घर में सुख-समृद्धि के लिए आज से गणोश चतुर्थी मनाई जा रही

घर में सुख-समृद्धि के लिए आज से गणोश चतुर्थी मनाई जा रही हैं। कोरोनाकाल के चलते इस बार गणपति की प्रतिमा पंडाल की जगह घरों में विराजमान होंगी। भक्त घर पर ही विधि-विधान पूजा करेंगे।

भगवान शिव और माता पार्वती के पुत्र गणोश का जन्म जिस दिन हुआ था, उस दिन भाद्र मास के शुक्ल पक्ष की चतुर्थी थी। इसलिए इस दिन को गणोश चतुर्थी और विनायक चतुर्थी नाम दिया गया। दून में गणोश उत्सव हर वर्ष सार्वजनिक कार्यक्रमों के बीच धूमधाम से मनाया जाता था, लेकिन इस बार कोरोना संकट काल के चलते गणपति बप्पा घर में पधारेंगे। भक्त घर में मूर्ति स्थापित करके पूजा करेंगे। गणोश उत्सव शनिवार से शुरू होगा और एक सितंबर अनंत चतुर्दशी पर विजर्सन के साथ संपन्न होगा।

आचार्य विजेंद्र प्रसाद ममगाईं ने बताया कि शनिवार को गणोश प्रतिमा विराजमान करने का शुभ मुहूर्त सुबह छह से नौ बजकर 25 मिनट और 11:30 से 12:30 तक रहेगा। मान्यता है कि भगवान गणोश का जन्म मध्याह्न् में हुआ था, इसलिए मध्याह्न्न को ही शुभ माना जाता है। गणपति को मोदक का भोग लगाएं। वहीं, ज्योतिषाचार्य सुशांत राज का कहना है कि मध्याह्न्काल में सोमवार, स्वाति नक्षत्र और सिंह लग्न में भगवान गणोश का जन्म होने के कारण यह दिन गणोश चतुर्थी या विनायक चतुर्थी के नाम से जाना जाता है। उत्तरभारत के कुछ राज्यों में मंदिरों में भगवान गणोश की अस्थायी प्रतिमा स्थापित कर मनाया जाता है।

नहीं सजाए गए पांडाल

बंगाली लाइब्रेरी पूजा समिति करनपुर के अध्यक्ष आलोक चक्रवर्ती ने बताया कि कोरोना के चलते इस बार पांडाल नहीं सजे हैं। इसलिए बड़ी मिट्टी की प्रतिमा नहीं बनाई गईं। घरों में पूजा होगी, इसके लिए लोग बाजार से ही छोटी प्रतिमा की खरीदारी कर रहे हैं। गणोश उत्सव धामावाला समिति के सचिव संतोष माने ने बताया कि प्रतिमा स्थापित होने के तीन दिन बाद 24 अगस्त को विसर्जित की जाएगी। गणोश उत्सव समिति पटेल नगर के मीडिया प्रभारी भूपेंद्र चड्ढा ने बताया कि इस बार भव्य आयोजन नहीं होंगे, इसलिए घर में ही गणपति पूजे जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *