Share
हरिद्वार हाईवे पर जोगीवाला चौक पर फ्लाईओवर की जगह बनेगा गोलचक्कर, शासन को भेजा प्रस्ताव

हरिद्वार हाईवे पर जोगीवाला चौक पर फ्लाईओवर की जगह बनेगा गोलचक्कर, शासन को भेजा प्रस्ताव

देहरादून। हरिद्वार हाईवे पर जोगीवाला चौक पर फ्लाईओवर के विकल्प के रूप में राष्ट्रीय राजमार्ग खंड ने सर्वे चौक की तर्ज पर गोलचक्कर की योजना बनाई है। इसका प्रस्ताव शासन को भेज दिया गया है। शासन की मुहर लगने के बाद नए साल में इसका निर्माण शुरू हो जाएगा। इस योजना पर फ्लाईओवर पर आने वाले खर्च से आधा की पैसा लगेगा। साथ ही कम लोग प्रभावित होंगे।

हरिद्वार हाईवे के मोहकमपुर में आरओबी बनने के बाद अब जोगीवाला चौक पर जाम लग रहा है। रिस्पना और हर्रावाला की तरफ से आने वाले वाहनों की रफ्तार यह थम जाती है। यहां राष्ट्रीय राजमार्ग खंड ने पहले फ्लाईओवर के निर्माण की योजना बनाई थी। इसका अनुबंध भी एक कंपनी के साथ कई साल पहले हुआ था। मोहकमपुर आरओबी के उद्घाटन के मौके पर मुख्यमंत्री ने भी यहां जल्द फ्लाईओवर बनाने की बात कही थी। लेकिन राष्ट्रीय राजमार्ग खंड ने फ्लाईओवर के अलावा यहां गोलचक्कर यानि चौक की योजना को ज्यादा फायदेमंद बताया है।

यही कारण है कि राष्ट्रीय राजमार्ग खंड ने इसका प्रस्ताव तैयार शासन को भेज दिया है। प्रस्ताव के अनुसार, यहां सर्वे चौक की तर्ज पर गोलचक्कर बनाया जाएगा। इससे रिंग रोड, बद्रीपुर रोड और हरिद्वार हाईवे के दोनों तरफ को चौक से जोड़ा जाएगा। गोलचक्कर से करीब 100 मीटर क्षेत्र प्रभावित होगा। जबकि फ्लाईओवर बनने से एक किमी क्षेत्र प्रभावित होगा। फ्लाईओवर बनाने में ज्यादा खर्चा, प्रभावित होने वालों को ज्यादा मुआवजा, निर्माण में देरी और आम लोगों को परेशानी उठानी पड़ेगी। निर्माण के बाद भी जाम नहीं लगेगा, इसकी गारंटी नहीं है। जबकि गोलचक्कर बनने से वाहनों की आवाजाही व्यवस्थित तरीके से कराई जा सकेगी।

बल्लूपुर में लगता जाम

चकराता रोड पर बल्लूपुर चौक के पास बना फ्लाईओवर ज्यादा फायदेमंद साबित नहीं हुआ है। यहां अब भी जाम की स्थिति रहती है। अधिकांश वाहन फ्लाईओवर से गुजरने की बजाय नीचे सड़क से आवाजाही करते हैं। इसी तर्ज पर आइएसबीटी में भी सहारनपुर रोड पर आने-जाने वाले वाहन फ्लाईओवर के बजाय दोनों तरफ बनी सड़क से आवाजाही करते हैं।

राजेश शर्मा (अधीक्षण अभियंता नेशनल हाईवे) का कहना है कि फ्लाईओवर के विकल्प के रूप में जोगीवाला में गोलचक्कर का प्रस्ताव बनाया गया है। यह प्रस्ताव सरकार को भेजा गया है। स्वीकृति मिलने के बाद इस पर काम शुरू कर दिया जाएगा। अगले साल तक यह तैयार हो जाएगा। इस पर कम खर्चा और समय भी कम लगेगा।

Leave a Comment