Share
एक wrong call. और बदल गई इस दृष्टिहीन युवक की जिंदगी

एक wrong call. और बदल गई इस दृष्टिहीन युवक की जिंदगी

माउंट आबू। एक रॉंग कॉल कब किसी की किस्मत बदल दे कोई नहीं बता सकता। माउंट आबू के एक नेत्रहीन पुनर्वास केंद्र में रहने वाले एक शख्स के साथ कुछ ऐसा ही वाक्या हुआ है। नेत्रहीन होने के कारण पुनर्वास केंद्र में अपनी जिंदगी बिता रहे चंदन सिंह उर्फ सोनू की लाइफ एक रॉंग कॉल ने बदल दी। गलती से लगे एक फोनकॉल के बाद उनकी कहानी लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है।

हुआ कुछ यूं कि, चंदन सिंह उर्फ सोनू ने फोनकॉल करने की कोशिश तो कहीं और की थी, लेकिन उनके फोन के रोमांस की घंटी गलती से असम में रेगिना के पास बज गई, जो खुद भी एक दृष्टिहीन लड़की है। इसके बाद काफी दिनों तक दोनों के बीच बात करने का सिलसिला चलता रहा। सोशल मीडिया और फोन पर कुछ दिनों के प्रेमालाप के बाद पहाड़ी क्षेत्र में सोनू और रेगिना की पिछले महीने ही शादी हो गई और अब वे दोनों अपनी नई जिंदगी की शुरूआत कर चुके हैं।

इनकी कहानी सुनने में किसी बॉलीवुड फिल्म से कम नहीं है, अक्सर बॉलीवुड भी ऐसी रोमांटिक प्रेम कथाओं से लोगों को रुबरू कराता रहा है। कायनात ने भी आधुनिक तकनीकों के माध्यम से इन दो जोड़ों को मिलाने की भरपूर कोशिश की, इसमें ना सिर्फ मोबाईल बल्कि फेसबुक ने भी इनकी प्रेमकहानी में एक अहम भूमिका निभाई। प्रेम कविताओं की रचना करने वाले दुनिया के प्रख्यात कवि कीट्स से लेकर यीट्स तक ने ऐसे खास प्रेमी जोड़ों की प्रेमकथाओं का अपने कृतियों में काफी उत्साहपूर्वक चित्रण किया है।

सोनू, हरि सिंह के चार नेत्रहीन बेटों में से सबसे बड़े हैं। सोनू के पिता हरि सिंह पालनपुर में चौकीदार थे। बचपन में सोनू ने पालनपुर और ब्लाइंड पीपल एसोसिएशन (बीपीए) अहमदाबाद दोनों जगह से अपनी पढ़ाई पूरी की। उन्होंने खुद को विभिन्न कलाओं में माहिर बनाया है, वे एक कुशल बिजली मिस्त्री, बढ़ई हैं साथ ही उन्हें संगीत में भी महारत हासिल है। हालांकि एक आम इंसान के लिए रोटी कमाने के लिए संगीत किसी काम की नहीं है। वे माउंट आबू के सिल्वर ओक होटल में लाइव परफॉर्म करते हैं। उन्हीं की तरह उनके अन्य तीन नेत्रहीन भाईयों में भी प्रतिभा का खान है।

Leave a Comment