Share
सतर्कता विभाग की टीम ने आयुर्वेद विवि पहुंचकर खंगाली फाइलें, वित्तीय गड़बड़ी वाली फाइलों को लिया कब्जे में

सतर्कता विभाग की टीम ने आयुर्वेद विवि पहुंचकर खंगाली फाइलें, वित्तीय गड़बड़ी वाली फाइलों को लिया कब्जे में

देहरादून। उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय पहुंची सतर्कता विभाग की टीम ने सात घंटे तक मृत्युंजय मिश्रा से जुड़ी एक-एक फाइल खंगाली। इस दौरान वित्तीय गड़बड़ी वाली फाइलों को सतर्कता की टीम ने अपने कब्जे में ले लिया। इसके अलावा नूतन रावत और शिल्पा त्यागी की फर्म से जुड़ी भुगतान वाली कुछ फाइलें भी सतर्कता की टीम ने हासिल कर ली हैं।

विवि के निलंबित कुलसचिव मृत्युंजय मिश्रा के भ्रष्टाचार में फंसने के बाद सतर्कता विभाग की टीम जांच में जुटी है। मिश्रा के कार्यकाल से जुड़ी फाइलों और गड़बड़ियों पर जानकारी लेने सतर्कता की टीम मंगलवार को फिर विवि पहुंची। यहां कुलपति प्रो. अभिमन्यु कुमार से मुलाकात कर कई मसलों पर बातचीत हुई। कुलपति ने मिश्रा के विवादों से जुड़ी फाइलें सतर्कता के इंस्पेक्टर प्रदीप पंत के साथ गई टीम को सौंप दी। इसके अलावा कुछ फाइलों का मौके पर अवलोकन कराया गया।

करीब 11 बजे से शाम साढ़े छह बजे तक टीम ने एक-एक फाइल को देखा। खासकर सतर्कता की टीम ने नूतन रावत और शिल्पा त्यागी से जुड़ी फाइलों की तलाश में ज्यादा दिलचस्पी दिखाई। सतर्कता के निदेशक अपर पुलिस महानिदेशक राम सिंह मीणा का कहना है कि अभी कुछ दस्तावेज मिल गए हैं। बाकी दस्तावेज और जानकारी लेने के लिए टीम बुधवार को भी विवि जाएगी। यहां वित्त और मिश्रा की गड़बड़ी से जुड़ी फाइलों का अध्ययन किया जाएगा।

शिल्पा और श्वेता की फर्म पर फोकस 

विवि में सतर्कता की जांच टीम ने मिश्रा के वित्तीय गड़बड़ी और अपने करीबियों के फर्म को आवंटित काम पर ज्यादा फोकस रखा। सतर्कता टीम ने मृत्युंजय मिश्रा की करीबी और विवि को कंप्यूटर उपकरण आदि की आपूर्ति करने वाली अमेजन आटोमेशन कंपनी की शिल्पा त्यागी और क्रिएटिव वर्ल्ड सोलेशन की नूतन रावत की फर्म के खातों की जानकारी भी जुटाई। इस दौरान फर्म के कोटेशन, चेक, जारी आर्डर आदि की जानकारी भी ली।

कहां गई श्वेता, सतर्कता को नहीं पता

नूतन रावत के बाद मृत्युंजय मिश्रा की पत्नी श्वेता मिश्रा भी सतर्कता के लिए मुसीबत बन सकती है। श्वेता के बैंक खातों में लाखों रुपये का ट्रांजेक्शन हुआ है। हर्रावाला स्थिति बैंक ऑफ बड़ौदा में फर्जी दस्तावेजों से खोले गए खातों से भी रकम ट्रांसफर हुई है। इन बैंक खातों में श्वेता का मोबाइल नंंबर भी दर्ज है।

ऐसे में साफ है कि श्वेता को मिश्रा की इस गड़बड़ी की जानकारी रही होगी। इसी आधार पर श्वेता को सतर्कता ने आरोपित बनाते हुए मुकदमा दर्ज किया है। लेकिन मिश्रा की गिरफ्तारी के बाद श्वेता पिछले चार दिनों से गायब चल रही है। इस मामले में सतर्कता के अधिकारियों का कहना है कि श्वेता का मोबाइल नम्बर सर्विलांस पर लगाया गया है।

बैंक की भूमिका होगी तय 

हर्रावाला स्थित बैंक ऑफ बड़ौदा में शिल्पा और श्वेता के खाते खोले गए थे। सतर्कता के अधिकारियों का कहना है कि यह खाते फर्जी दस्तावेजों पर खोले गए हैं। इसमें दोनों को विवि का कर्मचारी बताया गया है। सतर्कता ने इसको भी जांच में शामिल कर दिया है। यह खाते बैंक कर्मियों की मिलीभगत से खोले गए या फिर शिल्पा और श्वेता की मौजूदगी में। इसके अलावा विवि की तरफ से जारी प्रमाणपत्र को भी जांच में शामिल किया गया है।

शिल्पा और नूतन की चुप्पी में जवाब ढूंढ रही सतर्कता

उत्तराखंड आयुर्वेद विश्वविद्यालय के निलंबित कुलसचिव मृत्युंजय मिश्रा के घपलों से जुड़ी शिल्पा त्यागी और नूतन रावत से दूसरे दिन भी पूछताछ जारी रही। सतर्कता की टीम ने दोनों से फर्म बनाने से लेकर विवि से मिलने वाले काम और रकम का हिसाब पूछा। हालांकि, मिश्रा के करीब कब आई, इस सवाल पर दोनों या तो चुप्पी साधे रहीं या गोलमोल जवाब दिए।

उत्तराखंड आयुर्वेद विवि को कंप्यूटर उपकरण, सीसीटीवी कैमरे, जैमर आदि की आपूर्ति करने वाली अमेजन ऑटोमेशन की शिल्पा त्यागी और क्रिएटिव वर्ल्ड सोलेशन की नूतन रावत की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। मंगलवार को सतर्कता मुख्यालय में दोनों से करीब पांच घंटे तक पूछताछ की गई। इस दौरान सतर्कता की अलग-अलग टीमों ने उनसे फर्म के नाम कितना बजट जारी हुआ, फर्म के बैंक एकाउंट, फर्म में काम करने वाले लोगों की संख्या जैसे सवाल पूछे। सतर्कता की टीम ने आयुर्वेद विवि में उनकी फर्म के कुछ बिलों की प्रतिलिपि मांगी तो वह जल्द देने का भरोसा दे गईं।

हालांकि, गड़बड़ी के हर सवाल पर नूतन और शिल्पा ने स्वयं को निर्देश मिलने की बात ही कही। सतर्कता निदेशक राम सिंह मीणा ने बताया कि शिल्पा और नूतन से एक-एक सवाल पूछा जा रहा है। बैंक एकाउंट से लेकर उनकी फर्म संचालन, मिश्रा को लेकर भी सवाल पूछे गए। उन्होंने कहा कि पूछताछ के बाद दोनों से कुछ दस्तावेज मांगे गए हैं। दस्तावेज मिलते ही बुधवार को दोबारा पूछताछ की जाएगी।

विवि के कर्मचारियों से भी होगी पूछताछ 

मिश्रा प्रकरण में विवि के कुछ कर्मचारियों से भी सतर्कता की टीम पूछताछ करेगी। खासकर खरीदारी और वित्त अनुभाग से जुड़े लोगों की सूची बनाई गई है। इनसे मिश्रा से लेकर नूतन और शिल्पा के बारे में भी जानकारी ली जाएगी।

Leave a Comment