Share
केदारनाथ आपदा में क्षतिग्रस्त हो चुके गौरीकुंड तप्त कुंड का संरक्षण न होने पर, एनजीटी ने जारी किया नोटिस

केदारनाथ आपदा में क्षतिग्रस्त हो चुके गौरीकुंड तप्त कुंड का संरक्षण न होने पर, एनजीटी ने जारी किया नोटिस

देहरादून: केदारनाथ आपदा में क्षतिग्रस्त हो चुके रुद्रप्रयाग के गौरीकुंड तप्त कुंड का अब तक संरक्षण न होने पर एनजीटी ने फटकार लगाते हुए जल संसाधन मंत्रालय समेत उत्तराखंड सरकार, केंद्रीय भूजल बोर्ड को नोटिस जारी किया गया। इसको लेकर संबंधित पक्षकारों को छह अप्रैल से पहले जवाब दाखिल करने को कहा गया है। एनजीटी के न्यायाधीश जे रहीम की पीठ ने यह आदेश प्रतिभा नैथानी की याचिका पर सुनवाई करते हुए दिए।

एनजीटी ने पूर्व के आदेश में भी सरकार को इस गर्म पानी के स्रोत के संरक्षण के आदेश दिए थे। याचिकाकर्ता ने कहा कि इसके बाद भी सरकार ने इस दिशा में कोई ठोस प्रयास नहीं किए। जबकि यह स्थल न सिर्फ केदारनाथ का बेस कैंप है, बल्कि धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस कुंड में स्नान करने की मान्यता भी है। सुनवाई में कोर्ट के समक्ष यह बात भी आई कि पूर्व में वाडिया हिमालय भूविज्ञान संस्थान ने कुंड के संरक्षण को लेकर एक रिपोर्ट सरकार को सौंपी थी, जबकि इसके बाद भी सरकार ने इस दिशा में कोई प्रयास नहीं किए। न्यायाधीश जे रहीम ने इसे गंभीर मानते हुए छह अप्रैल से पहले सभी पक्षकारों को कुंड के संरक्षण को लेकर अपनी-अपनी भूमिका स्पष्ट करने को कहा है।

Leave a Comment