Share
छात्र को अगवा कर भाग रहे युवकों की पलटी कार, एक युवक की मौत;पांच गिरफ्तार

छात्र को अगवा कर भाग रहे युवकों की पलटी कार, एक युवक की मौत;पांच गिरफ्तार

देहरादून। कैनाल रोड स्थित दून विहार से एक छात्र को अगवा कर भाग रहे युवकों की स्कार्पियो सहस्रधारा रोड पर मधुर विहार के पास बिजली के खंभे से टकराकर पलट गई। युवकों ने पीछा कर रही पुलिस से बचने के लिए गाड़ी मेन रोड से मधुर विहार कॉलोनी में मोड़ दी थी। हादसे में गाड़ी चला रहे युवक की मौके पर ही मौत हो गई। राजपुर पुलिस ने स्कार्पियो में सवार पांच युवकों को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं, तलाशी के दौरान गाड़ी से पिस्टल व तलवार आदि भी बरामद हुए, जिस पर रायपुर थाने में आरोपित छात्रों पर आर्मस एक्ट का मुकदमा दर्ज किया गया है। सभी युवक देहरादून के अलग-अलग संस्थानों में पढ़ाई कर रहे हैं।

घटनाक्रम के अनुसार आकाश, शिवम, प्रशांत समेत आधा दर्जन छात्र लाल रंग की स्कार्पियो से मंगलवार देर रात कैनाल रोड स्थित दून विहार पहुंचे। यहां युवकों ने यमंक नाम के छात्र को मारपीट कर जबरन अपनी गाड़ी में बैठा लिया। दरअसल, आकाश, शिवम, प्रशांत आदि का कुछ ही दिन पहले यमंक और उसके दोस्तों से एक जिम में झगड़ा हुआ था।

आरोप है कि इस झगड़े के बाद यमंक और उसके दोस्त आकाश व उसके दोस्तों के घर में घुस गए थे और तोड़फोड़ भी की थी। इसी का बदला लेने के लिए मंगलवार की रात आकाश अपने दोस्त रोहित की गाड़ी लेकर दून विहार पहुंचा था। यहां यमंक तो मिल गया, लेकिन उसके बाकी दोस्त नहीं मिले।

आकाश और उसके दोस्तों ने यमंक को स्कार्पियो में बैठा लिया। उस पर दबाव बनाया कि अपने बाकी के दोस्तों को बुलाए, नहीं तो उसके लिए अच्छा नहीं होगा। भयवश उसने अपने दोस्तों को फोन कर पूरी बात बताई। दोस्तों ने आने से मना करते हुए कहा कि वह पुलिस को फोन कर रहे हैं। घबराने की जरूरत नहीं है।

इस पर यमंक के दोस्तों ने 100 नंबर पर फोन कर पुलिस को सूचना दी। थोड़ी देर में राजपुर थाने से चीता पुलिस कर्मी बाइक से दून विहार पहुंच गए। इधर यमंक ने जब आकाश व अन्य को बताया कि उसके दोस्त आने के बजाय पुलिस को बुला रहे हैं, तो वह स्कार्पियो लेकर भागने लगे।

चीता और यमंक के दोस्तों ने कैनाल रोड पर पीछा भी किया, लेकिन स्कार्पियो उनकी नजरों से ओझल हो गई। इस पर चीता कर्मियों ने वायरलेस पर लाल रंग की स्कार्पियो के सहस्रधारा रोड की ओर भागने का संदेश प्रसारित कर दिया। यह मैसेज जोनल चेकिंग कर रहे जाखन चौकी इंचार्ज उमेश कुमार ने भी सुना।

इस दौरान उन्होंने सहस्रधारा रोड पर क्रासिंग की ओर जा रही गाड़ी को देखा तो उसका पीछा शुरू कर दिया। इस पर स्कार्पियो ड्राइव कर रहे आकाश ने रफ्तार बढ़ा दी। पुलिस की गाड़ी से पीछा छुड़ाने के लिए आकाश ने गाड़ी मधुर विहार की ओर मोड़ दी। पुलिस के अनुसार उस समय गाड़ी की रफ्तार 120 से 130 किमी प्रतिघंटा के करीब थी।

