। किसानों की आय में कमी का विपरीत प्रभाव पूरे कृषि क्षेत्र पर पड़ता है। कृषि क्षेत्र की अधिक उत्पादकता के उपाय करते हुए युवाओं का रूझान कृषि क्षेत्र की ओर किया जाना जरूरी है।
राज्यपाल ने कहा कि व्यापारिक बैंकों द्वारा एजुकेशन लोन दिए जाते हैं। नाबार्ड को कृषि अनुसंधान, कृषि शिक्षा के लिए ऋण उपलब्ध करवाने पर विचार करना चाहिए। कृषि में आधुनिक तकनीक के उपयोग को बढ़ावा देना होगा। राज्यपाल ने मृदा संरक्षण व जल संरक्षण पर भी बल दिया। उन्होंने कहा कि खेती में उर्वरकों व पानी के जरूरत से कहीं अधिक उपयोग किए जाने की प्रवृŸिा को रोकने के लिए किसानों को शिक्षित करना होगा। फसलों के सही पैटर्न पर भी किसानों को समुचित जानकारी दी जाए।

राज्यपाल ने नाबार्ड को उसके 36 वें स्थापना दिवस पर बधाई देते हुए कहा कि ग्रामीण व कृषि विकास में नाबार्ड की प्रमुख भूमिका रही है। राज्यपाल ने इस अवसर पर उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले स्वयं सहायता समूहों, बैंक शाखाओं आदि को सम्मानित किया। कार्यक्र्रम में केबिनेट मंत्री श्री प्रकाश पंत, श्री सुबोध उनियाल, राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) डा.धन सिंह रावत, नाबार्ड के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

मुख्‍य समाचार – चमोली 17 जुलाई,2017

चमोली 17 जुलाई,2017
बद्रीनाथ विधानसभा क्षेत्र के विधायक महेन्द्र भट्ट जनपद भ्रमण पर पहुॅच रहे है। भ्रमण कार्यक्रम के अनुसार क्षेत्रीय विधायक 20 जुलाई को 3ः00 बजे सायं को घुडसाल पहुॅचकर घुडसाल मंन्दिर में रथ यात्रा कार्यक्रम में भाग लेंगे तथा रात्रि विश्राम पीपलकोटी में करेंगे। 21 जुलाई को सुबह 9ः00 बजे नवोदय विद्यालय पीपलकोटी में वृक्षारोपण कार्यक्रम में भाग लेगें तथा 11ः00 बजे बेमरू में प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र बेमरू का उद्घाटन करेंगे और रात्रि विश्राम गोपेश्वर में करेंगे। 22 जुलाई को 11ः00 बजे हरमनी पहुॅचकर रा0 माॅडल उच्चतर प्रा.वि. हरमनी में अभिभावक शिक्षक उन्नयन गोष्ठि में भाग लेगें। दोपहर 3ः00 बजे पपलियाणा गांव में जन संपर्क करने के पश्चात सायं 4ः00 बजे हल्दापानी में शिवपुराण कथा श्रवण में भाग लेंगे। सायं 5ः00 बजे पाडुल में जन संपर्क कर रात्रि विश्राम गोपेश्वर लोनिवि गेस्ट हाउस में करेंगे। 23 जुलाई को सुबह 10ः30 बजे लोनिवि गेस्ट हाउस में पत्रकार वार्ता, 11ः30 बजे गोपेश्वर गांव तथा दोपहर 1ः00 बजे नेग्वाड में जन संपर्क करेंगे और रात्रि विश्राम वन विभाग गेस्ट हाउस नन्दप्रयाग में करेंगे। 24 जुलाई को सुबह 9ः00 बजे मांसों गांव में वृक्षारोपण कार्यक्रम में भाग लेगें। दोपहर 12ः00 बजे लोनिवि गेस्ट हाउस पोखरी में कार्यकर्ताओं से भेंट करेंगे। दोपहर 1ः00 बजे से वल्ली, खन्नी, नोठा, सटियाना तथा थालाबैंड का क्षेत्र भ्रमण कर रात्रि विश्राम थालाबैंड में करेंगे। 25 जुलाई को प्रातः 10ः00 बजे से कन्सारी तथा ताली गावं का भ्रमण कर जन संपर्क करेंगे तथा सायं 3ः00 बजे वन विभाग रेंज मोहनखाल में वृक्षा रोपण कार्यक्रम में भाग लेगें।

