Share
छात्रसंघ चुनाव को लेकर राजनीति शुरू, शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न करने को तैयार पुलिस

छात्रसंघ चुनाव को लेकर राजनीति शुरू, शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न करने को तैयार पुलिस

देहरादून: उत्तराखंड के महाविद्यालयो में छात्रसंघ चुनाव को लेकर छात्रों के साथ ही पुलिस ने भी कमर कस ली है। जिले में छात्र राजनीति गर्मा गई है। इसके साथ ही जोड़तोड़ की राजनीति शुरू हो गई है।

दून के डीएवी पीजी कॉलेज में आगामी आठ सितंबर को होने वाले छात्रसंघ चुनाव को लेकर पुलिस ने भी कमर कस ली है। चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हों और किसी भी प्रकार की अराजकता न फैले, इसके लिए पुलिस ने कॉलेज के विभिन्न संगठनों के 58 छात्रों को पाबंद कर दिया है। साथ ही अराजकता फैलाने वाले छात्रों से सख्ती से निपटने की भी चेतावनी दी है।

डीएवी छात्रसंघ चुनाव पुलिस प्रशासन के लिए हर बार चुनौती भरा होता है। चुनाव के दौरान छात्रों के बीच होने वाले विवादों से निपटने में पुलिस को काफी मशक्कत करनी पड़ती है। चुनाव शांतिपूर्ण ढंग से संपन्न हो, इसलिए डालनवाला पुलिस ने विभिन्न छात्र संगठनों से जुड़े ऐसे छात्र, जिनकी ओर से चुनाव के दौरान शांति व्यवस्था भंग करने की आशंका है उन्हें चिह्नित किया है। साथ ही उन्हें पाबंद करने के लिए रिपोर्ट सिटी मजिस्ट्रेट को भेज दी है।

पाबंद किए गए सभी छात्रों को 31 अगस्त  से सिटी मजिस्ट्रेट के समक्ष उपस्थित होने के नोटिस दिए गए हैं। कोतवाली डालनवाला इंस्पेक्टर राजीव रौथाण ने बताया कि सभी छात्र संगठनों के पदाधिकारियों के साथ बैठक कर उन्हें स्पष्ट तौर पर निर्देश दिए गए हैं कि छात्र संघ चुनाव के दौरान किसी प्रकार की अराजकता बर्दाश्त नहीं की जाएगी।

यह है स्थिति

संगठन——–छात्र पाबंद

एबीवीपी———–23

एनएसयूआइ——10

दिवाकर ग्रुप——03

आर्यन गु्रप——-13

सत्यम ग्रुप——–09

डीबीएस का कार्यक्रम घोषित, डीएवी में फंसा ईवीएम का पेच

डीबीएस महाविद्यालय ने छात्रसंघ चुनाव का कार्यक्रम घोषित कर दिया है। जबकि, प्रदेश के सबसे बड़े डीएवी स्नातकोत्तर महाविद्यालय में ईवीएम से चुनाव करवाने का पेच फंस गया है। जिस कारण छात्रसंघ चुनाव की अधिसूचना जारी नहीं की जा सकी।

डीबीएस के प्राचार्य डॉ. एके बियानी ने बताया कि चार सितंबर को नामांकन पत्र भरे जाएंगे। इसी दिन नाम वापसी भी होगी। छह सितंबर शाम पांच बजे प्रचार समाप्त हो जाएगा और आठ सितंबर को सुबह नौ बजे से मतदान शुरू होगा। दोपहर ढाई बजे से मतगणना शुरू होगा और देर शाम परिणाम घोषित कर दिया जाएगा।

उधर, डीएवी महाविद्यालय के प्राचार्य डॉ. अजय सक्सेना ने बताया कि वह गुरुवार को ईवीएम से चुनाव करवाने को लेकर आयुक्त निर्वाचन आयोग उत्तराखंड से मिलने पहुंचे। आयुक्त तो नहीं मिले, लेकिन सचिव रोशनलाल ने बताया कि आयोग की ओर से ईवीएम मशीनें उपलब्ध करवा दी जाएंगी, जिसका भाड़ा डीएवी कॉलेज को भुगतान करना होगा। ईवीएम के संचालन के लिए आयोग के पास कोई विशेषज्ञ नहीं हैं।

लिहाजा कॉलेज को इसकी खुद व्यवस्था करनी होगी। प्राचार्य ने इसके बाद जिलाधिकारी एस. मुरूगेशन से संपर्क किया। जिस पर जिलाधिकारी ने उन्हें मिलने का समय दिया है। डॉ. अजय सक्सेना ने कहा कि चुनाव की अधिसूचना जल्द होगी।

डीबीएस का चुनाव कार्यक्रम 

30 अगस्त: छात्रसंघ चुनाव की अधिसूचना

01 सितंबर: प्रवेश की अंतिम तिथि

31 अगस्त, 01 और 04 सितंबर: नामांकन पत्रों की ब्रिकी और प्रमाण पत्रों का सत्यापन (सुबह 10 से दोपहर एक बजे तक)

04 सितंबर: नामांकन (सुबह 10 से 1:30 बजे तक)

05 सितंबर: मतदान के लिए परिचय पत्र लेने की अंतिम तिथि

06 सितंबर: छात्र प्रतिनिधि की आमसभा (11 बजे से स्वर्ण जयंती सभागार में)

08 सितंबर: मतदान (सुबह नौ बजे से दोपहर डेढ़ बजे तक) मतगणना (दोपहर ढाई बजे से शुरू)

चारों कॉलेजों में रैलियां शुरू 

दून के चारों महाविद्यालय परिसर छात्र संघ चुनाव के रंग में रंग गए हैं। चुनाव तिथि की घोषणा के बाद समर्थक रैलियों का सिलसिला शुरू हो गया है। लिंगदोह कमेटी की बदली सिफारिशों के बाद पहली बार प्रदेश के सभी कॉलेजों में एक ही तिथि को चुनाव होने से प्रचार अभियान दून के चारों कॉलेजों में एक ही दिन समाप्त होगा। इस बार प्रचार के लिए अधिक समय न मिलने के कारण छात्र संगठन प्रचार में जुट गए हैं।

डीएवी में एनएसयूआइ, एबीवीपी, अखंड भारतीय छात्र संगठन, आर्यन और सत्य शिवम ने रैली निकाली। डीएवी में बिष्ट आमने-सामने डीएवी महाविद्यालय में इस बार अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (एबीवीपी) से जीतेंद्र सिंह बिष्ट, जबकि भारतीय राष्ट्रीय छात्र संगठन (एनएसयूआइ) से आदित्य बिष्ट अध्यक्ष पद के दावेदार हैं।

दोनों ही संगठन केवल अध्यक्ष पद पर चुनाव लड़ रहे हैं। अखंड भारतीय छात्र संगठन से सागर जोशी भी अध्यक्ष पद के दावेदार हैं। महासचिव पद पर सत्यम-शिवम व निश्चय छात्र संगठनों ने साझा उम्मीदवार सचिन नैथानी को मैदान में उतारा गया है।

जबकि, आर्यन से महासचिव पद के दावेदार शूरवीर सिंह चौहान मैदान में हैं। रायपुर डिग्री कॉलेज में चुनाव नहीं श्रीदेव सुमन विवि से संबद्ध होने के कारण रायपुर स्थित राजकीय स्नातकोत्तर महाविद्यालय में इस वर्ष चुनाव नहीं होंगे।

लिंगदोह कमेटी की सिफारिशों के अनुसार संबंधित कॉलेज को विवि से संबद्ध हुए कम से कम तीन साल पूरे होने चाहिए। रायपुर महाविद्यालय इसी वर्ष श्रीदेव सुमन विवि से संबद्ध हुआ है। महाविद्यालय की प्राचार्य डॉ.अंजू अग्रवाल ने इसकी पुष्टि की है।

अंजलि डीएवी से यूआर उम्मीदवार 

एनएसयूआइ के उत्तराखंड प्रभारी निखिल कांबले ने नई दिल्ली में उत्तराखंड एनएसयूआइ नेताओं से भेंट की। इस दौरान उन्होंने डीएवी कॉलेज से विवि प्रतिनिधि (यूआर) के लिए कुमारी अंजलि चमोली के नाम पर मुहर लगाई। इस दौरान एनएसयूआइ के नेता विकास नेगी मौजूद रहे।

छात्रवृत्ति को लेकर एबीवीपी का धरना 

डीएवी महाविद्यालय के मुख्य गेट पर अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने लंबित छात्रवृत्ति को लेकर धरना दिया और सरकार को 15 दिन का अल्टीमेटम दिया। छात्रसंघ अध्यक्ष शुभम सिमल्टी, पूर्व अध्यक्ष राहुल कुमार, जितेंद्र सिंह आदि ने धरना देकर छात्रवृत्ति एवं शोधवृत्ति तत्काल जारी करने की मांग की।

दून विश्वविद्यालय में भी बजा चुनावी बिगुल

दून विश्वविद्यालय में छात्र परिषद के चुनाव की बैठक में आठ सितंबर को छात्र परिषद के चुनाव कराने का फैसला लिया गया। साथ ही स्कूल सोसायटी चुनाव पाच सितंबर को कराने पर भी सहमति बनी। अधिसूचना जारी करते हुए अधिष्ठाता छात्र कल्याण और मुख्य चुनाव अधिकारी प्रो. एचसी पुरोहित ने बताया कि पंजीकृत छात्रों की सूची गुरुवार को जारी कर दी गई। 31 अगस्त को संशोधन स्वीकार किए जाएंगे।

31 अगस्त को ही शाम चार बजे वोटर लिस्ट भी चस्पा कर दी जाएगी और नामाकन प्रक्रिया शुरू होगी। स्कूल सोसायटी के निर्वाचित सदस्य विश्वविद्यालय छात्र परिषद चुनाव मे भाग लेंगे। छात्र परिषद के लिए छह सितंबर 2018 को नामाकन होगा। जिसमें अध्यक्ष, उपाध्यक्ष, महासचिव, संयुक्त सचिव एवं कोषाध्यक्ष पद के चुनाव, मतगणना एवं शपथ ग्रहण आठ सितंबर होगा।

