Share
भारत सबसे तेजी से बढ़ते देश के रूप में 7.9 प्रतिशत की दर से वार्षिक सूची में ऊपर बढ़ रहा है।

भारत सबसे तेजी से बढ़ते देश के रूप में 7.9 प्रतिशत की दर से वार्षिक सूची में ऊपर बढ़ रहा है।

हार्वर्ड विश्वविद्यालय की हाल ही में प्रकाशित एक रिर्पोट के अनुसार ‘‘आर्थिक जटिलता वृद्धि अनुमानों, से भारत आने वाले दशक के लिए सबसे तेजी से बढ़ते देश के रूप में 7.9 प्रतिशत की दर से वार्षिक सूची में ऊपर बढ़ रहा है।

रिपोर्ट बताती है कि भारत में कई उद्योगों, ड्राइविंग विकास और रोजगार सृजन में प्रयुक्त अवसरों की अधिकता है। भारत की निरंतर आर्थिक वृद्धि और वैज्ञानिक सोच के साथ, यह दुनिया का सबसे शक्तिशाली देश बनने की राह पर है। उन 12 कारणों पर एक दृष्टि कि क्यों भारत 2025 तक विश्व पर शासन करने के लिए तैयार है।
1. आर्थिक विकास- भारत जल्द ही विश्व की दूसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था बन सकता है। अमेरिका से आगे वर्तमान में भारत में $ 2.6 खरब (ट्रिलियन) अर्थव्यवस्था है और आर्थिक मामलों के सचिव सुभाष चंद्र गर्ग के अनुसार इसमें 2025 तक $ 5 (ट्रिलियन) खरब की वृद्धि होगी। भारत ने पिछले दो दशकों में उच्च जी डी पी विकास किया है जिसके कारण प्रति व्यक्ति आय में वृद्धि हुई है।

2. विज्ञान और तकनीक- भारत विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अपनी उल्लेखनीय प्रगति कर रहा है। जैसे-जैसे डिजिटलीकरण बढ़ता जा रहा है, भारत ब्लॉक चेन, 3 डी पेंटिग, मशीन लर्निंग और रोबोटिक्स में अधिक प्रगति करेगा। लगभग $ 150 अरब का निवेश आर्टिफिशियल इंटिलिजेंस (कृत्रिम प्रतिभा) क्षेत्र में किया जाता है क्योंकि भारत भविष्य में इस क्षेत्र में विशाल बनने के लिए प्रयासरत है।
3.कूटनीति- भारत एक मजबूत राजनीतिक स्थिति बनाने में सक्षम रहा है। यह किसी भी बड़े अंतर्राष्ट्रीय संघर्ष में शामिल नहीं हुआ है और राष्ट्र के बहुमत के साथ-साथ युरोपीय संघ, जापान, रूस और यू.एस. जैसी विश्व शक्तियों के साथ शांतिपूर्ण संबंध बनाए हुए है।

4. जनतंत्र- भारत की एक सबसे बड़ी ताकत यह है कि यह एक लोकतांत्रिक गणराज्य है। हालांकि चीन प्रौद्योगिकी और अर्थव्यवस्था में भी उन्नति दिखाता है, लेकिन यह अपने नागरिकों को बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता प्रदान नहीं करता है। जबकि योग्य सरकार के लिए लोकतंत्र अनुकूल है और भारत अपने लोगों को अपना नेता चुनने की अनुमति देता है।

Leave a Comment