Share
उत्तराखंड में सूरज का सितम जारी, अगले तीन से चार दिन चलेगी लू

उत्तराखंड में सूरज का सितम जारी, अगले तीन से चार दिन चलेगी लू

देहरादून: देहरादून का तापमान पांच साल पूर्व के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया। सूरज का सितम जारी रहने से हर रोज गर्मी में इजाफा हो रहा है। मंगलवार को इस सीजन का सर्वाधिक अधिकतम तापमान 40.7 डिग्री सेल्सियस रिकॉर्ड किया गया। इससे पूर्व 26 मई 2013 को दून का अधिकतम तापमान इतना ही रहा था।

उत्तराखंड में सर्वाधिक तापमान जसपुर व हरिद्वार में 42 डिग्री सेल्सियस रहा। राज्य मौसम विज्ञान केंद्र ने चेतावनी जारी की है कि उत्तराखंड के कुछ भागों में अगले तीन से चार दिन लू चलेगी। देहरादून में अभी गर्मी से राहत मिलने की उम्मीद नहीं है। आसमान साफ रहने से तापमान 40 डिग्री से ऊपर ही रहेगा।
मंगलवार को सुबह से ही चटख धूप खिलने से भीषण गर्मी महसूस की गई। सुबह 11 बजे देहरादून का अधिकतम तापमान 36.3 डिग्री रहा। जबकि दोपहर एक बजे तापमान बढ़कर 40.3 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया। दोपहर ढ़ाई बजे इसमें और उछाल दर्ज किया गया और पारा 40.7 के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया।

मौसम विभाग के पिछले एक दशक के रिकॉर्ड पर गौर करें तो केवल वर्ष 2012 में ही 30 मई को देहरादून का अधिकतम तापमान 43.1 डिग्री सेल्सियस पहुंच गया था। जो अभी तक ऑल टाइम रिकॉर्ड है। सूर्यदेव के आग उगलने से दिन के समय घंटाघट, प्रिंस चौक, राजपुर रोड, सहारनपुर रोड, शिमला बाईपास, चकराता रोड आदि में वाहनों की आवाजाही बेहद कम रही। पैदल चलने वाले तो नजर नहीं आए।

मौसम विज्ञान केंद्र के निदेशक बिक्रम सिंह के मुताबिक केवल 24 मई को कुछ पहाड़ी जनपदों में मौसम बदलने की संभावना है। कहीं-कहीं हल्की बारिश हो सकती है। मैदानी क्षेत्र में 26 मई तक गर्मी का दौर जारी रहेगा और मौसम शुष्क रहेगा।
एक सप्ताह में ऐसे बढ़ा तापमान

16 मई————36.5 डिग्री सेल्सियस

17 मई————36.8 डिग्री सेल्सियस

18 मई————37.0 डिग्री सेल्सियस

19 मई————38.2 डिग्री सेल्सियस

20 मई————38.9 डिग्री सेल्सियस

21 मई————40.2 डिग्री सेल्सियस

22 मई————40.7 डिग्री सेल्सियस

पहाड़ों में भी राहत नहीं

मैदान तो तप ही रहे हैं लेकिन, पहाड़ों में भी गर्मी का सितम कम नहीं। मंगलवार को मसूरी का तापमान 30.2 डिग्री सेल्सियस, नैनीताल का 27.9, उत्तरकाशी 36.4, जोशीमठ 30.5, टिहरी 29.8, ऋषिकेश 38.1, चमोली 32.1, पौड़ी 31.4, रुद्रप्रयाग 39.0 रहा।

Leave a Comment