Share
श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जन्मदिवस पर सहसपुर विधानसभा के ग्राम भाऊवाला में आयोजित सम्मेलन में यह बात कही

श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जन्मदिवस पर सहसपुर विधानसभा के ग्राम भाऊवाला में आयोजित सम्मेलन में यह बात कही

देहरादून 06 जुलाई, 2017

’’राज्य वासियों को नागरिक दायित्व निभाने चाहिए। यदि कहीं कुछ गलत हो रहा है, तो उसकी शिकायत अधिकारियों से करें। यदि अधिकारी समय पर उचित कार्यवाही नहीं करते हैं, तो कोई भी व्यक्ति मुख्यमंत्री से ऐसे अधिकारी की शिकायत कर सकता है।’’ मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने गुरुवार को डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जन्मदिवस पर सहसपुर विधानसभा के ग्राम भाऊवाला में आयोजित सम्मेलन में यह बात कही। इसके साथ ही मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने घोषणा की कि सहसपुर नहर का नाम डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर रखा जाएगा तथा इसके स्रोत पर डॉ.मुखर्जी के नाम पर एक जलाशय का निर्माण भी किया जाएगा।

साइंस सिटी भी सहसपुर में ही विकसित की जाएगी। साइंस सिटी राज्य के लिए सम्मान का विषय है। सहसपुर में पहले से ही विभिन्न उच्च शिक्षा तथा तकनीकी संस्थान है। अतः साइंस सिटी हेतु यह एक उपयुक्त स्थान है। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कहा कि सरकार ने लगभग साढे तीन माह का कार्यकाल पूरा कर लिया हैं। तथा इस बीच हमने अनुभव किया है कि राज्य के पास सीमित संसाधन है, परंतु संसाधनों के सदुपयोग द्वारा राज्य का विकास सुनिश्चित किया जा सकता है। राज्य सरकार विकास के कार्यों में कोई बाधा उत्पन्न नहीं होने देगी। मुख्यमंत्री ने का कहा कि हमने अपने विधायकों को कहा है, कि प्रत्येक विधायक अपनी-अपनी विधानसभा में होने वाले विकास संबंधित कार्यों को निर्धारित करें। प्रत्येक विधायक अपने क्षेत्र की प्राथमिकता जनभागीदारी से तय करें। 98 प्रतिशत घोषणाओं को समयबद्ध रूप से पूरा किया जाएगा। मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कहा कि राज्य सरकार की प्राथमिकता है कि सबसे पहले भ्रष्टाचार को समाप्त किया जाए तथा पारदर्शी तथा संतुलित विकास सुनिश्चित किया जाए। राज्य सरकार मात्र 2 प्रतिशत ब्याज दर पर लघु और सीमांत किसानों को ऋण उपलब्ध करवा रही है। राज्य में माध्यमिक शिक्षा की स्थिति अच्छी है, परंतु हमें अपनी उच्च शिक्षा की गुणवत्ता सुधारनी होगी। इस दिशा में राज्य सरकार द्वारा शीघ्र एन.आई.एफ.टी., एन.आई.आई.टी., प्लास्टिक टेक्नोलॉजी का संस्थान हॉस्पिटैलिटी यूनिवर्सिटी स्थापित किया जा रहा है। पिछले 100 दिनों में सरकार द्वारा राज्य के भविष्य का रोडमैप तैयार किया गया है। राज्य में डॉक्टरों की कमी पूरा करने हेतु हमने भारतीय सेना से सेवानिवृत्त सुपर स्पेशलिटी डॉक्टरों को उत्तराखंड में अपनी सेवाएं देने का अनुरोध किया था। यह अत्यंत प्रसन्नता की बात है कि अभी तक भारतीय सेना के 100 डॉक्टर्स ने उत्तराखंड के दूरस्थ क्षेत्रों में अपनी सेवाएं देने का प्रस्ताव रखा है।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने बताया कि श्रीनगर मेडिकल कॉलेज तथा अल्मोड़ा मेडिकल कॉलेज को भारतीय सेना द्वारा संचालित किया जाएगा। इससे सैनिकों तथा जनसामान्य दोनों का लाभ मिलेगां डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी के जन्म दिवस की बधाई देते हुए मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कहा कि डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी न केवल जनसंघ के संस्थापक थे अपितु वह एक प्रकांड विद्वान, महान शिक्षाविद् तथा मात्र 32 वर्ष की आयु में कलकत्ता विश्वविद्यालय के कुलपति बने। आज से 52 वर्ष पूर्व देहरादून के सहसपुर आए थे तथा सहसपुर नहर का उद्घाटन किया था। वह एक महान शिक्षाविद थे, परंतु उनका व्यक्तित्व अत्यंत सादगीपूर्ण था। इस अवसर पर मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने लगभग 15 करोड़ की घोषणाएं स्वीकृत की जिनमें राजावाला मोटर मार्ग पुनर्निर्माण, सहसपुर मोटर रोड निर्माण, नंदा की चैकी गाड़ी मोटर मार्ग निर्माण, नल कूप निर्माण, पाइपलाइन सुदृढ़ीकरण, नालियों का निर्माण आदि प्रमुख थी।
इस अवसर पर विधायक श्री मुन्ना सिंह चैहान भी उपस्थित थे।

