Share
चमोली जिले में फटा बादल, मलबे में दबे कई गोशालाएं व मवेशी

चमोली जिले में फटा बादल, मलबे में दबे कई गोशालाएं व मवेशी

देहरादून: देर रात हुई भारी बारिश से चमोली जिले घाट क्षेत्र के सगोला बगड़ में बादल फट गया। रात को लोगों ने भाग कर जान बचाई। वहीं, पहाड़ी से आए मलबे में कई गोशालाएं व मवेशियां दब गए। प्रशासन की टीम मौके के लिए रवाना हो गई है।

हालांकि प्रशासन के मुताबिक बादल फटने से जान माल का नुकसान नहीं हुआ है। गांव वालों की कृषि भूमि को काफी नुकसान पहुंचा है, वहीं इसकी चपेट में आने से कई गोशालाएं और मवेशियों की दबने की पुष्टि प्रशासन ने की है।

उत्तराखंड से सितंबर के तीसरे सप्ताह में विदा होगा मानसून

उत्तराखंड में मौमस के तेवर अब नरम पडऩे लगे हैं। गुरुवार को कुछ क्षेत्रों में बौछारें अवश्य पड़ीं, लेकिन प्रदेश के ज्यादातर इलाकों में चटख धूप रही। मौसम विभाग के अनुसार अब मानसून विदा होने को है और सितंबर के तीसर सप्ताह में यह उत्तराखंड से विदा हो जाएगा।

मौसम भले ही साफ हो लेकिन सड़कों पर मुसीबत टली नहीं है। प्रदेश में भूस्खलन से 70 से ज्यादा सड़कों पर आवाजाही बाधित है। हालांकि गुरुवार को दोपहर बाद बदरीनाथ के पास लामबगड़ में हाईवे पर यातायात बहाल कर दिया है। बुधवार को मलबा आने से यहां पर मार्ग बंद हो गया था। यद्यपि लामबगड़ में रुक-रुक कर पहाड़ी से मलबा गिरने का दौर जारी है। सीमा सड़क संगठन के जवान मलबा हटा रहे हैं। प्रशासन एसडीआरएफ की देखरेख में वाहनों की आवाजाही करा रहा है।

सैलानियों से गुलजार हुआ कैम्पटी फॉल

मसूरी के पास प्रसिद्ध कैम्पटी फॉल एक बार फिर पर्यटकों से गुलजार हो गया है। टिहरी की जिलाधिकारी सोनिका ने बताया कि पिछले दिनों भारी बारिश के कारण फॉल में आए उफान से आसपास के क्षेत्र में मलबा भरने के कारण सुरक्षा की दृष्टि से यहां पर्यटकों की आवाजाही बंद कर दी गई थी। उन्होंने कहा कि अब मौसम ठीक है। इसलिए फॉल के आसपास का ज्यादातर मलबा भी हटा लिया गया है। उन्होंने बताया कि गुरुवार को झरने में लुत्फ लेने करीब सात सौ सैलानी यहां पहुंचे।

तेज बारिश से कई चौराहों पर हुआ जलभराव

देहरादून शहर और आसपास के क्षेत्रों में दिनभर चटख धूप खिली रही, लेकिन शाम होते-होते एकाएक मूसलाधार बारिश से कई चौक-चौराहों पर जलभराव हो गया। करीब दो घंटे शहर के कई इलाकों में तेज गर्जन के साथ मूसलाधार बारिश होती रही। रात करीब आठ बजे बारिश थमने से लोगों ने राहत की सांस ली। उधर, बारिश के चलते प्रदेश की 72 सड़कें अवरुद्ध हैं। गुरुवार को ऋषिकेश- बदरीनाथ हाईवे खुल गया। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार अगले 24 घंटे में दून और मसूरी में एक-दो दौर तेज बौछारें पड़ने की संभावना है। शुक्रवार को दून का अधिकतम एवं न्यूनतम तापमान क्रमश: 24 व 34 डिग्री सेल्सियस रहने के आसार हैं।

Leave a Comment