Share
बिजली सुधार की दिशा में बढे नए कदम, अब सिर्फ ऑनलाइन प्राप्त किए जाएंगे आवेदन पत्र

बिजली सुधार की दिशा में बढे नए कदम, अब सिर्फ ऑनलाइन प्राप्त किए जाएंगे आवेदन पत्र

देहरादून। प्रदेश ने बिजली सुधार की दिशा में नए कदम बढ़ा दिए हैं। औद्योगिक, वाणिज्यिक और अघरेलू उपभोक्ताओं को राहत देते हुए ऐसे कनेक्शन के लिए आवेदन पत्र अब सिर्फ ऑनलाइन प्राप्त किए जाएंगे। ऑफलाइन आवेदन पत्र नहीं लेने के आदेश दिए गए हैं। वहीं प्रदेश के तीन शहर डोईवाला, चकराता और दुगड्डा के 11 केवी फीडर नेशनल पावर पोर्टल से जुड़ गए हैं। इससे उक्त क्षेत्रवासियों को बेहतर विद्युत आपूर्ति हो सकेगी। साथ ही बिजली की चोरी पर सख्ती से नजर रहेगी।

मुख्य सचिव उत्पल कुमार सिंह की अध्यक्षता में बीती 24 दिसंबर को हुई सिंगल विंडो से संबंधित बैठक में पांच किलोवाट से ज्यादा के सभी अघरेलू कनेक्शन के आवेदन ऑनलाइन ही स्वीकार करने का निर्णय लिया गया था। ऊर्जा सचिव राधिका झा ने बताया कि उक्त निर्णय पर अमल शुरू किया गया है।

इस संबंध में ऊर्जा निगम के प्रबंध निदेशक और निदेशक (परिचालन) को उक्त आदेश के क्रियान्वयन की साप्ताहिक समीक्षा करने के निर्देश दिए गए हैं। इससे नए कनेक्शन और लोड क्षमता वृद्धि के कार्यो के लिए उपभोक्ताओं को परेशान नहीं होना पड़ेगा। उन्होंने बताया कि यूपीसीएल पोर्टल यूजर फ्रेंडली है, इसे निगम के प्रबंध निदेशक सुनिश्चित करेंगे। ऊर्जा सचिव ने बताया कि केंद्र सरकार की महत्वाकांक्षी इंटीग्रेटेड पावर डेवलपमेंट स्कीम (आइपीडीएस) के तहत देशभर में 2600 शहरों में विद्युत प्रणाली को सुदृढ़ करने का कार्य चल रहा है। इस योजना के तहत उत्तराखंड को देशभर में तीन शहरों को के 11 केवी फीडरों को नेशनल पावर पोर्टल से एकीकृत करने में कामयाबी मिली है। योजना में 36 शहर शामिल हैं।

उन्होंने कहा कि उक्त क्षेत्रों के उपभोक्ताओं को अब फीडरों पर विद्युत आपूर्ति की स्थिति के बारे में ऑनलाइन जानकारी मिलेगी। इससे बिजली की आपूर्ति बेहतर होगी, साथ में लाइन हानियां की ऑनलाइन गिनती हो सकेगी। ऊर्जा सचिव ने शनिवार को सचिवालय में राज्यस्तरीय विद्युत वितरण सुधार समिति की बैठक में आइपीडीएस योजना, हरिद्वार के कुंभ क्षेत्र में विद्युत लाइन को भूमिगत करने, आरएपीडीआरपी भाग-अ और भाग-ब योजना के अंतिम चरण में चल रहे कार्यो की समीक्षा की। उन्होंने अधिकारियों को समय पर सभी कार्य पूरे करने के निर्देश दिए।

Leave a Comment