उत्‍तराखंड में कोरोना का बढ़ाता कहर, 143 नए मामले सामने आए

प्रदेश में कोरोना की रफ्तार थमने का नाम नहीं ले रही है। जुलाई की शुरुआत में जहां उत्तराखंड सुकून की ओर बढ़ रहा था, अब स्थिति चिंताजनक होती जा रही है। पिछले 26 दिन में रिकवरी रेट में करीब 20 फीसद की गिरावट आई है। तीन जुलाई को प्रदेश में एक्टिव केस पांच सौ से नीचे आ गए थे, लेकिन अब यह आंकड़ा ढाई हजार के करीब पहुंच चुका है। रविवार को भी प्रदेश में कोरोना के 143 नए मामले आए। जिसके बाद संक्रमितों का आंकड़ा 6104 पहुंच गया है। इनमें से 3566 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं, जबकि 2437 अभी विभिन्न अस्पतालों व कोविड केयर सेंटर में भर्ती हैं। वहीं, 38 मरीज राज्य से बाहर चले गए हैं और 63 की मौत हो चुकी है।

स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार रविवार को 2495 सैंपल की जांच रिपोर्ट मिली। इनमें 2352 की रिपोर्ट निगेटिव और 143 की पॉजिटिव आई है। सर्वाधिक 51 मामले ऊधमसिंहनगर में सामने आए हैं, जिनमें 40 पूर्व में संक्रमित मरीजों के संपर्क में आए लोग हैं। इसके अलावा दो लोग मुंबई व एक शख्स बरेली से लौटा है। बाकी के आठ लोग फ्लू क्लीनिक में अपनी जांच कराने आए थे। देहरादून में भी कोरोना के 46 नए मामले आए हैं।

इनमें 21 पूर्व में संक्रमित मरीजों के संपर्क में आए लोग हैं। हरिद्वार में 26 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है, जिनमें 10 पूर्व संक्रमितों के संपर्क में आए लोग हैं। वहीं अन्य व्यक्तियों की ट्रेवल हिस्ट्री अभी पता की जा रही है। नैनीताल में पांच नए संक्रमित मिले हैं। इनमें एक शख्स फ्लू क्लीनिक में जांच कराने पहुंचा था, जबकि एक व्यक्ति पूर्व में संक्रमित मरीज के संपर्क में आया है। तीन की ट्रेवल हिस्ट्री अभी पता नहीं चली है। उत्तरकाशी में छह व्यक्तियों में कोरोना संक्रमण की पुष्टि हुई है। इनमें भी पांच पूर्व में संक्रमित व्यक्तियों के संपर्क में आए हैं। अल्मोड़ा और पौड़ी में तीन-तीन रिपोर्ट पॉजिटिव आई हैं। इसके अलावा चमोली, रुद्रप्रयाग व टिहरी में कोरोना का एक-एक नया मामला आया है। उधर, रविवार को 71 मरीज डिस्चार्ज भी किए गए। इनमें 43 देहरादून, 12 टिहरी, नौ चंपावत, पांच हरिद्वार और दो उत्तरकाशी से हैं।

विकासनगर में बना कंटेनमेंट जोन, 13 हुई संख्या

विकासनगर के वार्ड नंबर 10 स्थित दिनकर विहार में रविवार को एक नया कंटेनमेंट जोन बनाया गया। इसी के साथ दून में कंटेनमेंट जोन की संख्या बढ़कर 13 हो गई है। अगले 28 दिन तक किसी भी व्यक्ति को पाबंद इलाके से बाहर जाने की अनुमति नहीं होगी। उधर, जिला प्रशासन कोरोना संक्रमण की रोकथाम के लिए मास्क न पहनने वाले व्यक्तियों के खिलाफ निरंतर कार्रवाई कर रहा है। रविवार को भी ऐसे 48 चालान किए गए।

