Share
लोकसभा चुनाव के मद्देनजर राज्य की पांचों सीटों के लिए केंद्रीय मंत्री थावर चंद्र गहलौत को सौंपी गई जिम्मेदारी

लोकसभा चुनाव के मद्देनजर राज्य की पांचों सीटों के लिए केंद्रीय मंत्री थावर चंद्र गहलौत को सौंपी गई जिम्मेदारी

देहरादून। पिछले लोकसभा चुनाव में उत्तराखंड की सभी पांचों सीटें जीतने वाली भाजपा ने इस बार भी इन्हें अपने पास बरकरार रखने के लिए कमर कस ली है। पार्टी इसे लेकर किसी भी प्रकार की ढील देने के मूड में नहीं है। केंद्रीय मंत्री थावरचंद्र गहलौत को राज्य की पांचों लोकसभा सीटों का प्रभारी बनाए जाने को इसी कड़ी के रूप में देखा जा रहा है। वह पूर्व में उत्तराखंड के प्रभारी रह चुके हैं और यहां की सियासत के साथ ही परिस्थितियों से भलीभांति वाकिफ हैं।

विधानसभा में प्रचंड बहुमत हासिल करने वाली भाजपा के सामने लोकसभा चुनाव में भी ऐसा ही प्रदर्शन दोहराने की चुनौती है। पिछले लोकसभा चुनाव में राज्य से पांचों सीटें भाजपा की झोली में गई थीं और कांग्रेस का सूपड़ासाफ हो गया था।

इसके बाद विस चुनाव और फिर निकाय चुनावों में भाजपा को मिली सफलता के बाद पार्टी ने पूरा ध्यान लोस चुनाव पर केंद्रित कर लिया है। यही नहीं भाजपा का राष्ट्रीय नेतृत्व भी इस लिहाज से उत्तराखंड को बेहद गंभीरता से ले रहा है।

इस कड़ी में लोकसभा चुनाव के मद्देनजर राज्य की पांचों सीटों के लिए केंद्रीय मंत्री एवं वरिष्ठ नेता थावर चंद्र गहलौत को प्रभारी की जिम्मेदारी सौंपी गई है। असल में, गहलौत पूर्व में पार्टी के उत्तराखंड प्रभारी रह चुके हैं और वह यहां की परिस्थितियों से भलीभांति विज्ञ हैं।

वरिष्ठ नेता गहलौत को राज्य में लोस चुनाव प्रभारी बनाकर केंद्रीय नेतृत्व ने यह संदेश देने का प्रयास भी किया है कि उत्तराखंड उसके लिए कितना अहम है। हाल, में भाजपा की राष्ट्रीय महामंत्री सरोज पांडेय ने भी उत्तराखंड दौरे के दरम्यान यह साफ किया था कि पार्टी को राज्य की पांचों सीटें हर हाल में जीतनी हैं। इसके लिए उन्होंने जीत के गुर सिखाने के साथ ही कुछ कमियों को इंगित कर इन्हें दूर करने के निर्देश प्रांतीय नेतृत्व को दिए थे।

Leave a Comment