Share
पटेलनगर के माजरा क्षेत्र में पकड़े गए दो बांग्लादेशी नागरिक, पहचान छिपाने के लिए भारतीय महिलाओं से की थी शादी

पटेलनगर के माजरा क्षेत्र में पकड़े गए दो बांग्लादेशी नागरिक, पहचान छिपाने के लिए भारतीय महिलाओं से की थी शादी

देहरादून। पटेलनगर के माजरा में पकड़े गए बांग्लादेशी नागरिकों में से एक 29 तो दूसरा करीब 19 साल से यहां रह रहा था। दोनों ने अपनी पहचान छिपाने के लिए भारतीय महिलाओं से शादी भी कर ली थी। वहीं एक बात और सामने आई है कि दोनों देश में दाखिल होने के बाद पहले देवबंद (सहारनपुर) गए थे, जहां किसी मदरसे में एक-दो जमात (कक्षा) पढ़ने के बाद देहरादून आ गए।

खुफिया एजेंसियां दोनों बांग्लादेशी नागरिकों के आतंकी कनेक्शन के बारे में जानकारी जुटा रही है, लेकिन प्रारंभिक जांच में अभी तक ऐसी कोई बात सामने नहीं आई, जिससे उनकी गतिविधियों पर शक पैदा होगा। वहीं, सबसे ज्यादा हैरान करने वाली बात यह कि मीट कारोबारी नजरूल हसन यहां बीते 29 साल से रह रहा था। उसने यहां शादी भी कर ली थी। उसकी बीवी की पिछले साल मौत भी हो चुकी है।

उधर, सहफुल 19 साल से यहां रहा था। सहफुल यहां राजमिस्त्री का काम करता था, उसने भी भारतीय महिला से शादी कर ली है। सवाल यह भी है कि दोनों यहां वर्षों से रह रहे थे, लेकिन किसी को भी इसकी भनक तक नहीं लगने पाई।

अन्य इलाके भी आए रडार पर

इंस्पेक्टर एलआइयू बलवंत सिंह ने बताया कि दून के कई इलाके ऐसे हैं, जहां बांग्लादेशी नागरिक रहते हैं। इन इलाकों में रह रहे लोगों की कुंडली खंगाली जा रही है।

Leave a Comment