Share
एनएसयूआइ के सैकड़ों छात्रों ने मुख्यमंत्री आवास कूच किया, भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस ने किया वाटर केनन का इस्तेमाल

एनएसयूआइ के सैकड़ों छात्रों ने मुख्यमंत्री आवास कूच किया, भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस ने किया वाटर केनन का इस्तेमाल

देहरादून: भरतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआइ) के राष्ट्रीय अध्यक्ष फिरोज खान के आह्वान पर संगठन के सैकड़ों छात्रों ने मुख्यमंत्री आवास कूच किया। इस दौरान उन्होंने हाथीबड़कला में लगी बेरिकेटिंग तोड़ दी। भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस को वाटर केनन का इस्तेमाल करना पड़ा। इस दौरान छात्रों ने पुलिस का जमकर विरोध किया।

कांग्रेस भवन से बड़ी तादाद में एनएसयूआइ कार्यकर्ता सीएम आवास कूच के लिए निकले। जैसे ही कार्यकर्ता हाथीबड़कला पर पहुंचे तो पुलिस ने बेरिकेटिंग लगाकर उन्हें रोकने की कोशिश की। लेकिन उन्होंने बेरिकेटिंग तोड़ दी। इस दौरान उनकी पुलिस के साथ नोंंकझोंक भी हुर्इ।

वहीं, पुलिस के एनएसयूआई के जुलूस को इसतरह से रोकने को लेकर कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष प्रीतम सिंह व एनएसयूआइ के राष्ट्रीय अध्यक्ष फिरोज खान ने सवाल खड़े किए। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा है कि पुलिस सरकार के इशारे पर बल प्रयोग कर रही है।

इससे पहले कांग्रेस भवन में सैकड़ों की संख्या में जुटे छात्रों ने संगठन के राष्ट्रीय अध्यक्ष फिरोज खान ने मुख्यमंत्री आवास कूच का ऐलान किया था। इस दौरान एनएसयूआइ प्रदेश अध्यक्ष मोहन भंडारी ने कहा कि पीएम मोदी ने छात्रों के साथ सौतेला व्यवहार किया है।

गौरतलब है कि एनएसयूआइ की एमकेपी कॉलेज प्रभारी डिम्पल शैली भी छात्राओं को लेकर कांग्रेस भवन पहुंची। पूर्व अध्यक्ष एसएस चौहान ने केंद्र की मोदी सरकार और प्रदेश की त्रिवेन्द्र सिंह सरकार को जमकर घेरा।

उन्होंने कहा कि मोदी ने देश के युवाओं से वायदा किया था कि बीजेपी सरकार बनने पर प्रति वर्ष दो करोड़ युवाओं को रोजगार देंगे। लेकिन चार साल बाद मोदी कह रहे हैं कि पकोड़े बनाना भी रोजगार है। ऐसा बयान उच्च शिक्षा प्राप्त युवाओं का अपमान है।

आपको बता दें कांग्रेस भवन में बड़ी संख्या में ऋषिकेश, डोईवाला, रायपुर, मसूरी आदि कॉलेज से छात्रों का हुजूम उमड़ा।

Leave a Comment