Share
स्वदेशी लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट तेजस में ईंधन भरने की प्रक्रिया के परीक्षण को सफलतापूर्वक किया पूरा

स्वदेशी लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट तेजस में ईंधन भरने की प्रक्रिया के परीक्षण को सफलतापूर्वक किया पूरा

नई दिल्ली : हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स लिमिटेड (एचएएल) ने एचएएल एयरफील्ड में स्वदेशी लाइट कॉम्बैट एयरक्राफ्ट तेजस में पुनः ईंधन भरने की प्रक्रिया के परीक्षण को सफलतापूर्वक पूरा किया है। ईंधन भरने वाले सत्र के दौरान सिस्टम का प्रदर्शन डिजाइन की आवश्यकताओं के अनुरूप और संतोषजनक था।

पुन: ईधन भरना एक जटिल प्रक्रिया है जिसमें कॉकपिट की छत और विमान के दायीं तरफ का एकीकरण किया जाता है। इस ऑपरेशन में इंजन के साथ विमान के एक एकल बिंदु दबाव को भरना शामिल है। यह क्षमता युद्ध की स्थितियों में बेहद जरूरी है जो मूल रूप से विमान को पार्क करने, पावर डाउन करने और ईंधन भरने के लिए कॉकपिट से बाहर निकलने के लिए पायलट की जरूरत को अलग रखता है।

एलसीए तेजस लिमिटेड सीरिज प्रोडक्शन-8 (एलएसपी -8) के लिए हवाई ईंधन भरने की जांच ब्रिटेन आधारित कोभाम द्वारा की जा रही है। एचएएल तेजस के अलावा आईएएफ लड़ाकू विमान मिराज में मध्य-उड़ान में फिर से ईंधन भरने वाली क्षमताएं है। यह अनुमान लगाया जा रहा है कि 2018 तक तेजस में पुन: ईधन भरने की सुविधा हो जाएगी।

Leave a Comment