Share
ट्रैकिंग के लिए रुद्रप्रयाग आया नौ सदस्यीय ट्रैकर दल पनपतिया ग्लेशियर में फँसा

ट्रैकिंग के लिए रुद्रप्रयाग आया नौ सदस्यीय ट्रैकर दल पनपतिया ग्लेशियर में फँसा

रुद्रप्रयाग: पश्चिम बंगाल से ट्रैकिंग के लिए रुद्रप्रयाग आया नौ सदस्यीय ट्रैकर दल पनपतिया ग्लेशियर में फंस गया है। ट्रैकर्स के साथ 12 पोर्टर और 2 गाइड भी शामिल हैं। इनमें से एक ट्रैकर की मौत हो गर्इ है। वो भारतीय रेलवे विभाग का सीनियर इंजीनियर बताया जा रहा है। फिलहाल, ट्रैैकर्स के बचाव के लिए रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया जा रहा है।

दरअसल, पांच जून को चमोली जिले के लामबगड़ की खीरों नदी से पैदल ट्रैकिंग करते हुए ये दल पनपतिया ग्लेशियर पहुंचा और वहीं फंस गया। 11 जून को दल के एक सदस्य अरुण कुमार दास (34 वर्ष) की मृत्यु हो गई। जिसके बाद  दल के अन्य लोगों ने शव को लेकर सजल सरोवर से आशिकी ताल तक ट्रैक किया, जबकि अन्य 19 सदस्य वहीं रुक गए। दल के साथ गए दो ट्रैकर और दो पोर्टर थाना ऊखीमठ पहुंचने वाले हैं।

वहीं, एसपी पीएन मीणा ने जानकारी दी कि ट्रैकर्स के फंसे होने की सूचना मिलने के बाद जिला पुलिस, प्रशासन और आपदा प्रबंधन की टीम रेस्क्यू में जुट गई है। जिला प्रशासन ने स्थानीय लोगों के साथ मिलकर एक टीम का गठन किया है और फंसे हुए ट्रैकर्स को बचाने की तैयारी की जा रही है। प्रशासन ने एक टीम गठित कर मदमहेश्वर के लिए रवाना कर दी है। साथ ही एसडीआरएफ की टीम और अन्य सदस्यों को ट्रैकर्स के रेस्क्यू के लिए देहरादून से बुलाया गया है, जिनको गुरुवार की सुबह हेलीकॉप्टर से मदमहेश्वर के लिए भेजा जाएगा।

Leave a Comment