Share
आदिशक्ति माता दुर्गा की आराधना को समर्पित शारदीय नवरात्रि इस वर्ष 29 सितंबर दिन रविवार से प्रारंभ हो रही है

आदिशक्ति माता दुर्गा की आराधना को समर्पित शारदीय नवरात्रि इस वर्ष 29 सितंबर दिन रविवार से प्रारंभ हो रही है

आदिशक्ति माता दुर्गा की आराधना को समर्पित शारदीय नवरात्रि इस वर्ष 29 सितंबर दिन रविवार से प्रारंभ हो रही है। इस बार शारदीय नवरात्रि 9 दिन की है। पहले दिन यानी 29 सितंबर को विधि विधान से घट या कलश स्थापना होगा। उसके बाद से नवरात्रि के व्रत प्रारंभ होंगे। इन 9 दिनों में माता के 9 स्वरुपों की पूजा-अर्चना की जाएगी। इस बार दशहरा या विजयादशमी 08 अक्टूबर को है।

 नवरात्रि के व्रत और पूजा के लिए विशेष तैयारियां करनी होती हैं। घट स्थापना के लिए कलश, धूप, दीप, मौली, कपूर, नैवेद्य, माता की मूर्ति या तस्वीर, गाय का घी, शहद, शक्कर, लाल चुनरी, फल आदि की व्यवस्था करनी होती है।

ऐसे में आइए जानते हैं कि किस तारीख को माता दुर्गा के किस स्वरुप की पूजा की जाएगी।

शारदीय नवरात्रि 2019 की महत्वपूर्ण तारीखें

1. 29 सितंबर- प्रतिपदा – पहला दिन, घट या कलश स्थापना। इस दिन माता दुर्गा के शैलपुत्री स्वरूप की पूजा होगी।

2. 30 सितंबर- द्वितीया – दूसरा दिन। इस दिन माता के ब्रह्मचारिणी स्वरूप की पूजा की जाती है।

3. 1 अक्टूबर- तृतीया – तीसरा दिन। इस दिन दुर्गा जी के चंद्रघंटा स्वरूप की पूजा की जाएगी।

4. 2 अक्टूबर- चतुर्थी – चौथा दिन। माता दुर्गा के कुष्मांडा स्वरुप की पूजा-अर्चना होगी।

5. 3 अक्टूबर- पंचमी – पांचवां दिन- इस दिन मां भगवती के स्कंदमाता स्वरूप की पूजा की जाती है।

6. 4 अक्टूबर- षष्ठी- छठा दिन- इस दिन माता दुर्गा के कात्यायनी स्वरूप की पूजा होती है।

7. 5 अक्टूबर- सप्तमी- सातवां दिन- इस दिन माता दुर्गा के कालरात्रि स्वरूप की आराधना की जाती है।

8. 6 अक्टूबर- अष्टमी – आठवां दिन- दुर्गा अष्टमी, नवमी पूजन। इस दिन माता दुर्गा के महागौरी स्वरूप की पूजा अर्चना की जाती है।

9. 7 अक्टूबर- नवमी – नौवां दिन- नवमी हवन, नवरात्रि पारण।

10. 8 अक्टूबर- दशमी- जिन लोगों ने माता दुर्गा की प्रतिमाओं की स्थापना की होगी, वे विधि विधान से माता का विसर्जन करेंगे। इस दिन विजयादशमी या दशहरा मनाया जाएगा।

Leave a Comment