बैठक में प्रो. कुसुम अरुणाचलम, डॉ. रीना सिंह, डॉ. प्राची पाठक, डॉ. चंद्रिका कुमार, डॉ. शिखा अहमद, डॉ. मधुरेंद्र झा, डॉ. अरुण कुमार, डॉ. विकास शर्मा, दुर्गेश डिमरी आदि शामिल हुए।

पांच को स्कूल सोसायटी का चुनाव 

दून विवि स्कूल सोसायटी के लिए पांच सितंबर को विश्वविद्यालय में संचालित आठ स्कूलों जिसमें स्कूल ऑफ मैनेजमेंट, स्कूल ऑफ कम्यूनिकेशन, फिजिकल साईस, लैंग्वेज, सोशल साइंस और टेक्नोलॉजी में प्रत्येक के चार-चार व एन्वायरमेंटल साइंस व डिजाइन के दो-दो कुल 28 स्कूल सोसायटी सदस्यों का चुनाव होगा।

प्रो. पुरोहित ने बताया कि सभी स्कूलों के चुनाव संपन्न करवाने के लिए कुलपति प्रो. सीएस नौटियाल ने रिर्टनिंग आफिसर की नियुक्ति की है। नामाकन पत्र भरने की अंतिम तिथि एक सितंबर को शाम चार बजे तक है।

जनरल हाउस से तय होगा छात्रसंघ का सफर

इस वर्ष छात्रसंघ चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों को जनरल हाउस के जरिए अपनी नेतृत्व क्षमता दिखानी होगी। शासन के आदेश पर इस वर्ष छात्रसंघ चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों के लिए जनरल हाउस की प्रक्रिया से गुजरना अनिवार्य कर दिया गया है। आठ सितंबर को सूबे के एकमात्र ऑटोनोमस महाविद्यालय में भी छात्रसंघ चुनाव होने हैं।

इस बार छात्रसंघ चुनाव के लिए शासन स्तर पर कुछ महत्वपूर्ण परिवर्तन किए गए हैं। करीब 27 वर्ष पूर्व ऋषिकेश के राजकीय महाविद्यालय में छात्रसंघ चुनाव प्रक्रिया में जनरल हाउस एक अहम अंग होता था। जनरल हाउस में छात्रसंघ चुनाव लड़ रहे प्रत्याशियों का संबोधन तय करता था कि कौन प्रत्याशी छात्रसंघ का प्रतिनिधित्व कर सकता था। मगर, इसके बाद छात्रसंघ चुनाव से जनरल हाउस की प्रक्रिया समाप्त हो गई।

अब एक बार फिर से उच्च शिक्षा मंत्री धन सिंह रावत के प्रयासों के बाद शासन स्तर पर छात्रसंघ चुनाव प्रक्रिया में कुछ अहम बदलाव किए गए हैं। राजकीय महाविद्यालय के प्रशासनिक भवन में आयोजित चुनाव संचालन समिति की बैठक में छात्रसंघ के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एनपी नगवाल ने समिति को नए निर्णयों से अवगत कराया।

उन्होंने बताया कि आठ सितंबर को प्रदेश भर के राजकीय महाविद्यालयों के साथ आटोनोमस महाविद्यालय में भी छात्रसंघ चुनाव संपन्न होंगे। इस बार छात्रसंघ में उपाध्यक्ष का पद छात्राओं के लिए आरक्षित किया गया है। छात्रसंघ चुनाव से पूर्व पांच सितंबर को महाविद्यालय में जनरल हाउस आयोजित किया जाएगा, जिसमें छात्रसंघ प्रत्याशियों को छात्रों के बीच अपनी बात रखने के लिए पांच मिनट का समय दिया जाएगा।

उन्होंने बताया कि लिंगदोह समिति की सिफारिशों के अनुसार अब तक प्रत्याशियों की खर्च की सीमा पांच हजार रुपये थी, जो अब बढ़ाकर छात्रसंख्या के हिसाब से 25 हजार व 50 हजार कर दी गई है। ऋषिकेश महाविद्यालय के लिए यह सीमा 25 हजार रुपये होगी

उन्होंने बताया कि छात्रसंघ बोर्ड के गठन के बाद छह पदों पर टॉपर, खेल-कूद में उत्कृष्ट प्रदर्शन करने वाले व एनसीसी, एनएसएस व सांस्कृतिक गतिविधियों में अच्छा काम करने वाले छह छात्र-छात्राओं को नामित किया जाएगा।

उन्होंने बताया कि महाविद्यालय जल्द निर्वाचन कार्यक्रम घोषित करेगा। इस अवसर पर महाविद्यालय के चीफ प्रोटेक्टर डॉ. बीपी अग्रवाल, मीडिया प्रभारी डॉ. दयाधर दीक्षित, डॉ. डीपी भट्ट, डॉ. केएस नेगी, डॉ. डीएस मेहरा, डॉ. वेद प्रकाश, डॉ. सुषमा मित्तल उपस्थित थे।

Leave a Comment