Share
पुलिस कर्मी बनकर चेकिंग के नाम पर ठगी करने वाले गैंग की एक महिला सदस्य लखनऊ से गिरफ्तार

पुलिस कर्मी बनकर चेकिंग के नाम पर ठगी करने वाले गैंग की एक महिला सदस्य लखनऊ से गिरफ्तार

देहरादून। पुलिस कर्मी बनकर चेकिंग के नाम पर लोगों से ठगी करने वाले ईरानी गैंग की एक महिला सदस्य को पुलिस ने लखनऊ से गिरफ्तार कर लिया है। उसके कब्जे से लाखों के सोने के जेवर बरामद किए गए हैं।

पुलिस के मुताबिक बरामद जेवर गैंग ने हाल ही में दून के चुक्खूवाला और बीते मई में कांवली रोड और कैंट क्षेत्र में हुई घटना में ठगे थे। महिला के पति सहित गैंग का एक और सदस्य फरार हैं। उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार दबिश दे रही है।

एसपी सिटी श्वेता चौबे ने बताया कि विगत 24 जनवरी को धारा चौकी क्षेत्र में ठगी की घटना हुई थी। इसमें दो लोगों ने धीरेंद्र शर्मा निवासी लूनिया मोहल्ला को पुलिस चेकिंग का डर दिखाकर ठग लिया था। ठगों ने खुद को पुलिस कर्मी बताया था और कहा था कि 26 जनवरी को लेकर कड़ी चेंकिग चल रही है। ठगों ने उनकी तलाशी ली उनको अपने सोने के जेवर एक रुमाल में रखने को कहा था।

कुछ देर बाद उन्होंने रुमाल में रखी दो सोने की अंगूठियां गायब कर दी थीं। इसके बाद पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर उनकी तलाश शुरू कर दी थी। पीड़ित धीरेंद्र शर्मा ने दो व्यक्तियों के साथ एक महिला के भी घटना में शामिल होने की बात कही थी।

एसपी सिटी ने बताया कि घटना के बाद टीम का गठन किया गया। टीम ने घटनास्थल के आसपास लगे सभी सीसीटीवी कैमरे चेक किए। इसके बाद कुछ संदिग्ध लोगों फुटेज में दिखे। जो प्रथम दृष्ट्या ईरानी गैंग के सदस्य प्रतीत हो रहे थे।

इस पर देशभर में सक्रिय रहे ईरानी गैंग के सदस्यों की पहचान के लिए उनके फोटोग्राफ अन्य राज्यों की पुलिस को भेजे गए। ज्ञात हुआ कि यह ईरानी गैंग के सदस्य अली मिर्जा और सिट्टी हैं। जो मूल रूप से बीदर कर्नाटक के रहने वाले हैं और वर्तमान में लखनऊ में रहकर उत्तर प्रदेश, राजस्थान, मध्यप्रदेश, दिल्ली, हरियाणा, पंजाब व उत्तराखंड आदि राज्यों में वारदात को अंजाम दे रहे हैं।

पता चला कि यह गैंग अपने साथ एक या दो महिलाओं को भी रखता है। बताया कि पूरी जानकारी हासिल होने के बाद एक टीम को लखनऊ रवाना किया गया। जिसके बाद टीम ने आठ दिन तक लगातार आरोपितों की रेकी और ज्वेलरी बेचने जा रही एक महिला को घेराबदी कर गिरफ्तार कर लिया।

महिला के साथ दो अन्य आरोपित भी थे, जो पुलिस को चकमा देकर फरार हो गए। बताया कि गिरफ्तार महिला की पहचान फिजा जाफरी पत्नी मोहम्मद अली सरफराज जाफरी निवासी भीमंडी थाना शातिनगर जिला ठाणे महाराष्ट्र के रूप में हुई। वहीं, मोहम्मद अली सरफराज जाफरी उर्फ सिट्टी पुत्र एजाज अहमद जाफरी निवासी भीमंडी शातिनगर, जिला ठाणे, महाराष्ट्र और अली मिर्जा पुत्र स्व. दरवेश ईरानी निवासी उपरोक्त फरार हो गए।

बरामद माल 

दो अंगूठी सोने की, दो गले की चेन, चार चूडिया, चार लेडीज सोने की अंगूठी, दो मोबाइल फोन, 4 सिम कार्ड, दो पैन कार्ड।

गायिका सोनिया आनंद की मां से की थी ठगी

एसएसआइ कोतवाली अशोक राठौर ने बताया कि इसी गैंग के सदस्यों ने 20 मई को सत्संग से आ रही सोनिया आनंद की मां को भी ठगा था। उन्होंने उसकी मां को घुटने के दर्द से निजात दिलाने का झांसा दिया था और उनसे दो सोने के कड़े और चेन छीन ली थी। इसी दिन उन्होंने कैंट क्षेत्र में भी एक महिला के साथ ठगी की थी। बरामद माल में गायिका के मां के जेवर भी हैं।

फ्लाइट से सफर करते हैं सदस्य 

मूलरूप से कर्नाटक के रहने वाले हैं। वर्तमान में उन्होंने लखनऊ में अपना अड्डा बना रखा है। यहीं से वह दिल्ली, मुंबई, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड आदि शहरों में किसी को नकली पुलिस वाला, कहीं फर्जी क्राइम ब्रांच, सीबीआइ के साथ ही घुटनों दर्द ठीक कराने के नाम पर लोगों से ठगी करते हैं। गैंग के निशाने पर बुजुर्ग और वह महिलाएं रहते हैं, जिन्हें यह आसानी से बेवकूफ बना देते हैं।

खास बात यह है कि यह कोई बड़ी वारदात कर सड़क से सफर नहीं करते। वारदात के बाद वह फ्लाइट से कहीं और चले जाते हैं। पकड़ी गई महिला ने बताया कि अक्टूबर और नवंबर में भी उनके पति ने देहरादून में ठगी की वारदात की थी। उस समय उनका बेटा फ्लाइट से जौलीग्रांट आया था और इसके बाद सभी लोग वहां से फ्लाइट से हैदराबाद गए और वहां से कर्नाटक चले गए।

बताया कि अक्सर बड़ी घटना के बाद वह फ्लाइट का इस्तेमाल करते हैं। जिससे कि वह पकड़े न जाएं। इसके साथ ही कभी-कभी वह बाइक से भी आते-जाते रहते हैं। उनका सात से आठ लोगों का गैंग हैं।

पूरा परिवार करता है ठगी 

महिला ने बताया कि वह भीमंडी महाराष्ट्र की निवासी है। फरार सिट्टी उसका पति है, और अली मिर्जा उसका भाई है। कहा कि वह कई सालों से यह काम कर रहे हैं। उनका बेटा भी इसी प्रकार का काम करता है। हाल ही में वह मुंबई में चेन स्नेचिंग में पकड़ा गया है। बताया कि उनका पति और भाई बाइक से यहां पहले भी कई बार आ चुके हैं। पिछले साल मार्च, मई और अक्टूबर में वह यहां आए थे। उस समय भी उन्होंने यहां दो महिलाओं से ठगी की थी।

 

Leave a Comment