Share
जब विंग कमांडर अभिनंदन ने पाक अधिकारी को कहा ‘I am not suppose to telling you’

जब विंग कमांडर अभिनंदन ने पाक अधिकारी को कहा ‘I am not suppose to telling you’

जब विंग कमांडर अभिनंदन ने पाक अधिकारी को कहा 'I am not suppose to telling you'

बालाकोट एयरस्‍ट्राइक में शामिल रहे विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को सरकार वीर चक्र से सम्‍मानित करेगी। अभिनंदन अपने मूछों और पाक अधिकारी को दिए जवाब से सभी को याद हैं।

नई दिल्‍ली विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान को वीर चक्र दिए जाने की घोषणा से हर भारतीय बेहद खुश है। अभिनंदन बालाकोट एयर स्‍ट्राइक का हिस्‍सा थे। इस दौरान उन्‍होंने बालाकोट में जैश ए मोहम्‍मद के आतंकी ठिकानों पर बमबारी की जिसमें कई आतंकी भी मारे गए थे। आपको बता दें कि वर्तमान मिग -21 बाइसन के पायलट हैं। गौरतलब है कि बालाकोट एयरस्‍ट्राइक 14 फरवरी 2019 को पुलवामा हमले के जवाब में की गई थी। इस आत्‍मघाती हमले में सीआरपीएफ के 40 जवान मारे गए थे। इसको लेकर पूरा देश गुस्‍से में था और पाकिस्‍तान को उसकी ही भाषा में जवाब देने के पक्ष में था।

पाक को नहीं लगी खबर 
26 फरवरी 2019 को भारतीय वायुसेना के लड़ाकू विमानों ने बालाकोट में आतंकियों के ठिकानों पर बमबारी की। पाकिस्‍ताना के लिए यह घटना हैरान और परेशान करने वाली इसलिए भी थी क्‍योंकि भारतीय विमानों के पाकिस्‍तान के एयरस्‍पेस में घुसने की भनक तक उन्‍हें नहीं लग सकी थी। इतना ही नहीं जब तक पाकिस्‍तान को इसकी जानकारी हुई तब तक भारतीय वायुसेना के विमान अपने काम को अंजाम दे चुके थे। बालाकोट में एयरस्‍ट्राइक करने के बाद जब अभिनंदन वापस लौट रहे थे तब उनका सामना पाकिस्‍तान के लड़ाकू विमान एफ-16 से हुआ था, जिसको उन्‍होंने मार गिराया था।

अभिनंदन से मार-पिटाई 
इस दौरान उनके विमान को भी नुकसान पहुंचा जिसके बाद वह विमान से सकुशल इजेक्‍ट करने में सफल रहे थे। लेकिन इस दौरान जहां वो उतरे वह एलओसी से करीब सात किमी दूर होरान गांव था। यह इलाका गुलाम कश्‍मीर में आता है। उतरने के बाद वह कुछ दूर तक लोगों और पाकिस्‍तान आर्मी से छुपते हुए भागे भी। इस दौरान उन्‍होंने अपने पास मौजूद जरूरी दस्‍तावेजों को निगल लिया जिससे दुश्‍मन उनके इरादों का पता न लगा सके। हालांकि कुछ दूरी पर पाकिस्‍तान आर्मी के जवानों और कुछ स्‍थानीय लोगों ने उन्‍हें पकड़ लिया और उनके साथ मार पिटाई भी की गई थी। उनके साथ मार‍ पिटाई का वीडियो भी काफी वायरल हुआ था।

अभिनंदन का पाक अधिकारी को जवाब 
उनके गिरफ्तार किए जाने के बाद पाकिस्‍तान आर्मी ने एक वीडियो जारी किया जिसमें एक अधिकारी वर्तमान से सवाल पूछ रहा था। उसके पूछे गए सवालों में से एक का जवाब उन्‍होंने कुछ यूं दिया था Sorry, I am not suppose to telling you. इस दौरान उन्‍होंने अपनी पहचान विंग कमांडर के रूप में बताई लेकिन पाक अधिकारी के किसी भी दूसरे सवाल का जवाब नहीं दिया। पूछताछ के दौरान उनके हाथ पीछे बंधे थे और आंखों पर पट्टी बंधी थी। उनके चेहरे पर चोट के निशान थे।

