Share
भ्रष्टाचार रोकना किसी चुनौती से कम नहीं, जिसमें जनसहयोग जरूरी : त्रिवेंद्र सिंह रावत

भ्रष्टाचार रोकना किसी चुनौती से कम नहीं, जिसमें जनसहयोग जरूरी : त्रिवेंद्र सिंह रावत

देहरादून। ‘स्वच्छ राजनीतिज्ञ का सम्मान’ लेते हुए मेरे हाथ कांप रहे हैं। क्योंकि राजनीति और स्वच्छता की एक-दूसरे से दुश्मनी है। भ्रष्टाचार रोकने के लिए ‘धर्मयुद्ध’ की जरूरत पड़ती है, जिसमें जनसहयोग जरूरी है। जब हममें और दूसरों में अंतर होगा, तभी वो जनता को दिखाई देगा। यह बात राजभवन में सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने राज्य के पहले मुख्यमंत्री नित्यानंद स्वामी की 90वीं जयंती पर आयोजित समारोह में कही। समारोह में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को ‘स्वच्छ राजनीतिज्ञ सम्मान’ से नवाजा गया।

श्री नित्यानंद स्वामी जनसेवा समिति की ओर से राजभवन में हुए सम्मान समारोह का शुभारंभ राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने किया। समारोह में मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने नित्यानंद स्वामी को याद करते हुए कहा कि उत्तराखंड में खनन माफिया और शराब सिंडिकेट पर लगाम कसने में उनकी अहम भूमिका रही। उन्होंने बतौर मुख्यमंत्री ईमानदारी की कई मिसाले कायम की।

उन्होंने कहा कि भ्रष्टाचार रोकना किसी चुनौती से कम नहीं है। सरकार पर कई प्रकार से दबाव बनाए जाते हैं, लेकिन शुचिता तभी बनी रहेगी, जब राजनीति में पारदर्शिता होगी। उन्होंने कहा कि पिछले 20 महीने में कोशिश की गई कि हर क्षेत्र में पारदर्शिता बरती जाए। इसका ही परिणाम है कि खनन कार्य में एक साल में 850 करोड़ का राजस्व प्राप्त किया गया। हालांकि खनन कार्यो में अभी चोरी के मामलों पर पूरी तरह अंकुश नहीं लगा है। जिसके लिए कड़े कदम उठाए जा रहे हैं।

नित्यानंद स्वामी हैं ईमानदारी की मिसाल

विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने कहा कि स्वामी जी ईमानदार व्यक्तित्व के धनी होने के साथ ही बेहद सरल और सहज स्वभाव के थे। उन्होंने उत्तराखंड के विकास को एक नई दिशा दी। उन्होंने ऐसे समय राज्य की कमान संभाली, जब यहां राजनैतिक और प्रशासनिक ढांचा तैयार करने की सख्त जरूरत थी। अपनों के लिए जीने वाले का स्मरण होता है समारोह में परमार्थ निकेतन के परमाध्यक्ष स्वामी चिदांनद सरस्वती ने कहा कि अपने लिए जीने वाले का मरण होता है और अपनों के लिए जीने वाला का स्मरण होता है। उन्होंने कहा कि स्वामी जी अक्सर परमार्थ निकेतन आया करते थे। उन्होंने राजनीति में रहते हुए भी ईमानदारी के नए आयाम स्थापित किए।

इन विभूतियों को किया गया सम्मानित 

– मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को ‘स्वच्छ राजनीतिज्ञ सम्मान’

– एवरेस्ट पर फतह करने वाली बछेंद्री पाल को ‘उत्तराखंड गौरव सम्मान’

– किरन उल्फत गोयल, मुख्य प्रवर्तक नन्ही दुनिया को शिक्षाविद् अलंकरण

– लोक गायक स्वर्गीय पप्पू कार्की को संगीत अलंकरण

-पवन अग्रवाल, एमडी नैनी पेपर्स लिमिटेड को उद्योग अलंकरण

– डॉ. स्वर्गीय रामेश्वर पांडे, श्वास रोग विशेषज्ञ और डॉ. केबी जोशी, हृदय रोग विशेषज्ञ को चिकित्सा सेवा अलंकरण

Leave a Comment