Share
युवराज सिंह के पिता ने कहा धोनी जैसी गंदगी क्रिकेट में हमेशा नहीं रहेगी !

युवराज सिंह के पिता ने कहा धोनी जैसी गंदगी क्रिकेट में हमेशा नहीं रहेगी !

युवराज सिंह के पिता ने दिया बड़ा बयान- कहा धोनी जैसी गंदगी क्रिकेट में हमेशा नहीं रहेगी !

पूर्व क्रिकेटर युवराज सिंह ने पिता योगराज सिंह ने धोनी पर बड़ा बयान दे दिया और कहा कि उनसे पहले टीम इंडिया का कप्तान युवी को बनना चाहिए था।

नई दिल्ली, हाल ही में भारतीय क्रिकेट टीम से रिटायरमेंट लेने वाले क्रिकेटर युवराज सिंह के पिता ने महेंद्र सिंह धोनी को लेकर बहुत ही बड़ा बयान दिया है। युवी के पिता व पूर्व भारतीय क्रिकेटर योगराज सिंह ने अंबाती रायुडू के संन्यास लेने की बात पर महेंद्र सिंह धोनी को अपने निशाने पर लेते हुए बड़ा बयान दे डाला है। योगराज ने ट्वीट कर कहा कि वो रायुडू के संन्यास लेने के फैसले से काफी दुखी हैं और उन्होंने जल्दबाजी में ये फैसला किया। योगराज ने अंबाती से अपील की कि वो इस फैसले को वापस ले लें और घरेलू क्रिकेट में रन बनाकर खुद को साबित करें। आपको बता दें कि विश्व कप टीम में जगह ना मिलने से आहत अंबाती रायुडू ने क्रिकेट के अलविदा कह दिया था।

भारत के लिए एक टेस्ट मैच और छह वनडे खेलने वाले योगराज सिंह (Yograj Singh) ने अंबाती रायुडू के संन्यास का ठिकरा धोनी (Dhoni) के सिर पर फोड़ दिया। उन्होंने धोनी की तुलना गांगुली के साथ करते हुए कहा कि वो युवाओँ को मौका देते थे जबकि धोनी ने ऐसा नहीं किया। योगराज ने कहा कि रायुडू को खेलते रहना चाहिए था और उन्हें घरेलू क्रिकेट में रन बनाकर खुद को साबित करना चाहिए था क्योंकि अभी उनमें काफी क्रिकेट बाकी है।

योगराज ने अपने ट्वीट में लिखा कि रायुडू मेरे बच्चे तुमने संन्यास का फैसला जल्दबाजी में ले लिया। संन्यास से वापस आ जाओ और उन्हें अपनी काबिलियत दिखाओ। एमएस धोनी जैसे लोग हमेशा क्रिकेट में नहीं रहते। उसके जैसी गंदगी हमेशा नहीं रहेगी।

अपने दूसरे ट्वीट में योगराज सिंह ने लिखा कि आप हर जगह बुरे इंसान को पाएंगे। युवराज सिंह धोनी से पहले टीम इंडिया का कप्तान बनना डीजर्व करते थे।

आपको बता दें कि अंबाती रायुडू का चयन वर्ल्ड कप 2019 (ICC cricket world cup 2019) के लिए टीम इंडिया (Team India) में नहीं हुआ था। इसके बाद टीम के दो खिलाड़ी शिखर धवन और विजय शंकर चोटिल होकर विश्व कप से बाहर हो गए फिर भी अंबाती को टीम में शामिल नहीं किया गया। हालांकि विश्व कप से पहले वो नंबर चार के लिए सबसे बड़े दावेदार थे।

Leave a Comment