पाक आर्मी का वीडियो 
पाकिस्‍तान आर्मी ने इसके बाद एक और वीडियो जारी किया जिसमें अभिनंदन ये कहते दिखाई दे रहे थे कि पाकिस्‍तान आर्मी ने गांव वालों से उन्‍हें बचाया और उनकी फर्स्‍ट एड दिया। इसके बाद वह उन्‍हें अपने यूनिट ऑफिस और फिर अस्‍पताल ले गए जहां उनकी पट्टी गई। एक वीडियो में अभिनंदन चाय पीते भी दिखाई दिए। इस दौरान उन्‍होंने पाकिस्‍तानी आर्मी के अधिकारी की निजी तौर पर तारीफ भी की।

बिना शर्त रिहा हुए पाकिस्‍तान 
पाकिस्‍तान ने भारत के कड़े तेवरों के आगे झुकते हुए विंग कमांडर अभिनंदन बिना शर्त रिहा करने का फैसला लिया। 28 फरवरी 2019 को खुद प्रधानमंत्री इमरान खान ने इसकी घोषणा सदन में की और कहा कि वह भारत से जंग नहीं चाहते हैं। उन्‍होंने अपने इस कदम को पीस गेस्‍चर का नाम दिया। पाकिस्‍तान की संसद के संयुक्‍त सत्र को संबोधित करते हुए इमरान खान ने भारत पर कई तरह के आरोप भी लगाए। यहां तक की पुलवामा हमले को भारत सरकार की ही साजिश करार दिया। उन्‍होंने यहां तक कहा कि पाकिस्‍तान पर यदि भारत ने हमला किया तो वह जवाब जरूर देगा। 2 फरवरी को पाकिस्‍तान ने अभिनंदन को वाघा बॉर्डर पर भारतीय अधिकारियों के हवाले कर दिया।

बालाकोट एयरस्‍ट्राइक ने उड़ाई नींद 
बालाकोट एयरस्‍ट्राइक ने पाकिस्‍तान की नींद उड़ाने का काम किया था। इसके डर से सहमे पाकिस्‍तान तुरंत अपना एयरस्‍पेस भारतीय विमानों समेत सभी विमानों के लिए बंद कर दिया था। इस डर को इस तरह से भी देखा जा सकता है कि 11 जुलाई को पाकिस्‍तान ने एयरस्‍पेस को बंद करने की सीमा को बढ़ाया था। इसके कुछ दिन बाद 16 जुलाई को पाकिस्‍तान ने अपना एयरस्‍पेस खोल दिया। पाकिस्‍तान सरकार ने इसको गुडविल गेस्‍चर का नाम दिया, लेकिन, हकीकत ये थी कि एयरस्‍पेस को बंद करने की वजह से पाकिस्‍तान को हर रोज लाखों का नुकसान हो रहा था। यह सब उस वक्‍त हुआ जब पाकिस्‍तान की अर्थव्‍यवस्‍था लगातार गिर रही थी। मजबूरन पाकिस्‍तान को छह माह बाद अपनरा एयरस्‍पेस खोलना ही पड़ा था।

अब राजस्‍थान में है पोस्टिंग 
बालाकोट एयरस्‍ट्राइक की बात करें तो पाकिस्‍तान से सकुशल वापसी के बाद कुछ दिन तक अभिनंदन की जरूरी जांच हुई और बाद में उन्‍हें राजस्‍थान के बिकानेर में तैनात किया गया। आपको बता दें कि बिकानेर में पहले भी अभिनंदन ड्यूटी कर चुके हैं। इसके अलावा उनके पिता जो खुद भारतीय वायुसेना से एयर मार्शल रिटायर हुए हैं, भी बिकानेर में पोस्‍टेड रह चुके हैं।

ये है निजी जीवन 
वर्तमान का जन्‍म 21 जून 1983 को कांचीपुरम से 19 किमी दूर तिरुपनामूर गांव में हुआ था। उनकी मां एक डॉक्‍टर थीं। चेन्‍नई के सैनिक स्‍कूल से पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्‍होंने एनडीए ज्‍वाइन किया और 19 जून 2004 को उन्‍हें भारतीय वायुसेना में फ्लाइंग ऑफिसर के रूप में कमीशन मिला। 2006 में उन्‍हें प्रमोट फ्लाइट लेफ्टिनेंट के रूप में किया गया। इसके 2010 में स्‍क्‍वाड्रन लीडर बने। मिग 21 बाइसन से पहले वह सुखोई 30 एमकेआई के पायलट थे। उनकी पत्‍नी भी रिटायर्ड स्‍क्‍वाड्रन लीडर हैं।

Leave a Comment