चमोली 17 जुलाई,2017
26 जुलाई कारगिल दिवस/शौर्य दिवस समारोह पर आयोजित होने वाले कार्यक्रमों की रूपरेखा तैयार करने हेतु 19 जुलाई को प्रातः 11ः00 बजे से जिलाधिकारी आशीष जोशी की अध्यक्षता में जिला कार्यालय सभागार में बैठक आहूत की गयी है। यह जानकारी देते हुए जिला कार्यालय के प्रभारी अधिकारी ने सभी जिला स्तरीय अधिकारियों/कार्यालयाध्यक्षों को निर्धारित तिथि एवं समय पर बैठक में प्रतिभाग करने को कहा है।

चमोली 17 जुलाई,2017
जिलाधिकारी आशीष जोशी की अध्यक्षता में 24 जुलाई को प्रातः 11ः00 बजे जिला कार्यालय सभागार में जिला स्तरीय पुननिर्रिक्षण समिति पर गठित समिति की बैठक आहूत की गयी है। बैठक में जून 2017 तक सभी बैंकों की सीडी रेशियों व ऋण वितरण की प्रगति के साथ अन्य सरकारी योजनाओं की प्रगति समीक्षा की जायेगी। यह जानाकरी देते हुए लीड बैंक प्रबन्धक शिवराज क्षेत्री ने सभी बैंक शाखा प्रबन्धकों एवं संबधित विभागीय अधिकारियों को अद्यतन जानकारी के साथ बैठक में प्रतिभाग करने को कहा है।

चमोली 17 जुलाई,2017

क्षेत्र पंचायत घाट की बैठक 27 जुलाई को प्रातः 11ः00 बजे क्षेत्र पंचायत प्रमुख घाट की अध्यक्षता मे विकास खण्ड सभागार घाट में आहूत की गयी है। यह जानकारी देते हुए खण्ड विकास अधिकारी घाट मोहन चन्द्र अंचल ने क्षेत्र के जिला पंचायत सदस्यों, समस्त क्षेत्र पंचायत सदस्यों, प्रधानगणों एवं सभी अधिकारियों से यथासयम बैठक में प्रतिभाग करने का आग्रह किया है।

चमोली 17 जुलाई,2017

जल संचय अभियान के तहत सभी कार्यालयों, आवासों तथा सार्वजनिक शौचालयों के सिस्टन में एक-एक लीटर पानी की बोतल भरकर रखना सुनिश्चित करें। यह निर्देश मुख्य विकास अधिकारी विनोद गोस्वामी ने जल संचय के नोडल अधिकारी/अधिशासी अभियंता जल संस्थान को जारी किये है।

मुख्य विकास अधिकारी ने बताया कि जल संचय अभियान के तहत शासन के निर्देशानुसार जिले में 22 हजार शौचालयों के सिस्टन में एक-एक लीटर पानी की बोतल रखने का लक्ष्य निर्धारित किया गया है। जिससे सिस्टन का उपयोग करने पर एक लीटर पानी की बचत हो सके। जिले मेें इस कार्य की धीमी प्रगति पर गहरी नाराजगी जाहिर करते हुए मुख्य विकास अधिकारी ने किसी भी दशा में 22 जुलाई तक आवंटित लक्ष्य को पूर्ण करने के निर्देश नोडल अधिकारी को दिये। उन्होंने कार्य संपादन के लिए नोडल अधिकारी के साथ सभी तहसीलदार, खण्ड विकास अधिकारी, जिला पर्यटन विकास अधिकारी तथा नगर पालिकाओं के अधिशासी अधिकारियों की जिम्मेदारी तय करते हुए 23 जुलाई तक रिपोर्ट उपलब्ध कराने के निर्देश दिये।

उन्होंने सभी खण्ड विकास अधिकारी तथा तहसीलदार आपस में समन्वय कर अपने विकास खण्ड/तहसील के सभी राजस्व ग्राम के 10 शौचालयों, नगर पालिका परिषद को 2 हजार तथा नगर पंचायत को 1 हजार शौचालयों के सिस्टेन में एक-एक पानी की बोतल रखवाने के निर्देश दिये। सभी यात्री विश्राम गृहों, होटल एवं लाॅज के शौचालयों के सिस्टन में पानी की बोतल रखवाने के निर्देश जिला पर्यटन विकास अधिकारी को दिये।

चमोली 17 जुलाई,2017
सुरक्षित यातायात के लिए सड़कों पर चिन्हित ब्लैक स्पाॅटों तथा डेंजर मोडों पर क्रैश बैरियर, पैराफीट, रिफ्लेक्टर तथा वाइट लाइन की मार्किंग करना सुनिश्चित करें तथा निर्माणाधीन सड़कों के मलवे का उचित तरीके से निस्तारण करना सुनिश्चित करें। यह निर्देश जिलाधिकारी आशीष जोशी ने जनपद स्तरीय सड़क सुरक्षा समिति की बैठक लेते हुए लोनिवि, पीएमजीएसवाई, बीआरओ तथा एडीबी के अधिकारियों को दिये।

जिलाधिकारी ने सभी प्रमुख सड़कों पर चिन्हित ब्लैक स्पाॅटों पर आवश्यक सुरक्षा उपाय करने तथा कार्यदायी संस्थाओं को आवश्यक मरम्मत कार्य पूरा करने केे निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि दुर्घटना संभावित स्थलों तथा संकरे सड़क मार्गो पर पैराफिट एवं चेतावनी के लिए साइनबोर्ड लगाये जाय। सिंगल लाइन सड़कों के किनारे सफेद पट्टी लगाने को भी कहा। सड़कों के किनारे जगह-जगह रखी भवन निर्माण आदि सामग्री को शीघ्र हटाने के निर्देश दिये। उन्होंने दुर्घटना वाले स्थलों पर आवश्यकता के अनुसार रोड़ साइनेज, रिफ्लेक्टिंग पोल, क्रेश बैरियर, पैराफीट एवं फाॅग लाइन लगाने एवं मार्गो पर सूचनात्मक, आदेशात्मक एवं प्रतिषेधात्मक रोड़ साइनेज लगाने के निर्देश दिये। सड़कों के किनारे लगे अनावश्यक होर्डिगों को भी हटाने के निर्देश जारी किये है तथा सड़क मार्गो पर पानी रूकने वाले स्थानों पर पानी कि निकासी हेतु नालियां बनाने के निर्देश दिये।

बीआरओ द्वारा सड़क सुरक्षा समिति बैठक में प्रतिभाग न करने पर उनके उच्चाधिकारियों से पत्राचार करने के निर्देश सहायक सभागीय परिवहन अधिकारी को दिये। जिलाधिकारी ने थराली-ग्वालदम मोटर मार्ग की खस्ता हालत पर गहरी नाराजगी जाहिर करते हुए एसडीएम थराली को जाॅच रिपोर्ट देने के निर्देश दिये। नगर पालिका गोपेश्वर में सड़क मार्गो के किनारों पर जगह-जगह रखी भवन निर्माण आदि सामग्री को शीघ्र हटाने के निर्देश दिये। वहीं नगर पालिका क्षेत्रों में सडकों के किनारे अनधिकृत दुकानों, फड, अवैध अतिक्रमण को हटाने के सख्त निर्देश दिये। मोटर साईकिल पर तीन व्यक्ति बैठाने, बिना हैलमेट के मोटर साईकिल चलाने पर चालान काटने के निर्देश दिये। पेट्रोलियम पदार्थो को ले जाने वाले भारी वाहनों में अवाश्यक सुरक्षा उपकरण न होने की जाॅच करने के निर्देश संभागीय परिवहन एवं पूर्ति अधिकारी को दिये। बताया गया कि सुप्रीम कोर्ट के निर्देशाुनसार सड़क दुर्घटना में घायल व्यक्ति को अस्पताल पहुॅचाने वाले गुड सेमिरिटन व्यक्ति से किसी भी तरह की पूछताछ नहीं की जायेगी क्योंकि घायल को सर्व प्रथम उपचार की आवश्यकता होती है। जिलाधिकारी ने शिक्षा विभाग के अधिकारियों को सड़क सुरक्षा के संबध में स्कूल एसेंम्बली में छात्रों को जागरूक करने को कहा।

जिलाधिकारी ने शहरों के प्रमुख मार्गो पर यातायात का दबाव कम करने के लिए अनधिकृत पार्किंग वाहनों का चालान करने के निर्देश पुलिस एवं नगर पालिकाओं को दिये है। जिला पूर्ति अधिकारी को सभी पेट्रोल पम्पों पर दुपहिया वाहनों को बिना हैलमैट पट्रोल न देने के निर्देशों का कडाई से पालन सुनिश्चित करने को कहा। नगर पालिक क्षेत्रों में सड़क पर हो रहे अतिक्रमण की जाॅच कर शीघ्र अतिक्रमण हटाने के निर्देश नगर पालिकाओं को दिये। जिलाधिकारी ने कर्कष हाॅर्न बजाने के विरूद्व कार्यवाही करने, दुपहिया वाहनों पर दो से अधिक सवारी बैठाने पर रोक लगाने, दुपहिया वाहनों के लिए हेलमैट की अनिवार्यता रखने,, वायु प्रदुषण फैलाने वाले वाहनों की जाॅच करने, वर्षो पुराने वाहनों की फिटनेस जाॅच करने, डम्फर वाहनों पर रिफ्लेक्टर लगवाने, अपंजीकृत वाहनों के खिलाफ कार्यवाही करने के निर्देश सहायक सभागीय परिवहन अधिकारी को दिये। उन्होंने समय-समय पर गहन संयुक्त चैकिंग अभियान चलाने के भी निर्देश एआरटीओ को दिये है। बैठक में सड़क सुरक्षा को दृष्टिगत रखते हुए आवश्यक उपाय किये जाने पर विस्तार से चर्चा की गयी।

बैठक में सहायक सभागीय परिवहन अधिकारी पंकज श्रीवास्तव, मुख्य चिकित्साधिकारी डाॅ निदेश चन्द्र, एसडीएम सदर परमानंद राम, एसडीएम थराली सीएस डोभाल, एसडीएम केएन गोस्वामी, एसडीएम योगेन्द्र सिंह, सहित पुलिस, एनएच, एडीबी, लोनिवि, पीएमजीएसवाई आदि विभागीय अधिकारी व टैक्सी यूनीयन के पदाधिकारी उपस्थित थे।

चमोली 17 जुलाई,2017
जिला आपदा कन्ट्रोल रूम से मिली जानकारी के अनुसार 16 जुलाई को 1,142 तीर्थयात्री बद्रीनाथ तथा 470 तीर्थयात्री हेमकुण्ड साहिब दर्शनार्थ पहुॅचे। 16 जुलाई तक 6,52,406 तीर्थयात्री बद्रीनाथ तथा 89,398 तीर्थयात्री हेमकुण्ड साहिब के दर्शन कर चुके है। 17 जुलाई को प्रातः 8ः00 बजे अलकनंन्दा नदी का जलस्तर 954.37 मी0, नन्दाकिनी का 868.15 मी0 तथा पिण्डर का 768.81 मी0 मापा गया। वही तहसील चमोली में 26.0 एमएम, कर्णप्रयाग में 52.6 एमएम, जोशीमठ 6.1 एमएम, पोखरी में 15.0 एमएम, गैरसैंण में 18.0 एमएम तथा थराली में 12.1 एमएम वर्षा रिकार्ड की गयी। कर्णप्रयाग-बद्रीनाथ, कर्णप्रयाग-ग्वालदम तथा कर्णप्रयाग-गैरसैंण मोटर मार्ग यातायात के लिए खुले है।

Leave a Comment