देहरादून 06 जुलाई, 2017

राज्यपाल डाॅ.कृष्णकांत पाल ने गुरूवार को जनपद पिथौरागढ़ की तहसील धारचूला के धारचूला-तवाघाट मोटर मार्ग में हुई वाहन दुर्घटना में मृतकों के प्रति गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगतों की आत्मा की शांति एवं दुःख की इस घड़ी में शोकसंतप्त परिजनों को धैर्य प्रदान करने एवं घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की ईश्वर से कामना की है।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने जनपद पिथौरागढ़ की तहसील धारचूला के धारचूला-तवाघाट मोटर मार्ग में हुई वाहन दुर्घटना में मृतकों के प्रति गहरा दुःख व्यक्त किया है। उन्होंने दिवंगतों की आत्मा की शांति एवं दुःख की इस घड़ी में उनके परिजनों को धैर्य प्रदान करने एवं घायलों के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की ईश्वर से कामना की है।

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने गुरूवार को सचिवालय में बैठक लेते हुए स्कूलों की स्थितियों में सुधार पर बल देते हुए कहा कि स्कूलों में इनोवेटिव कार्य पर बल दें। प्रतिभा खोज का प्रयास करें। मुख्यमंत्री ने कहा कि निजी एवं सरकारी स्कूल के तुलनात्मक अध्ययन किया जाए। उन्होंने कहा कि यदि स्कूलों को क्लब किया जा सकें, तो इसके लिए प्रयास किये जाए। करें।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कहा कि छोटी-छोटी बात पर हड़ताल करना उचित नही है। विभाग के अधिकारी यूनियन के साथ बातचीत करके समस्या का समाधान कर लें। समय पर प्रमोशन दिया जाए। स्कूली शिक्षा को वैज्ञानिक बनाने के लिए एन.सी.ई.आर.टी. पुस्तकों के चलन के लिए आवश्यक तैयारियां कर लिया जाए। माॅडल स्कूल को विकसित करके इसमें पर्याप्त स्टाॅफ, उपकरण आदि दिये जाए, ताकि माॅडल स्कूल का औचित्य सिद्ध हो सकें।

मुख्यमंत्री ने कहा कि शिक्षा का क्षेत्र रोजगार का साधन नही है। हमारा मुख्य उद्देश्य शिक्षा का वातावरण बनाना है। शिक्षा में गुणवत्ता सुधार पर बल देते हुए कहा कि उप शिक्षा अधिकारी व खण्ड शिक्षा अधिकारी स्कूलो का भ्रमण करें। शिक्षा की गुणवत्ता सुधार एवं माडल स्कूल निर्माण के आस-पास के 5-7 कि.मी. के स्कूलों को क्लब करके, स्टाॅफ, उपकरण आदि दिये जाए। इस संबंध में ब्लाॅक लेवल पर नोडल अधिकारी तैनात करके 35 दिनों में शासन का रिपोर्ट उपलब्ध कराई जाए। स्वच्छता कार्यक्रम पर विशेष बल दिया जाए। अक्षय पात्र योजना की देहरादून, हरिद्वार, रूद्रपुर, काशीपुर में तैयारी पूर्ण कर ली जाए। इसके पश्चात् अन्य स्थलों पर इस योजना को लागू करने का प्रयास करें।
मुख्यमंत्री श्री त्रिवेंद्र ने कहा कि दुर्गम क्षेत्रों में अध्यापकों की तैनाती की जाए। ट्रांसर्फर को दण्ड न समझा जाए। उन्होंने कहा कि प्रतियोगिताओं को देखते हुए मातृभाषा के साथ-साथ अंग्रेजी भाषा के ज्ञान के लिए भी प्रयास किये जाए।
इस अवसर पर शिक्षा मंत्री श्री अरविंद पाण्डेय, सचिव श्री चन्द्रशेखर भट्ट, श्री शैलेश बगोली, श्रीमती राधिका झा, निदेशक शिक्षा डाॅ. आर.के.कुंवर, निदेशक युवा कल्याण श्री प्रशान्त आर्य आदि उपस्थित थे।

## उच्च शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक
देहरादून 06 जुलाई, 2017
प्रदेश के उच्च शिक्षा, सहकारिता, दुग्ध विकास एवं प्रोटोकाॅल राज्यमंत्री(स्वतंत्र प्रभार) डाॅ0 धन सिंह रावत ने विधान सभा के सभाकक्ष उच्च शिक्षा विभाग की समीक्षा बैठक की।
डाॅ0 रावत ने निदेशक उच्च शिक्षा डाॅ0 बी0सी0मलकानी को प्राचार्यों की रिक्त पदों पर डी0पी0सी0 20 जुलाई, 2017 को पूर्ण करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि कतिपय विद्यालयों मे प्राचार्य के पद रिक्त होने के कारण एक ही प्राचार्य के पास 2-3 महाविद्यालयों का अतिरिक्त प्रभार होने के कारण पठन-पाठन कार्य प्रभावित होता है। उन्होंने समस्त विश्वविद्यालय समयबद्ध लक्ष्य(कैलेंण्डर)11 जुलाई तक समाचार पत्रों में हर हाल में प्रकाशन कराने के निर्देश दिये।

डाॅ0 रावत ने सभी महाविद्यालयों में बायोमैट्रिक हाजरी की अनिवार्यता सुनिश्चित कराने के निर्देश दिये। सभी प्राचार्याें की बायोमैट्रिक उपस्थिति की भी कार्ययोजना बनाने के निर्देश दिये। उच्च शिक्षा मंत्री ने सभी महाविद्यालयों को शौचालय, फर्नीचर एवं विज्ञान प्रयोगशाला से आच्छादित करने हेतु अपर मुख्य सचिव को धनराशि जारी करने के निर्देश दिये। उन्होंने कहा कि महाविद्यालयों में अवस्थापना विकास करने के लिए कतिपय उपक्रमों द्वारा पहल भी कि जा रही है।

डाॅ0 रावत ने कहा कि महाविद्यालयों में 180 दिन कक्षा चलाने, समयबद्ध परीक्षा संचालित करने एवं परिणाम घोषित करने, राष्ट्रध्वज फहराने, राष्ट्रगान एवं राष्ट्रगीत वाचन आदि बिन्दुओं सभी छात्र संघों से सहमति बन चुकी है। उन्होंने इन सभी कार्यों का अनुश्रवण करने के लिए संयुक्त निदेशक स्तर के अधिकारी की तैनाती करने के निर्देश दिये।

उन्होंने महाविद्यालयों में रिक्त शिक्षकों की त्वरित तैनाती के लिए शिक्षा चयन आयोग गठन का प्रस्ताव आगामी कैबिनेट में लाने के निर्देश दिये तथा शिक्षकों की कमी दूर करने के लिए उचित मानदेय पर गेस्ट फैकल्टी की नियुक्ति शीघ्र करने के निर्देश दिये। उन्होंने उच्च शिक्षा की नियमावली को कैबिनेट में लाने के निर्देश दिये। विश्वविद्यालयों मंे रजिस्ट्रार के रिक्त पदों पर नियुक्ति हेतु शीघ्र नियमावली बनाने के निर्देश दिये जिसमें योग्यता प्रोफेसर स्तर की रखने को कहा, जिससे महाविद्यालयों का पठन-पाठन का कार्य अच्छी तरह से सम्पन्न हो सके। उन्होंने समस्त महाविद्यालयों में छात्रों को अपने देश का गौरवशाली इतिहास जानने के लिए परमवीर चक्र प्राप्त सैनिकों के चित्रों की शौर्य दीवार स्थापित कराने के भी निर्देश दिये। उन्होंने सैमेस्टर सिस्टम पर भी विस्तार से चर्चा की। उन्होंने कहा कि एन0सी0सी0 व एन0एस0एस0 के माध्यम से नमामि गंगे परियोजना के कार्य को संचालित करने के लिए केन्द्र सरकार से भी वार्ता हुई है। उन्होंने उच्च शिक्षा की समस्याओं की जानकारी तथा उनके निस्तारण के लिए टोल फ्री नं0 भी शीघ्र तैयार करने के निर्देश दिये तथा माह जुलाई में स्वैच्छिक रक्तदान अभियान चलाने के निर्देश दिये तथा अभियान के दौरान रक्तदाताओं का विवरण रजिस्टर तैयार करने के निर्देश दिये ताकि आवश्यकता पड़ने पर जरूरतमन्द मरीजों को रक्त दिलाया जा सके। इस दौरान अधिक रक्तदान देने वाले रक्तदाताओं को सम्मानित करने तथा उनके द्वारा छात्रों में प्रेरणा जगाने के लिए उनका व्याख्यान भी कराने के निर्देश दिये। उन्होंने जानकारी दी कि राष्ट्रीय बुक ट्रस्ट द्वारा देहरादून में माह अगस्त में पुस्तक मेला लगाने की स्वीकृति प्राप्त हुई है। जिसमें रूसा के माध्यम से उच्च शिक्षा की गुणवत्ता विषय पर सेमिनार कराने के निर्देश दिये साथ ही एक सेमिनार हल्द्वानी में भी आयोजन के निर्देश दिये। उन्होंने गढ़वाल में देहरादून तथा कुमाऊ मण्डलों में हल्द्वानी में प्राचार्यों की बैठक बुलाने के निर्देश दिये। उन्होंने अनुसूचित जाति/जनजाति के छात्रों की कोचिंग, 100 छात्रों को शोध कराने तथा लैपटाॅप वितरण आदि कार्यक्रम हेतु प्रस्ताव तैयार करने के निर्देश दिये। उन्होंने निर्माणाधीन महाविद्यालय भवनों का कार्य 14 अगस्त तक पूर्ण करने के निर्देश दिये।

बैठक में अपर मुख्य सचिव डाॅ0 रणवीर सिंह, अपर सचिव उच्च शिक्षा राघव लंगर, संयुक्त निदेशक उच्च शिक्षा डाॅ0 सविता मोहन, उपनिदेशक डाॅ ललित प्रभा शर्मा एवं डाॅ0 हर्षवंती बिष्ट कुलसचिव दून विश्वविद्यालय बी0एस0हरबोला एवं सहायक निदेशक डाॅ0 एस0एन0सिद्ध आदि मौजूद थे।

###भारत निर्वाचन आयोग द्वारा विशेष अभियान सम्पाादित
देहरादून 06 जुलाई, 2017

प्रमुख सचिव एवं मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्रीमती राधा रतूड़ी ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग द्वारा विधान सभा निर्वाचक नामावली में छूटे हुए नागरिकों विशेषतः 18 से 21 वर्ष आयु वर्ग के अर्ह युवाओं के नाम पंजीकृत किए जाने हेतु दिनांक 01 से 31 जुलाई, 2017 तक विशेष अभियान सम्पाादित किया जा रहा है।

प्रमुख सचिव एंव मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्रीमती रतूड़ी ने बताया कि इस क्रम में उत्तराखण्ड राज्य में मानसून जनित कारणों से उत्पन्न विषम परिस्थितियों के दृष्टिगत यह अभियान अब दिनांक 10 जुलाई, 2017 से दिनांक 10 अगस्त, 2017 तक राज्य की 70 विधान सभा क्षेत्रो के 10854 पोलिग स्टेशनों में संचालित किया जायेगा। इस कार्यक्रम/विशेष अभियान के सफल सम्पादन हेतु मान्यता प्राप्त राजनैतिक दलों के प्रदेश स्तरीय पदाधिकारियों/प्रतिनिधियों के साथ बैठक कर विचार विमर्श भी किया गया। उन्होंने बताया कि उक्त अभियान के तहत निर्वाचक नामावली में नाम पंजीकृत किए जाने हेतु प्रारूप-6 भरकर उस पर रंगीन पासपोर्ट आकार की एक नवीनतम फोटो एवं सामान्य निवास स्थान के दस्तावेज के साथ अपने मतदेय स्थल के बूथ लेबिल आफिसर के पास दिनांक 10 अगस्त, 2017 से पूर्व जमा किए जा सकते हैं। यदि कोई मतदाता विवाह होने, स्थानान्तरण होने अथवा मृत्यु आदि कारणो से सामान्यतः अब उस क्षेत्र का निवासी न रह गया हो, तो उसका नाम निर्वाचक नामावली से हटाए जाने के लिए प्रारूप-7 पर आपत्ति प्रस्तुत की जा सकती है।

प्रमुख सचिव एंव मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्रीमती रतूड़ी ने बताया कि लोक प्रतिनिधत्व अधिनियम-1950 की धारा 17 एवं 18 के अन्र्तगत कोई मतदाता एक से अधिक निर्वाचन क्षेत्र या एक ही निर्वाचन क्षेत्र में एक से अधिक बार नामावली में पंजीकृत किए जाने का हकदार नहीं होगा। अर्थात कोई भी नागरिक सम्पूर्ण भारत वर्ष में किसी भी निर्वाचन क्षेत्र में केवल एक ही स्थान पर मतदाता के रूप में पंजीकृत होने का हकदार है। मतदाता के रूप में पंजीकृत होने के लिए किसी प्रकार का मिथ्या कथन या घोषणा करना उक्त अधिनियम की धारा-31 के अन्र्तगत दण्डनीय होगा। वर्तमान वोटरलिस्ट में यदि किसी मतदाता का नाम अथवा अन्य कोई भी विवरण या फोटो आदि त्रुटिपूर्ण अथवा गलत है तो इसे शुद्व कराने हेतु प्रारूप-8 पर आवेदन पत्र प्रस्तुत किया जा सकता है। यदि कोई वोटर उसी विधानसभा क्षेत्र के अन्तर्गत अन्य किसी स्थान पर शिफ्ट हो गया है या आवास बदल दिया है, तो पुराने स्थान से नाम हटाने और नए स्थान पर अपना नाम वोटरलिस्ट में दर्ज करवाने के लिए प्रारूप-8 क मंे आवेदन प्रस्तुत किया जा सकता है ।

प्रमुख सचिव एंव मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्रीमती रतूड़ी ने समस्त राजनैतिक दलों, जन प्रतिनिधियों, स्वयं सेवी संगठनो, सामाजिक संगठनो, युवा संगठनों यथा एनएसएस, नेहरू युवा संगठन, नागरिेक सुरक्षा संगठन, महिला एवं युवा मंगल दल से अपेक्षा की है कि वह उक्त अभियान को सफल बनाने मे अपना अतुलनीय सहयोग प्रदान करने का कष्ट करें। उन्होंने कहा कि हम सबका एक ही उद्देशय, कोई मतदाता छूटे नहीं।

हरिद्वार
अपर जिलाधिकारी प्रशासन डाॅ अभिषेक त्रिपाठी ने जानकारी दी कि कांवड़ मेला 2017 की विधि एवं शांति व्यवस्था सुनिश्चित किये जाने तथा यातायात एवं अन्य व्यवस्थाओं को सुनिश्चित किये जाने हेतु शुक्रवार 07 जुलाई 2017 को अपराहन 04ः00 बजे पुलिस लाईन रोशनाबाद में ब्रीफिंग/ मीटिंग होगी। सुपर जोनल/जोनल/ सैक्टर मजिस्ट्रेट/ आरक्षित मजिस्ट्रेट के तैनाती के आदेश पूर्व ही निर्गत किये जा चुके हैं।

Leave a Comment