Share
राहुल की PM उम्मीदवारी को बढ़ रहा समर्थन, अब तक ये दल आए पक्ष में

राहुल की PM उम्मीदवारी को बढ़ रहा समर्थन, अब तक ये दल आए पक्ष में

नयी दिल्ली। कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक के बाद कुछ विश्वसनीय सूत्रों ने बताया कि यूपीए गठबंधन में शामिल अधिकत्तर लोगों को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के नेतृत्व में आगे बढ़ना पसंद है। बता दें कि विपक्षी एकजुटता में प्रधानमंत्री पद को लेकर पेंच फंसा हुआ था, लेकिन पार्टी सूत्रों से पता चला है कि राजेडी, जेडीएस, राष्ट्रीय लोक दल, झारखंड मुक्ति मोर्चा, इंडियन यूनियन मुस्लिम लीग, एनसीपी और शरद यादव की नवगठित पार्टी समेत केरला कांग्रेस को राहुल गांधी का साथ पसंद है।

इसके अलावा राजग की घटक शिवसेना को भी लगता है कि राहुल गांधी बेहतर प्रधानमंत्री हो सकते हैं। पार्टी ने हाल ही में बयान दिया था कि राहुल गांधी अब परिपक्व राजनेता बन चुके है। आम आदमी पार्टी ने भी ऐसे संकेत दिए हैं कि वह बीजेपी को रोकने के लिए राहुल गांधी का समर्थन कर सकती है।
राहुल गांधी के साथ को लेकर अभी तक संशय बना हुआ था, लेकिन सीडब्लूसी की बैठक के बाद इन दलों ने 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में विपक्षी गठबंधन का चेहरा राहुल गांधी को मंजूर किया है। वहीं जेडीएस प्रमुख एचडी देवेगौड़ा ने स्पष्ट कर दिया कि उन्हें राहुल गांधी बतौर प्रधानमंत्री उम्मीदवार मंजूर हैं।
उल्लेखनीय है कि कर्नाटक में जेडीएस और कांग्रेस के गठबंधन वाली सरकार के मुख्यमंत्री कुमारास्वामी हैं, ऐसे में एचडी देवेगौड़ा का आने वाले चुनावों में गठबंधन करना कोई मुश्किल काम नहीं दिख रहा था। वहीं कुमारास्वामी ने पहले ही बोला था कि प्रधानमंत्री पद के लिए राहुल गांधी से अच्छा कोई और उम्मीदवार हो नहीं सकता है।
हालांकि, ममता बनर्जी की पार्टी टीएमसी, मायावती की बसपा, सीताराम येचुरी की माकपा और अखिलेश की सपा ने अभी इस विषय पर कुछ नहीं कहा है। ऐसे में राजनीतिक विशेषज्ञों का मानना है कि ये सभी दलों धीमे स्वर में राहुल की उम्मीदवारी का विरोध कर रहे हैं। आपको याद दिला दें कि कर्नाटक चुनाव के दौरान जब राहुल गांधी से पूछा गया था कि वह 2019 में क्या वह प्रधानमंत्री बन सकते हैं तो उन्होंने कहा था कि क्यों नहीं।
हालांकि, मानसून सत्र के दौरान जब अविश्वास प्रस्ताव पेश किया गया तो प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा था कि राहुल गांधी को प्रधानमंत्री बनने की काफी जल्दी है। वह मुझे इस कुर्सी से उठाने आए थे। उन्हें पता नहीं है कि मुझे 125 करोड़ जनता ने इस जगह पर बैठाया है और वही मुझे यहां से उठा सकते हैं।
बता दें कि मानसून सत्र में राहुल गांधी द्वारा दिए गए 15 मिनट के भाषण के बाद उनकी छवि में सुधार देखा गया। जिसका फायद कांग्रेस के पोस्टरों में दिखाई दे रहा है। कांग्रेस ने अपने पोस्टर्स में लिखा है कि नफरत से नहीं, प्यार से जीतेंगे। इस कैप्शन के साथ राहुल गांधी का पीएम मोदी को गले लगाने वाले तस्वीर का भी इस्तेमाल किया गया है।
कांग्रेस पहले यह साफ कर चुकी है कि हमारा निर्णय सटीक, सपाट और स्पष्ट हैं कि राहुल गांधी हमारा चेहरा है। हम उनके नेतृत्व में जनता के बीच जाएंगे। जब हम सबसे बड़ा दल होंगे तो स्वाभाविक रूप से राहुल ही चेहरा होंगे।

Leave a Comment