मौलाना ने पाकिस्तान में इमरान खान सरकार के खिलाफ अपना प्लान बी का एलान किया,बंद रहेगा पूरा देश

पाकिस्तान में इमरान खान की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही है। जमीयत उलेमा-ए-इ्स्लाम (जेयूआई-एफ) के मुखिया मौलाना फजलुर रहमान ने पाकिस्तान में इमरान खान सरकार के खिलाफ अपना प्लान बी शुरू करने का एलान कर दिया है। इस प्लान के तहत पूरे देश को बंद किया जाएगा। मौलाना का दावा है कि इस बार इमरान खान सरकार की जड़े हिल जाएंगी और वह खुद इस्तीफा दे देंगे।

रहमान पहले से ही कह रहे हैं कि इमरान खान या तो देश में अगले तीन महीने में चुनाव कराएं या फिर इस्तीफा दें। लेकिन इन दोनों शर्तों पर इमरान खान ने किसी भी तरह की रजामंदी नहीं दी है। लेकिन रहमान अपनी जिद पर अड़े हुए हैं। अभी तक रहमान की पार्टी और विपक्षी दलों ने महज इस्लामाबाद को ही घेर कर रखा था। जिसके कारण आम लोगों को जबरदस्त दिक्कतों का सामना करना पड़ा था। लेकिन रहमान की शर्तों को न मानकर इमरान खान पर नई मुसीबत आने वाली है।

जानें- क्या है मौलाना का प्लान-बी

जेयूआई-एफ के प्रमुख रहमान ने इस्लामाबाद में आजादी मार्च को संबोधित करते हुए अपने समर्थकों से कहा कि अब प्रदर्शन की दूसरी योजना पर काम करने का समय है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री को इस्तीफा देने के लिये मजबूर करने और नए चुनाव कराने के लिए प्रमुख राजमार्गों और सड़कों को अवरुद्ध कर प्रदर्शन किया जाएगा। आजादी मार्च की दूसरी योजना के बारे में बताते हुए उन्होंने कहा कि देश के प्रमुख राजमार्गों बल्कि सड़कों और गलियों में भी प्रदर्शन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार काफी कमजोर हो चुकी है और उसे उखाड़ने के लिए हल्का सा धक्का देने की जरूरत है। उन्होंने प्रदर्शनकारियों को अपने घरों में वापस जाने के लिए कहा।

पूरे देश में लागू होगी मौलाना का प्लान बी

फिलहाल बुधवार को ही जेयूआई-एफ की केंद्रीय कार्यसमिति की बैठक में इस्लामाबाद में धरने को समाप्त कर ‘प्लान बी’ को पूरे देश में लागू करने की बात कही गई। क्योंकि रहमान की पार्टी अब पूरे देश को बंद करने की योजना बना रही है। इसके तहत देश के सभी मुख्य मार्ग और व्यवसायिक प्रतिष्ठानों को बंद कर दिया जाएगा। जिसके कारण पाकिस्तान में जनता को दिक्कतें होगी और वह रहमान का साथ देंगे।

इमरान का साथ देने से सेना ने भी किया मना

हालांकि पिछले दिनों सेना ने भी इस मामले में इमरान खान का साथ देने के लिए मना कर दिया था। क्योंकि सेना को लग रहा है कि पाकिस्तान में इमरान खान के खिलाफ माहौल बन रहा है। अगर ऐसा ही रहा तो आने वाले दिनों में आपातकाल लागू हो जाएगा और पाकिस्तान की सत्ता सेना के हाथ में आ जाएगी। हालांकि पाकिस्तान में सेना के हाथ में सत्ता का आना कोई नई बात नहीं है। लिहाजा सेना भी इमरान से दूरी बनाकर रख रही है

14 दिन तक इस्लामाबाद में दिया था धरना

रहमान की पार्टी ने 27 अक्टूबर से आजादी मार्च निकाला था और पार्टी के कार्यकर्ता पिछलले 14 दिन से राजधानी इस्लामाबाद में धरने पर डटे हुए थे। जिसको लेकर इमरान खान की हालत खराब थी और इस मार्च को खत्म करने के लिए सरकार के प्रतिनिधियों ने कई बार रहमान की पार्टी के नेताओं से मुलाकात की। लेकिन कोई परिणाम नहीं निकला।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *