वर्ष 2012 से लटके हरिद्वार बाईपास रोड का होगा कायाकल्प

देहरादून : वर्ष 2012 से लटके हरिद्वार बाईपास रोड का चौड़ीकरण अब संभव हो सकेगा। राष्ट्रीय राजमार्ग खंड, डोईवाला ने करीब पांच किलोमीटर लंबे इस राष्ट्रीय राजमार्ग के तीन किलोमीटर हिस्से को चौड़ा करने के लिए केंद्र सरकार को 12.5 करोड़ रुपये का प्रस्ताव भेजा है। जबकि शेष हिस्से पर नया प्रस्ताव बनाकर चौड़ीकरण का कार्य किया जाएगा। हाईकोर्ट में वाद लंबित होने के चलते ही अधिकारी एकमुश्त चौड़ीकरण कार्य करने से परहेज कर रहे हैं।

सितंबर 2012 में बाईपास रोड को फोर लेन बनाने का काम शुरू किया गया था। तब राष्ट्रीय राजमार्ग खंड ने 13 करोड़ रुपये का इस्टीमेट तैयार कर टेंडर आमंत्रित किए थे। दिलचस्प यह कि रेसकोर्स स्थित जिस अमृत डेवलपर्स के नाम पर टेंडर जारी किया गया, उसने 18 फीसद कम दर (करीब 11 करोड़ रुपये) पर यह ठेका लिया। इसके चलते पहले से ही काम पर संकट के बादल छाने लगे थे और जब लंबे समय बाद भी कार्य की प्रगति न के बराबर रही तो राजमार्ग अधिकारियों ने उससे काम छीन लिया। इसके विरोध में ठेकेदार ने हाईकोर्ट में वाद दायर कर दिया था और तभी से प्रकरण हाईकोर्ट में विचाराधीन है।

राष्ट्रीय राजमार्ग के अधीक्षण अभियंता राजेश शर्मा के मुताबिक, कुछ समय पहले हाईकोर्ट से निर्माण कराने की हरी झंडी मिली तो दोबारा से टेंडर किए गए। हालांकि, काम करने की स्वीकृति हाईकोर्ट के अग्रिम आदेश के अधीन होने के चलते सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्रालय से काम को स्वीकृति नहीं मिल पाई। लिहाजा, तय किया गया कि बाईपास रोड के ब्लैक स्पॉट (दुर्घटना संवेदनशील क्षेत्र) वाले हिस्सों पर चौड़ीकरण कार्य किया जाए। ऐसे करीब तीन किलोमीटर भाग का चयन कर 12.5 करोड़ रुपये का प्रस्ताव मंत्रालय को भेज दिया गया है और वहां से सकारात्मक संकेत मिले हैं। हाईकोर्ट में लंबित वाद को देखते हुए शेष भाग पर नए सिरे से प्रस्ताव बनाकर चौड़ीकरण कार्य किया जाएगा।

चौड़ीकरण में पांच जंक्शन पर होगा काम 

राष्ट्रीय राजमार्ग खंड, डोईवाला ने राजमार्ग के जिस तीन किलोमीटर हिस्से को चौड़ा करने का निर्णय लिया है, उसमें विधानसभा तिराहे से लेकर सरस्वती विहार के बाहर तक का भाग शामिल है। साथ ही चौड़ीकरण कार्य में राजमार्ग पर विधानसभा, रिस्पना पुल, मोथरोवाला, पुरानी पुलिस चौकी व सरस्वती विहार के जंक्शन को और चौड़ा बनाया जाएगा।

इसलिए जरूरी है चौड़ीकरण 

यह राजमार्ग एक छोर पर विधानसभा तिराहे तक व दूसरे छोर पर आइएसबीटी तक फोर लेन है। साथ ही इस राजमार्ग पर व्यस्ततम समय में वाहनों की संख्या प्रति घंटे 5500 के पार हो जाती है। लिहाजा बाईपास रोड वाले भाग पर न सिर्फ जाम की स्थिति रहती है, बल्कि आधे-अधूरे काम के चलते मुख्य सड़क व कच्चे भाग में काफी अंतर आ गया है। इस कारण आए दिन हादसे भी होते रहते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *