Share

भर्ती मरीज की नाबालिग बेटी से कर्मचारी ने किया दुराचार

हरिद्वार: बीमार पिता की देखरेख करने आयी युवती के साथ अस्पताल परिसर स्थित गोशाला में काम करने वाले युवक ने दुष्कर्म किया है। यह मामला हरिद्वार रानीपुर झाल स्थित निजी अस्पताल का है।

ज्वालापुर क्षेत्रंतर्गत रानीपुर झाल के समीप स्थित भूमानंद धर्मार्थ अस्पताल में बहादराबाद थाना क्षेत्र की कॉलोनी में रहने वाले एक व्यक्ति का इलाज बीस दिन से इसी अस्पताल में चल रहा था। पिता की देखभाल के लिए उसकी पंद्रह वर्षीय बेटी अस्पताल में उसके साथ रह रही थी। अस्पताल परिसर में गोशाला भी बनी है।

आरोप है कि 19 जुलाई को अस्पताल की गोशाला का कर्मचारी गमलेश यादव पुत्र हरिओम निवासी ग्राम बाला किशनपुर थाना ऊहेली जिला बदायूं उ.प्र. किशोरी को अपने साथ बहला-फुसला कर अस्पताल के पीछे जंगल में ले गया।

आरोप है कि गमलेश ने जंगल में किशोरी के साथ दुष्कर्म किया। किसी तरह छूटकर किशोरी घर पहुंची और परिजनों को घटना की जानकारी दी। किशोरी के परिजनों ने सूचना ज्वालापुर कोतवाली पुलिस को दी। पुलिस ने परिजनों की तहरीर पर आरोपी के विरुद्ध दुष्कर्म के आरोप में मुकदमा दर्ज कर लिया है।आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर जेल भेज दिया। कोतवाल अमरजीत सिंह ने बताया कि किशोरी का मेडिकल करा दिया, जिसमें दुष्कर्म की पुष्टि हुई है।

वहीं, अस्पताल प्रबंधन की ओर से प्रवक्ता राजेंद्र कुमार ने बताया कि पकड़ा गया आरोपी अस्पताल का कर्मचारी नहीं है। अस्पताल परिसर में धान लगाने वाले ठेकेदार के यहां आरोपी काम करता है।जिस किशोरी ने दुष्कर्म का आरोप लगाया है उसके पिता पर अस्पताल का एक लाख से अधिक का दवाई व डॉक्टरों का बिल बकाया है। परिजनों से बिल के भुगतान के लिए कहा गया था, लेकिन भुगतान की करने की बजाय इस तरह के आरोप लगाए जा रहे हैं।

Leave a Comment