Share
अब तक वन क्षेत्रों में आग की 37 घटनाएं, छह मवेशियों ने गंवाई जान

अब तक वन क्षेत्रों में आग की 37 घटनाएं, छह मवेशियों ने गंवाई जान

देहरादून। उत्तराखंड में मौसम के साथ देने से इस मर्तबा वन महकमा कुछ सुकून में है। 15 फरवरी को फायर सीजन शुरू होने से अब तक वन क्षेत्रों में आग की 37 घटनाएं हुई, जिनमें 55212 रुपये की क्षति आंकी गई है। अलबत्ता, छह मवेशियों को भी आग में जान गंवानी पड़ी है।

पिछले वर्षों तक फायर सीजन में इन दिनों जंगल लगातार सुलगते थे, मगर इस बार नियमित अंतराल में हो रही बारिश और बर्फबारी ने जंगलों की आग के लिहाज से काफी राहत दी है। विभागीय आंकड़ों पर ही गौर करें तो राज्य में वनों में आग की 37 घटनाएं हुई हैं। इनमें गढ़वाल क्षेत्र की 20, कुमाऊं की 16 और वन्यजीव परिरक्षण क्षेत्र की एक घटना शामिल हैं। आग से वन क्षेत्रों में 43.775 हेक्टेयर वन क्षेत्र को नुकसान पहुंचा। कुमाऊं क्षेत्र में करीब आधा हेक्टेयर प्लांटेशन भी आग की चपेट में आया। राज्य में अब तक 55212 रुपये   की क्षति आंकी गई है। बताया गया कि गढ़वाल क्षेत्र में जंगल की आग की चपेट में आकर छह मवेशी भी मरे।

जंगल की आग

  • क्षेत्र————————प्रभावित क्षेत्र——–क्षति
  • गढ़वाल———————21.9—————23150
  • कुमाऊं———————-20.875————32062.5
  • वन्यजीव परिरक्षण——-1.0——————00

(नोट: क्षेत्र हेक्टेयर और क्षति रुपये में)

Leave a Comment