Share
धनतेरस के मौके पर राजधानी में हुई धनवर्षा, कारोबारियों के खिले चेहरे

धनतेरस के मौके पर राजधानी में हुई धनवर्षा, कारोबारियों के खिले चेहरे

देहरादून: इस बार धनतेरस के मौके पर राजधानी के बाजार में करीब 700 करोड़ रुपये की धनवर्षा हुई। आम से लेकर खास तक, हर वर्ग के लोगों ने जमकर खरीददारी की। इससे कारोबारियों के चेहरे भी खिले नजर आए। बाजार के विशेषज्ञों के मुताबिक, केवल धनतेरस पर ही पिछले साल से कहीं ज्यादा का कारोबार हुआ। अभी भी दीपावली के बीच एक दिन और बाकी है।

मंहगाई की मार झेल रहे लोग वैसे तो लंबे समय से खरीददारी के प्रति उतने सक्रिय नहीं नजर आ रहे थे, लेकिन धनतेरस के दिन लोगों ने खरीददारी में कोई कंजूसी नहीं दिखाई। इसमें खास बात यह रही कि अकेले धनतेरस पर पूरे बाजार में सोने-चांदी के सिक्के के साथ ज्वेलरी, टू- व्हीलर, फोर व्हीलर, आतिशबाजी, खील-बताशे, इलेक्ट्रॉनिक्स उत्पादों और बर्तनों की जमकर खरीददारी हुई।

कुल मिलाकर महंगाई के बीच इस बार धनतेरस पर राजधानी दून में पिछले साल की तुलना कारोबार में कई फीसद का इजाफा हुआ है। जानकारों के मुताबिक, इस बार दून में करीब सात सौ करोड़ धन की वर्षा हुई है और इससे कारोबारियों ने अच्छा खासा मुनाफा कमाया।

ऑटो बिक्री को धनतेरस ने दी रफ्तार इस धनतेरस दून में ऑटो बिक्री में भी पंख लगे। जानकारों ने दून में ढाई से तीन हजार तक टू व्हीलर व फोर व्हीलर वाहनों की बिक्री का अंदाजा लगाया है, जोकि पिछली बार से ज्यादा हैं।

प्रिंस चौक स्थित फ्यूचर ऑटो प्राइवेट लि. के एमडी अतुल गोयल ने दावा किया कि इस धनतेरस पिछली के अपेक्षा चार पहिया वाहनों की ज्यादा बिक्री हुई हैं। उन्होंने बताया कि वाहनों पर लंबी बुकिंग है, लेकिन इस बार पहले से कहीं ज्यादा गाड़ियों की डिलीवरी दी गई है।

राजपुर रोड स्थित एसएल होंडा के संचालक सुरेंद्र बत्रा ने बताया कि इस धनतेरस टू व्हीलर वाहनों की रिकार्ड बिक्री हुई है। लोगों ने आज के दिन वाहनों को खरीदना शुभ माना। बीएम टीवीएस के संचालक ने ब्रिज मोहन बताया कि इस बार टीवीएस की सेल अच्छी रही है, लोगों ने टीवीएस को खरीदने में दिलचस्पी दिखाई हैं।

हरिद्वार रोड स्थित नाइन माउंटेन हीरो के संचालक ने नवप्रीत सिंह ने बताया कि हीरो की बाइक पर एक चांदी का सिक्का रखकर देना कामयाब रहा। उन्होंने बताया कि पहले के अपेक्षा कहीं ज्यादा टू व्हीलर की बिक्री हुई हैं। लोगों को चांदी के सिक्के स्कीम पसंद आई।

सहारनपुर रोड स्थित सानवी हीरो के संचालक लक्षित बत्रा ने बताया कि इस धनतेरस ने टू व्हीलर बिक्री को रफ्तार दी हैं। देर रात तक भी शोरूम में ग्राहकों की कतार रही। इलेक्ट्रॉनिक स्टोरों पर लगी भीड़ इस धनतेरस लोगों ने न सिर्फ ज्वेलरी की खरीददारी की, बल्कि इलेक्ट्रॉनिक्स के व्यापार में भी काफी इजाफा हुआ है।

इंडियन स्टोर के संचालक आशुतोष कोचर ने बताया कि इस धनतेरस इलेक्ट्रॉनिक्स के समान की भी लोगों ने खूब खरीददारी की। बताया कि लोगों ने टीवी, फ्रिज, एलइडी खरीदे। जाखन स्थित सरगम इलेक्ट्रॉनिक स्टोर के संचालक अरुण वर्मा ने बताया कि इस धनतेरस गीजर की बिक्री सबसे ज्यादा हुई है।

मुहूर्त में उमड़ी खरीदारों की भीड़, घरों में की गई पूजा

धनतेरस पर दून के बाजार देर रात तक गुलजार रहे। इस दिन खरीददारी करना बेहद शुभ माना जाता है। वहीं, मुहूर्त के अनुसार लोगों ने खरीदारी की। साथ ही घरों में लक्ष्मी और कुबेर की पूजा की।

सुबह से बर्तन, सर्राफा बाजार से लेकर इलेक्ट्रॉनिक्स सामान की दुकानों, ऑटोमोबाइल शोरूम में भीड़ उमड़ी रही। वहीं लोगों ने आकर्षक छूट का भी जमकर लाभ उठाया। पलटन बाजार, हनुमान चौक, झंडा बाजार, धामावाला आदि में धनतेरस की खरीददारी के लिए देर शाम तक ग्राहकों की भीड़ उमड़ी रही।

शाम होते ही बाजार दूधिया रोशनी में नहा उठे। शुभ शगुन के लिए सोने-चांदी के सिक्कों की खरीददारी: सर्राफा बाजार में शुभ शगुन के लिए लोगों ने सोने-चांदी के सिक्के खरीदे। वहीं आभूषणों की भी खूब बिक्री हुई। आगामी विवाह अवसरों के लिए भी कुछ लोग धनतेरस के शुभ समय पर खरीददारी के लिए पहुंचे।

दून सर्राफा मंडल के अध्यक्ष सुनील मैसोन ने बताया कि एक ग्राम से 10 ग्राम तक के सोने के सिक्के 3,500 से 32,000 और चांदी के 10 ग्राम से एक किलोग्राम तक के सिक्के 500 से 60,000 तक की कीमत में बिके। यह यही खासियत

चांदी के सिक्कों पर पक्षियों, जानवरों और थ्री डी पैटर्न का ट्रेंड रहा। वहीं लक्ष्मी, गणेश, कुबेर की चांदी की मूर्तियों, पूजा के लिए चांदी के बर्तन और श्रीयंत्र की खरीददारी भी की गई।

गेंदे का दिखा क्रेज

पूजा-अर्चना और घर सजाने के लिए फूलों की खूब बिक्री हुई। इसमें गेंदे के फूल का ज्यादा क्रेज रहा। 50 रुपये से हजार तक की कीमत में गेंदे के फूलों की लड़ियां बाजार में मौजूद थीं। वहीं 80 रुपये से 150 रुपये तक की कीमत में कमल के फूल की बिक्री हुई। फूल कारोबारी भरत ने बताया कि गेंदे के फूल कोलकाता और कमल के फूल मुजफ्फरनगर से मंगाए गए हैं।

कैशलेस खरीददारी पर रहा जोर

खरीददारी के लिए इस बार कैशलेस खरीददारी का जोर रहा। ग्राहकों ने तमाम सामान की खरीदादारी ज्यादातर ऑनलाइन पेमेंट, कार्ड पेमेंट से ही की।

शुभ मुहूर्त में हुई मां लक्ष्मी और धन की पूजा

धनतेरस पर शुभ मुहूर्त में शाम 5:35 से शाम 7:35 बजे तक घरों, दुकानों और प्रतिष्ठानों में पूजा-अर्चना हुई। व्यापारियों ने मां लक्ष्मी और धन कुबेर धन्वंतरि भगवान की विधि-विधान से पूजा अर्चना कर सुख-समृद्धि की कामना की।

प्रदूषण मुक्त दीपावली मनाने का दिया संदेश

ऋषिकेश में श्री दर्शन महाविद्यालय में धूम-धाम से दीवाली पर्व का आयोजन किया। इसमें छात्र-छात्राओं को प्रदूषण मुक्त दीपावली मनाने के लिए प्रेरित किया गया। सोमवार को मुनिकीरेती के श्री दर्शन महाविद्यालय में दीपावली पर आयोजित कार्यक्रम में प्रधानाचार्य डॉ. राधामोहन दास ने छात्रों को दीवाली पर्व का महत्व बताया। दीपावली बुराई पर अच्छाई की जीत को दर्शाता है।

उन्होंने बताया कि जब भगवान राम लंका पर विजय कर वापस अयोध्या लौटे थे, तो उनके स्वागत में अयोध्या वासियों ने दीपक जलाए। तभी से इसे दीपों का पर्व के रूप में भी मनाया जाता है। उन्होंने सभी छात्रों को प्रदूषण मुक्त दीपावली मनाने का संकल्प दिलाया। इस दौरान सुशील नौटियाल, सत्येश्वर प्रसाद डिमरी, मुकेश बहुगुणा, सीमा मैठाणी, अनूप रावत आदि मौजूद रहे।

उधर, मॉर्डन स्कूल ढालवाला में दीपावली के अवसर पर बच्चों ने विभिन्न प्रकार की रंगोली बनाई। इस दौरान बच्चों ने नाटक, डांस और कला में अपना बेहतर प्रदर्शन किया। स्कूल की डायरेक्टर ज्योति जुयाल ने बच्चों को मिठाई और गिफ्ट देकर सम्मानित किया। स्कूल के प्रधानाचार्य डॉ वीके शर्मा उपस्थित थे। वहीं श्री साई बाबा इंटरनेशनल पब्लिक स्कूल में दीपावली के उपलक्ष्य में रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। जिसमें विद्यालय के चारों सदन नानक, कबीर, टैगोर व नेहरू से बच्चों ने प्रतिभाग किया।

इस दौरान बच्चों ने विभिन्न प्रकार के रंगों, दिये, मोमबत्ती के द्वारा सुंदर रंगोली बनाई। उधर, 14 बीघा के जयदेव प्रसाद उमादत्त कुड़ियाल सरस्वती बालिका विद्या मंदिर इंटर कॉलेज में भी हर्षोउल्लास के साथ दीपोत्सव मनाया गया। इस दौरान छात्राओं ने सुंदर उत्कृष्ट दीप बनाकर विद्यालय को सजाया।

इस अवसर पर विद्यालय की प्रधानाचार्या विजयलक्ष्मी बिष्ट,दुर्गा प्रसाद थपलियाल, प्रदीप रावत, रजनी रावत, कविता नेगी, अनीता भट्ट, कविता ध्यानी आदि मौजूद रहे।

Leave a Comment