इससे गाड़ी मुड़ते ही विद्युत पोल से टकरा गई, जिससे गाड़ी चार पलटे खाकर सीधी खड़ी हो गई। हादसे में आकाश सिंह पुत्र धीरेंद्र सिंह निवासी हैप्पी एनक्लेव, कैनाल रोड मूल निवासी ग्राम मछरिया थाना जोआ अमरोहा की मौके पर ही मौत हो गई।

एसओ राजपुर नत्थीलाल उनियाल ने बताया कि हादसे में यमंक त्यागी पुत्र वीरेंद्र त्यागी निवासी नजीबाबाद बिजनौर को चोटें आई हैं। उसे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहीं, मामले में यमंक को अगवा करने वाले छात्रों आयुष कंबोज पुत्र योगेंद्र निवासी बंसल विहार छुटमलपुर सहारनपुर, शिवम डागर पुत्र सतवीर सिंह निवासी सहादतपुर वीवीनगर बुलंदशहर, प्रशांत चौधरी पुत्र सत्यवीर सिंह निवासी वीवीनगर बुलंदशहर, रोहित बंसल पुत्र सुरेश पाल सिंह निवासी सहपुर थाना बहमूसा मेरठ, लक्की चौधरी पुत्र प्रदीप चौधरी निवासी ग्राम रुपोल, बरेली व आकाश के खिलाफ मारपीट व अपहरण का मुकदमा पंजीकृत किया गया है।

स्कार्पियो से मिली पिस्टल व तलवार

आकाश और उसके दोस्तों का इरादा कितना खतरनाक था, इसका अंदाजा तब हुआ, जब पुलिस ने गाड़ी की तलाशी ली। गाड़ी से पिस्टल, तलवार और बेसबॉल स्टिक बरामद हुई। एसपी सिटी श्वेता चौबे ने बताया कि मामले में आरोपित छात्रों के खिलाफ रायपुर थाने में आम्र्स एक्ट के तहत भी मुकदमा पंजीकृत किया गया है।

दहशत में आ गए लोग

विद्युत पोल से स्कार्पियो के टकराने से हुई आवाज और विद्युत तारों में हुई स्पार्किंग की आवाज से कॉलोनी में अफरातफरी मच गई। लोग घरों से निकल आए। देखा कि एक स्कार्पियो गाड़ी क्षतिग्रस्त हाल में खड़ी है और उसके अंदर से चीखने-चिल्लाने की आवाज आ रही है। लोगों ने कार में सवार युवकों को बाहर निकाला, जिसके बाद आकाश को अस्पताल ने जाया। जहां उसे मृत घोषित कर दिया गया है।

सीसीटीवी में दिख रही गाड़ी किसकी

मधुर विहार कॉलोनी में लगे सीसीटीवी कैमरे में स्कार्पियो के टकराने के 3.54 मिनट के फुटेज में चार बार पलटते दिख रही है। तारों की स्पार्किंग और धुएं का गुबार छंटने तक स्कार्पियो से थोड़ी दूर एक गाड़ी की हेडलाइट भी दिख रही है। सवाल यह है कि हादसे के बाद यह यह गाड़ी किसकी थी। अधिकारियों का कहना है कि उन्हें हादसे की जानकारी काफी देर बाद मिली।

अभिभावकों के संग होगी बैठक 

देहरादून की एसएसपी निवेदिता कुकरेती के अनुसार, छात्रों की ओर से उठाया गया कदम बेहद चिंतनीय है। फिलहाल मुकदमा दर्ज कर आरोपित छात्रों को गिरफ्तार कर लिया गया है। जल्द ही स्कूल-कॉलेजों के प्रबंधकों और छात्रों के अभिभावकों के साथ बैठक इस पर बात की जाएगी कि वह बच्चों की गतिविधियों पर नजर रखें। ताकि भविष्य में इस तरह का हादसा न हो।

Leave a Comment