Share
लोक निर्माण विभाग ने किया 3200 करोड़ का बजट प्रस्तावित

लोक निर्माण विभाग ने किया 3200 करोड़ का बजट प्रस्तावित

देहरादून: लोक निर्माण विभाग ने इस वित्तीय वर्ष के लिए 3200 करोड़ का बजट प्रस्तावित किया है। इस बजट में से 2700 करोड़ सड़क, पुल और दूसरे विकास कार्यों पर खर्च किए जाएंगे। जबकि पांच सौ करोड़ रुपये वेतन और दूसरे मद में खर्च होंगे।

लोक निर्माण विभाग ने वर्ष 2017-18 में विकास कार्यों समेत अन्य खर्चों के लिए 2500 करोड़ का बजट प्रस्तावित किया था। मगर आपदा और दूसरे खर्चे बढ़ने से विभाग को सालभर बजट की मार झेलनी पड़ी। ठेकेदारों की उधारी के चलते विभाग ने बड़े निर्माण कार्यों से हाथ खींच लिए थे।

कर्ज से जूझ रहे लोनिवि ने अगले वित्तीय वर्ष यानि 2018-19 के लिए 700 करोड़ ज्यादा बजट शामिल करते हुए इस बार 32 सौ करोड़ बजट प्रस्तावित किया है। हालांकि सातवें वेतनमान समेत दूसरे खर्चे बढ़ने पर विभाग ने इस बजट में 500 करोड़ वेतन के लिए रखा है। 27 सौ करोड़ बजट में विभाग ने प्रमुख सड़कें, पुल, फ्लाईओवर, बस अड्डे, बिल्डिंग समेत दूसरे निर्माण कार्य शामिल किए हैं।

इस बजट में सीआरएफ, एसपीए, एडीबी, एसएसआर, टीएसपी, अनुरक्षण, एनएच, आपदा प्रबंधन, जिला योजना के कार्य किए जाएंगे। नई सड़क और पुलों को इस बजट में प्राथमिकता में रखा गया है। विभाग शासन की मुहर लगने के बाद इस बजट में होने वाले बड़े कामों को सूचीबद्ध करेगा। इसके बाद प्राथमिकता के आधार पर विकास कार्य कराए जाएंगे।

केदारनाथ के कार्य भी शामिल 

लोक निर्माण विभाग के पास वर्तमान में प्रदेशभर में सड़क व पुलों के अलावा केदारनाथ धाम का पुनर्निर्माण का काम भी है। इसके लिए भी मोटा बजट प्रस्तावित किया गया है। करीब दो सौ करोड़ से ज्यादा के काम केदारनाथ धाम में होने हैं। प्रधानमंत्री की प्राथमिकता वाले इस कार्य को सरकार भी गंभीर है।

लोनिवि के विभागाध्यक्ष एचके उप्रेती ने बताया कि इस वित्तीय वर्ष के लिए करीब 32 सौ करोड़ का बजट प्रस्तावित किया गया है। इस बजट से सड़क, पुल के अलावा कई महत्वपूर्ण प्रोजेक्ट के काम होने हैं। आपदा प्रबंधन और जिला योजना के कार्य भी इस बजट से होने हैं।

Leave a Comment