Share
बारूदी सुरंग के विस्फोट में घायल हुए जवान ने उपचार के दौरान तोड़ा दम

बारूदी सुरंग के विस्फोट में घायल हुए जवान ने उपचार के दौरान तोड़ा दम

ऋषिकेश: जम्मू-कश्मीर में देश की सीमा पर उत्तराखंड का एक और जवान शहीद हो गया। ऋषिकेश के अपर गंगानगर निवासी प्रदीप रावत सीमा के पास एक बारूदी सुरंग के विस्फोट में घायल हो गए थे, जिसके बाद सैन्य चिकित्सालय में उपचार के दौरान उन्होंने दम तोड़ दिया।

जानकारी के मुताबिक प्रदीप रावत (30 वर्ष) पुत्र कुंवर सिंह रावत निवासी अपर गंगानगर ऋषिकेश, गढ़वाल राइफल की चौथी बटालियन में तैनात थे। वर्तमान में प्रदीप रावत जम्मू-कश्मीर के उरी सेक्टर में तैनात थे।

बताया जा रहा है कि रविवार दोपहर करीब 12:00 बजे एक सैन्य अभियान के दौरान सीमा पर दुश्मन की ओर से बिछाई गई बारूदी सुरंग के फट जाने से प्रदीप रावत गंभीर रूप से घायल हो गए थे, जिन्हें सैन्य वाहन से पहले नजदीकी अस्पताल और फिर हायर सेंटर के लिए रेफर किया गया।

शाम करीब चार बजे हायर सेंटर में पहुंचने पर चिकित्सकों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया। शहीद प्रदीप रावत मूल रूप से बैराई गांव पट्टी दोगी टिहरी गढ़वाल के रहने वाले हैं। शहीद प्रदीप रावत के पिता कुंवर सिंह रावत सेना से रिटायर्ड हैं, वर्तमान में वह एम्स में कार्यरत है। शहीद प्रदीप रावत तीन बहनों के इकलौते भाई थे। करीब डेढ़ साल पहले ही प्रदीप रावत की शादी हुई थी।

उनके चाचा वीर सिंह रावत ने बताया कि सेना के कमांडिंग ऑफिसर ने उन्हें फोन पर उनके शहीद होने की जानकारी दी। प्रदीप रावत की शहदात की सूचना के बाद घर पर कोहराम है। विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद अग्रवाल ने शहीद के घर पर पहुंचकर उनके पिता कुंवर सिंह रावत को सांत्वना दी।

क्षेत्रीय सभासद बृजपाल राणा ने बताया कि आर्मी हेड क्वार्टर द्वारा शहीद के घर पर विधिवत तरीके से सूचना दे दी गई है। शहीद प्रदीप रावत के संबंधी टेक सिंह राणा व सरोप सिंह पुंडीर ने बताया कि शहीद प्रदीप रावत की करीब डेढ़ वर्ष पूर्व शादी हुई थी। वह जनवरी में अपनी मैरिज एनिवर्सरी में छुट्टी आने वाले थे।

Leave a Comment