पीडब्ल्यूडी कार्यालय छह दिन के लिए सील

लोक निर्माण विभाग में कार्यरत एक जेई की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। जेई को कोटेश्वर स्थित आइसोलेशन वार्ड में शिफ्ट कर दिया गया है। जबकि, लोनिवि के ईई सहित 45 इंजीनियर, अकाउंटेंट और कर्मचारियों के सैंपल लिए गए हैं। जेई के मकान मालिक के परिवार के चार सदस्यों के भी सैंपल लिए गए। इसके साथ ही रुद्रप्रयाग स्थित लोनिवि कार्यालय को छह दिनों के लिए सील कर दिया गया। लोनिवि रुद्रप्रयाग में कार्यरत एक जेई बीते कुछ दिन पहले हरिद्वार से रुद्रप्रयाग लौटे थे। पहले जेई के पिता की रिपोर्ट पॉजिटिव आई, इसके बाद जेई की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई।

विकासनगर व ऋषिकेश में पूरा परिवार कोरोना की जद में

दून को कोरोना एक भी दिन सुकून नहीं लेने दे रहा है। यहां अब हर दिन तेजी से मामले बढ़ रहे हैं। रविवार को भी जिले में 46 लोग में कोरोना की पुष्टि हुई है। बता दें, जिले में अब तक कुल 1437 में कोरोना की पुष्टि हो चुकी है। जिनमें करीब 65 फीसद यानि 934 स्वस्थ हो गए हैं। जिले में फिलहाल 440 एक्टिव केस हैं, जबकि 26 मरीज राज्य से बाहर भी जा चुके हैं। कोरोना संक्रमित 37 की अब तक जिले में मौत भी हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग से मिली जानकारी के अनुसार देहरादून में जिन 46 लोगों में कोरोना की पुष्टि हुई है, उनमें 26 सुद्धोवाला जेल से हैं। वही सेना के दो जवानों में भी कोरोना संक्रमण पाया गया है। उधर, विकासनगर में एक परिवार के पांच लोग में कोरोना की पुष्टि हुई है। ऋषिकेश के भी एक परिवार के पांच लोग पॉजिटिव आए हैं। जिनमें एक 7 साल और एक पांच साल का बच्चा भी शामिल है। आठ मामले एम्स ऋषिकेश से जुड़े हैं। इनमें एक नर्सिंग ऑफिसर व नर्सिंग की एक छात्रा भी शामिल है।

जिला कारागार में 26 और बंदी संक्रमित

जिला कारागार में भी कोरोना पांव पसारता दिख रहा है। रविवार को यहां 26 और बंदी कोरोना पॉजिटिव पाए गए। इससे पहले शनिवार को भी कारागार में सात बंदियों में कोरोना के संक्रमण की पुष्टि हुई थी। इसके बाद जेल में कोरोना के मरीजों की संख्या बढ़कर 33 हो गई है। आज स्वास्थ्य विभाग की टीम यहां सभी बैरकों में शेष बंदियों और कैदियों की सैंपलिंग करेगी। पहले ही कोरोना के मोर्चे पर जूझ रहे दून में जिला कारागार ने शासन-प्रशासन की चिंता और बढ़ा दी है। शनिवार को हृदय रोग से पीड़ित एक बंदी की रिपोर्ट पॉजिटिव आने के बाद जेल में उसके संपर्क में आए छह और बंदियों का कोरोना टेस्ट कराया गया था। इन बंदियों की रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई तो जेल प्रशासन ने 115 और बंदियों का सैंपल टेस्ट के लिए भेजा। रविवार को इनमें से 26 की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। सभी को दून मेडिकल कॉलेज चिकित्साल में भर्ती कराया गया है। दो दिन के भीतर ढाई दर्जन से ज्यादा मामले आने से जेल के साथ ही जिला प्रशासन के माथे पर भी बल पड़ गए हैं। देहरादून का जिला कारागार प्रदेश की पहली ऐसी जेल हैं, जहां एक साथ संक्रमण के इतने मामले सामने आए हैं। अभी यहां संक्रमण के और भी मामले सामने आ सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *