पतंजलि ने कोरोना से बचाव की दवा ढूंढी, संक्रमण से शतप्रतिशत बचाव का दावा

देहरादून। योगगुरु बाबा रामदेव ने दावा किया है कि उन्होंने कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए दवा ढूंढ ली है। इस दौरान बाबा रामदेव ने यह दवा लांच की।
इस आयुर्वेदिक दवा के बारे में विस्तार से बताने के लिए आज बाबा रामदेव हरिद्वार में प्रेस कांफ्रेंस कर रहे हैं। जिसमें  योग गुरु बाबा रामदेव और आचार्य बालकृष्ण पतंजलि आयुर्वेद की औषधि श्दिव्य कोरोनिल टैबलेट का कोरोना संक्रमित मरीजों पर क्लीनिकल ट्रायल के परिणामों की घोषणा कर रहे हैं।
पतंजलि योगपीठ की ओर से दावा किया गया है कि कोरोना टैबलेट पर हुआ यह शोध पतंजलि रिसर्च इंस्टीट्यूट हरिद्वार और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस जयपुर के संयुक्त प्रयासों का परिणाम है। दिव्य कोरोनील टैबलेट का निर्माण  आयुर्वेद लिमिटेड हरिद्वार में किया जा रहा है।

योगगुरु बाबा रामदेव की पतंजलि कंपनी का दावा है कि कोरोना वायरस को मात देने वाली ये दवाई आर्युवेदिक है, इसका नाम श्कोरोनिलश् दिया गया है। बाबा रामदेव ने कहा कि पूरी रिसर्च के साथ हमने इसे तैयार किया है। दवा का सौ फीसदी रिकवरी रेट है और शून्य फीसदी डेथ रेट है। भले ही लोग अभी हमसे इस दावे पर प्रश्न करें, हमने सभी वैज्ञानिक नियमों का पालन किया है। हमारे पास हर सवाल का जवाब है।

रामदेव ने कहा कि इस दवा में सिर्फ देसी सामान का इस्तेमाल किया गया है, जिसमें मुलैठी-काढ़ा समेत गिलोय, अश्वगंधा, तुलसी, श्वासरि का भी इस्तेमाल किया गया है। अगले सात दिनों में पतंजलि के स्टोर से दवा को लिया जा सकता है, इसके अलावा सोमवार को एक व्तकमतदपस ।च्च् ऐप लॉन्च किया जाएगा, जिससे ये दवा घर-घर पहुंचाई जाएगी।

योगगुरु बाबा रामदेव ने दावा किया कि दवा परीक्षण के तीन दिन के भीतर 69 फीसद रोगी रिकवर हुए हैं। प्रेस कांफ्रेंस में बाबा रामदेव ने कोरोना वायरस की तीन दवा लांच की। श्वासारी बटी, दिव्य कोरोनिल टैबलेट और अणुनासिका तेल। इनका उपयोग एक साथ करना है । 100 लोगों पर दवा का ट्रायल किया गया। ये सभी 15 से 65 आयु वर्ग के हैं। जल्द ही क्रिटिकल मरीजों पर सेकंड ट्रायल किया जाएगा। अणुनासिका तेल तीन से पांच बूंद नाक में डालने से श्वास नलिका में कोरोना के प्रभाव को खत्म कर देता है। बाबा रामदेव ने दावा किया कि ये दवा ब्लडप्रेशर, हार्ट बीट और नाड़ी को भी कंट्रोल करती है। ये दवा श्वसन तंत्र को मजबूत करती है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *