Share
निगम के पास नहीं पुराने साल के टैक्स भुगतान का रेकार्ड, जनता की हो रही फजीहत

निगम के पास नहीं पुराने साल के टैक्स भुगतान का रेकार्ड, जनता की हो रही फजीहत

देहरादून। आपने भले ही पिछले वर्षों का नियमित तौर पर हाउस टैक्स भुगतान किया हो, मगर रसीद संभालकर नहीं रखी तो आपको नया टैक्स जमा कराने के लिए कईं झंझटों को झेलना पड़ेगा। नगर निगम हाउस टैक्स वसूली को लेकर शहर में कैंप तो लगा रहा, पुरानी रसीद के कैंप में पहुंचने वालों को लौटा रहा है।

मोहिनी रोड पर लगाए कैंप में भी दर्जनों लोगों को पुरानी रसीद न लाने पर लौटा दिया गया। कहने को तो ये दावा किया जा रहा कि निगम आपको इस बार कंप्यूटराइज्ड रसीद उपलब्ध करा रहा, लेकिन निगम के पास पुराने साल के टैक्स भुगतान का रेकार्ड ही नहीं। ऐसे में जनता इधर से उधर धक्के खा रही है।

अपनी लापरवाही का ठीकरा जनता के सिर कैसे फोड़ा जाता है, नगर निगम दून इसका प्रत्यक्ष उदाहरण है।

यूं तो निगम का कर अनुभाग पिछले कई दशक से शहर में हाउस टैक्स वसूल रहा है, लेकिन इसका रेकार्ड मिल पाना किसी पथरीले रास्ते से कम नहीं है। यही वजह है कि निगम की ओर से हर साल टैक्स जमा कराते समय पुरानी रसीद लाने का दबाव आमजन पर डाला जाता है।

 

मौजूदा समय में जहां भी निगम की ओर से हाउस टैक्स वसूली के कैंप लगाए जा रहे हैं, वहां पुरानी रसीद न लाने के चलते सैकड़ों लोगों का टैक्स ही जमा नहीं हो पा रहा। वहीं, महापौर सुनील उनियाल गामा के अधिक से अधिक टैक्स वसूली के निर्देश को भी अधिकारी पलीता लगा रहे।

डालनवाला पूरब के मोहिनी रोड पर लगाए कैंप में पुरानी रसीद को लेकर जमकर हंगामा हुआ। सेवानिवृत्त बैंक अधिकारी बीपी ममगाई ने बताया कि उनके पास और कुछ अन्य लोगों के पास पुरानी रसीद नहीं थी तो निगम अधिकारियों ने टैक्स जमा करने से मना कर दिया। उन सभी लोगों को निगम कार्यालय भेज दिया गया, लेकिन वहां भी घंटों तक उन्हें इधर से उधर भेजकर परेशान किया जाता रहा।

रेकार्ड न मिलने पर वे वापस कैंप में गए, लेकिन टैक्स जमा नहीं हुआ। दूसरी बार सभी लोग फिर निगम कार्यालय पहुंचे और पुराना रेकार्ड देखने का दबाव बनाया। तब करीब चार घंटे की मशक्कत के बाद कुछ लोगों का रेकार्ड मिल पाया। लोगों ने कहा कि सरकार डिजीटल इंडिया की तरफ बढ़ रही और निगम में ये हाल हैं।

तो दो साल का ले रहे टैक्स 

निगम में टैक्स वसूली में बड़ा घालमेल सामने आ रहा। लोगों ने बताया कि अगर आपके पास पिछले साल की रसीद नहीं है और आप दो साल पुरानी रसीद दिखाते हैं तो निगम अधिकारी पिछले साल का टैक्स जोड़कर सीधे दो साल का टैक्स जमा करा रहे हैं। इसे लेकर कई जगह विवाद भी हो चुका है।

14.46 लाख की हुई वसूली

नगर निगम कार्यालय और वार्डों में लगाए कैंप में कुल 14.46 लाख रुपये की वसूली हुई। कार्यालय में 10.91 लाख रुपये टैक्स वसूला गया जबकि कैंपों में केवल 3.55 लाख रुपये कर की वसूली हो पाई।

निगम की ओर से डालनवाला पूरब, राजीव नगर समेत तरली कंडोली व अमरीक हॉल रेसकोर्स में कैंप लगाए गए थे। जहां सुबह से ही भवन कर जमा कराने वालों की भीड़ रही। इस दौरान पुरानी रसीद न होने के चलते दर्जनों लोगों को बैरंग लौटा दिया गया। कर अधीक्षक विनय प्रताप सिंह के मुताबिक निगम की ओर से 15 मार्च तक टैक्स में 20 फीसद की छूट दी जा रही है। इस वर्ष निगम का लक्ष्य 25 करोड़ रुपये का है, जिसमें अब तक करीब साढ़े 19 करोड़ रुपये वसूले जा चुके हैं।

Leave a Comment